ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 247




                                               

ग्रेट बियर झील

ग्रेट बेयर झील, उत्तरी अमेरिका के बोरियल जंगल की एक झील है। यह पूरी तरह से कनाडा में स्थित वहां की सबसे बड़ी झील है । यह उत्तरी अमेरिका में चौथी सबसे बड़ी और दुनिया में आठवीं सबसे बड़ी झील है। झील उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में, आर्कटिक सर्कल पर उत्तर ...

                                               

टगिश झील

टगिश झील कनाडा के ब्रिटिश कोलम्बिया और युकॉन प्रान्तों में स्थित एक झील है। यह १०० किमी लम्बी और २ किमी चौड़ी है। इस झील के दो बाज़ु हैं। एक भुजा, जिसे टाकु भुजा कहा जाता है अधिकतर ब्रिटिश कोलम्बिया प्रान्त में है जबकि दूसऱीई भुजा, जिसे विन्डी भु ...

                                               

अक्साई चिन झील

अक्साई चिन झील लद्दाख़ के अक्साई चिन क्षेत्र में स्थित एक बन्द जलसम्भर झील है। इस इलाक़े को भारत अपने जम्मू व कश्मीर राज्य का अभिन्न अंग मानता है, लेकिन इसपर चीन का नियंत्रण है जो इसे शिंजियांग प्रान्त के ख़ोतान विभाग के भाग के रूप में प्रशासित क ...

                                               

अरहई झील

अरहई के नाम का मतलब कान के आकार का समुद्र होता है क्योंकि यहाँ के निवासियों को यह इसी आकार की प्रतीत होती थी। ध्यान दें कि हई का मतलब झील होता है उदाहरण: चिंगहई झील इसलिए औपचारिक रूप से इसे अरहई या अर झील कहा जाता है न कि अरहई झील। पुराने ज़माने ...

                                               

चिंगहई झील

चिंगहई झील, कोको नूर या कूकूनोर चीन के चिंगहई प्रान्त में स्थित एक खारे पानी की झील है जो चीन की सबसे बड़ी झील भी है। मंगोल भाषा में कोको नूर का मतलब नीली झील होता है और चीनी भाषा में चिंग हई का अर्थ भी यही है, हालांकि इस झील का मूल नाम मंगोल-भाष ...

                                               

ताइहू झील

ताइहू झील या ताई झील) वूशी, चीन के यांग्त्ज़ी डेल्टा मैदान में स्थित एक बड़ी ताजे पानी की झील हैं। झील जिआंगसू से जुड़ा हैं, और इसका दक्षिणी तट झेजियांग की सीमा बनाता हैं। 2.250 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्और 2 मीटर की औसत गहराई के साथ, यह चीन में पोय ...

                                               

दोंगतिंग झील

दोंगतिंग झील चीन के पूर्वोत्तरी हूनान प्रान्त में एक बड़ी लेकिन कम गहराई वाली झील है। यह यांग्त्से नदी की द्रोणी में स्थित है इसलिए इसका अकार मौसमों के साथ बढ़ता-घटता है। आमतौपर इसका क्षेत्रफल २,८२० किमी २ होता है जो बाढ़ के मौसम में बढ़कर २०,००० ...

                                               

पांगोंग त्सो

पांगोंग त्सो हिमालय में एक झील है जिस्की उचाई लगभग 4500 मीटर है। यह 134 कीमी लंबी है और भारत के लद्दाख़ से तिब्बत पहूँचती है। जनवादी गणराज्य चीन में झील की दो तिहाई है। इसकी सबसे चौड़ी नोक में सिर्फ़ 8 कीमी चौड़ी है। शीतकाल में, नमक पानी होने के ...

                                               

पोयांग झील

पोयांग झील जिआंगशी प्रांत में स्थित, चीन की सबसे बड़ी ताजे पानी की झीलों में से एक हैं। इस झील में गन, एक्सिन और ज़िउ नदियाँ आकर मिलती हैं, जो एक नहर के माध्यम से यांग्त्ज़ी से जुड़ते हैं। पोयांग झील के क्षेत्रफल में नाटकीय रूप से बरसाती और सूखे ...

                                               

बोस्तेन झील

बोस्तेन झील या बाग़राश झील मध्य एशिया में जनवादी गणतंत्र चीन द्वारा नियंत्रित शिंजियांग प्रान्त के बायिनग़ोलिन मंगोल स्वशासित विभाग में स्थित मीठे पानी की एक झील है। यह तारिम द्रोणी के पूर्वोत्तरी छोपर स्थित है और शिंजियांग प्रान्त की सबसे बड़ी झ ...

                                               

नम त्सो

नम त्सो या नमत्सो, जिसे मंगोल भाषा में तेन्ग्री नोर भी कहते हैं, तिब्बत की एक पर्वतीय झील है। यह तिब्बत के ल्हासा विभाग के दमझ़ुंग ज़िले और नगछु विभाग के पलगोन ज़िले की सरहद पर स्थित है। इसका पानी खारा है। लगभग १५,००० फ़ुट पर स्थित यह झील दुनिया ...

                                               

ताऊपो झील

ताऊपो झील न्यूज़ीलैण्ड की सबसे बड़ी झील है। यह उस देश के उत्तर द्वीप पर स्थित है और ६१६ वर्ग किमी का सतही क्षेत्रफल रखती है। तुलना के लिये भारत की सबसे बड़ी मीठे पानी की झील वुलर झील है जो बारिश के मौसम में अपने सबसे विशाल रूप में भी केवल २६० वर् ...

                                               

रावल झील

रावल झील पाकिस्तान में स्थित है और रावल झील एक कृत्रिम जलाशय है | जो रावलपिंडी और इस्लामाबाद के शहरों के लिए पानी की जरूरत प्रदान करता है। रावल झील एक बहुत बड़ी झील है पाकिस्तान में |मार्गांग हिल्स से आने वाली कुछ अन्य छोटी धाराओं के साथ कोरंग नद ...

                                               

आना सागर झील

आनासागर झील व अजमेर नगर का निर्माण पृथ्वीराज चौहान के पितामह अरुणोराज या आणाजी चौहान ने बारहवीं शताब्दी के मध्य 1135-1150 ईस्वी करवाया था। आणाजी द्वारा निर्मित करवाये जाने के कारण ही इस झील का नामकरण आणा सागर या आना सागर प्रचलित माना जाता है।

                                               

कर्ण झील

कर्ण झील हरियाणा के करनाल शहर के पास स्थित है। यह राज्य की राजधानी चंडीगढ तथा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली दोनों से लगभग १२५ किमी की दूरी पर है। इस कारण से यह स्थाइन दो महत्वपूर्ण स्थानों के यात्रियों के लिये विश्राम स्थल का कार्य करता है।

                                               

कावर झील

कावर झील एशिया का सबसे बड़ी शुद्ध जल की झील है और यह पक्षी अभयारण्य भी है। इस बर्ड संचुरी मे ५९ तरह के विदेशी पक्षी और १०७ तरह के देसी पक्षी ठंडे के मौसम मे देखे जा सकते है। यह बिहार राज्य के बेगूसराय में है। पुरातत्वीय महत्व का बौद्धकालीन हरसाइन ...

                                               

कृशनसर

कृशनसर या कृष्णसर भारत के जम्मू व कश्मीर राज्य के गान्दरबल ज़िले के सोनमर्ग क़स्बे के पास स्थित एक स्वच्छ पर्वतीय झील है। ३,७१० मीटर पर स्थित यह झील प्रसिद्ध किशनगंगा नदी का सर्वप्रथम स्रोत है। इसकी लम्बाई ०.९५ किमी और चौड़ाई ०.६ किमी है।

                                               

कोलवई झील

यह तमिलनाडु में कांचीपुरम् जिले के चेंगलपट्टू कस्बे के दक्षिणी सिरे पर स्थित है। इससे सता हुआ चेंगलपट्टू रेलवे स्टेशन है जिससे झील का खूबसूरत नजारा देखा जा सकता है। यहाँ तमिलनाडु पर्यटन विकास निगम की तरफ से बोटिंग की व्यवस्था है।

                                               

खुर्पाताल

खुर्पाताल भारत के उत्तराखंड राज्य के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल नैनीताल से 12 किलोमीटर आगे स्थित एक झील है। खुर्पाताल का नाम खुर्पाताल इसलिए पड़ा क्योंकि इसकी आकृति खुर के समान दिखती है। नवंबर २०१६ में उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने कई झीलों को इको-सेंसिटि ...

                                               

गजनेर झील

गजनेर झील जो कि राजस्थान के बीकानेर ज़िले से ३२ किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक छोटी सी झील है । यह लगभग ०.४ किलोमीटर लम्बी और १८३ अथवा २७४ मीटर चौड़ी है।

                                               

गाडसर

गाडसर या येमसर भारत के जम्मू व कश्मीर राज्य के गान्दरबल ज़िले के सोनमर्ग क़स्बे के पास स्थित एक स्वच्छ पर्वतीय झील है। ३,६०० मीटर पर स्थित इस झील की लम्बाई ०.८५ किमी और चौड़ाई ०.७६ किमी है।

                                               

कांकरीया झील

कांकरीया झील गुजरात की सबसे बडी झील है। इसकी परिधी करीब 2.25 किलोमिटर की है। कांकरीया झील अहमदाबाद के दक्षिण में स्थित मणीनगर उपनगरीय इलाके में आई हुई है। कांकरीया झील का निर्माण सुल्तान अहमद शाह ने करवया था। झील के मध्य में नगीना वाडी नामक उपवन ...

                                               

फुलहर झील

फुलहर झील, जिसे पंगैती फुलहर ताल या गोमत ताल भी कहा जाता है, उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में माधो टांडा के समीप स्थित एक झील है। गोमती नदी का उद्गम इसी झील से माना जाता है।

                                               

महाराणा प्रताप सागर

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के शिवालिक पहाड़ियों के आर्द्र भूमि पर ब्यास नदी पर बाँध बनाकर एक जलाशय का निर्माण किया गया है जिसे महाराणा प्रताप सागर नाम दिया गया है। इसे पौंग जलाशय या पौंग बांध के नाम से भी जाना जाता है। यह बाँध 1975 में बनाया ग ...

                                               

मानसबल झील

मानसबल​ झील या मनसबल झील जम्मू व कश्मीर राज्य में श्रीनगर से उत्तर में स्थित एक पर्वतीय झील है। इसके किनारे तीन बस्तियाँ हैं - जरोकबल, कोंडाबल और गान्दरबल। इसके स्वच्छ पानी के किनारे कमल के फूल उगे हुए हैं और १३ मीटर की अधिकतम गहराई के साथ यह जम् ...

                                               

विशनसर

विशनसर भारत के जम्मू व कश्मीर राज्य के गान्दरबल ज़िले के सोनमर्ग क़स्बे के पास स्थित एक स्वच्छ पर्वतीय झील है। ३,७१० मीटर पर स्थित यह झील प्रसिद्ध किशनगंगा नदी का स्रोत है। इसकी लम्बाई १.० किमी और चौड़ाई ०.६ किमी है।

                                               

वुलर झील

वुलर​ झील जम्मू व कश्मीर राज्य के बांडीपोरा ज़िले में स्थित एक झील है। यह भारत की मीठे पानी की सबसे बड़ी झील है। यह झेलम नदी के मार्ग में आती है और झेलम इसमें पानी डालती भी है और फिर आगे निकाल भी लेती है। मौसम के अनुसार इस झील के आकार में बहुत वि ...

                                               

संगेस्तर झील

संगेस्तर झील या संगेस्तर त्सो भारत के अरुणाचल प्रदेश राज्य के तवांग ज़िले में स्थित एक झील है। यह तवांग शहर से बुम ला के मार्ग पर १६,५०० फ़ुट की ऊँचाई पर स्थित है। यह झील सन् १९९७ में बनी कोयला फ़िल्म में माधुरी दीक्षित के एक गाने की पृष्ठभूमि थी ...

                                               

तेलेत्स्कोये झील

तेलेत्स्कोये झील रूस के अल्ताई गणतंत्र विभाग में अल्ताई पर्वतों के दरम्यान स्थित एक झील है। समुद्र तल से ४३४ मीटर ऊपर स्थित यह झील ७८ किमी लम्बी, ५ किमी चौड़ी और ३२५ मीटर गहरी है। यह अल्ताई पहाड़ों में सयल्यूगेम​ पर्वत शृंखला और पश्चिमी सायन पर्व ...

                                               

आलींगार नदी

आलींगार नदी या आलींगड़ नदी पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान में स्थित एक नदी है। यह काबुल नदी की एक उपनदी है। लग़मान प्रान्त के आलीन्गार ज़िले का नाम इसी नदी पर पड़ा है और यह मेहतर लाम ज़िले से भी गुज़रती है जहाँ प्रन्तीय राजधानी मेहतर लाम इसके और अलीशिंग नद ...

                                               

कुनर नदी

कुनर नदी पूर्वी अफ़्ग़ानिस्तान और उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान की एक ४८० किमी लम्बी नदी है। यह पाकिस्तान के ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा प्रांत के चित्राल ज़िले में हिन्दु कुश पर्वतों की पिघलती हिमानियों से शुरू होती है। यहाँ इसका नाम यरख़ुन नदी होता है और मस्त ...

                                               

कुर्रम नदी

कुर्रम नदी अफ़्ग़ानिस्तान के पकतिया और ख़ोस्त प्रान्तों और पाकिस्तान के ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा प्रांत में बहने वाली ३०० किमी से ज़रा लम्बी एक नदी है। इसे वैदिक संस्कृत में ऋग्वेद में क्रुमू नदी के नाम से वर्णित किया गया था। यह अफ़्ग़ानिस्तान की तरफ़ ...

                                               

पेच नदी

पेच नदी पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान में स्थित एक नदी है। यह नूरिस्तान प्रान्त के मध्य भाग में हिन्दु कुश पर्वतों की बर्फ़ और हिमानियों से शुरु होकर दक्षिण-दक्षिणपूर्व दिशा में कुनर प्रान्त में प्रवेश करती है और प्रान्तीय राजधानी असदाबाद के पास कुनर नदी ...

                                               

बाश्गल नदी

बाश्गल नदी पूर्वोत्तरी अफ़्ग़ानिस्तान के नूरिस्तान प्रान्त में बाश्गल वादी में बहने वाली एक नदी है। यह हिन्दू-कुश पर्वतों की दक्षिणी ढलानों से शुरू होकर दक्षिण और दक्षिण-पश्चिमी दिशा में बहती है। बाश्गल कुनर नदी की एक सहायक नदी है और कुनर वादी मे ...

                                               

बरितो नदी

बरितो नदी दक्षिणपूर्वी एशिया के बोर्नियो द्वीप पर इण्डोनेशिया के दक्षिण कालिमंतान प्रान्त में स्थित एक नदी है। ८९० किमी लम्बी यह नदी मूलर पर्वतमाला से उभरती है और बंजरमासीन शहर से गुज़रती हुई जावा सागर में बह जाती है। इसी के किनारे रहने वाले डायक ...

                                               

मर्तापुरा नदी

मर्तापुरा नदी दक्षिणपूर्वी एशिया के बोर्नियो द्वीप पर इण्डोनेशिया के दक्षिण कालिमंतान प्रान्त में स्थित एक नदी है। यह बरितो नदी की मुख्य उपनदी है और बंजरमासीन शहर के पास इसका उस नदी में विलय हो जाता है, जिसके बाद बरितो नदी जावा सागर में बह जाती है।

                                               

बारो नदी

बारो नदी, जिसे स्थानीय अनुआक लोग उपेनो नदी कहते हैं, दक्षिणपश्चिमी इथियोपिया की एक नदी है जिसका कुछ अंश इथियोपिया और दक्षिण सूडान की अंतरराष्ट्रीय सीमा भी बनाता है। अबीसीनिया के पठार से शुरु होकर यह ३०६ किमी पश्चिम की ओर बहती है जिसके बाद इसका सं ...

                                               

नाहानी नदी

दक्षिण नाहानी नदी लिआर्ड नदी की एक बड़ी सहायक नदी है जो कनाडा के येलोनाईफ से ५०० किलोमीटर पश्चिम में स्थित है। यह नाहानी राष्ट्रीय उद्यान के मध्य से होकर गुजरती है। यह पश्चिम में मैकेन्ज़ी पर्वत और सेल्विन पर्वत से होकर बहती है और पूर्व में वर्जी ...

                                               

लिअर्ड नदी

लिअर्ड नदी कनाडा के यूकॉन, ब्रिटिश कोलम्बिया और उत्तरपश्चिम प्रांत से होकर गुजरती है। दक्षिणपूर्वी यूकॉन में पेली पर्वत के सेंट सीर रेंज से निकलने वाली यह नदी दक्षिण पूर्व की तरफ़ ब्रिटिश कोलम्बिया, रॉकी पर्वतमाला से गुजरती हुई यूकॉन, उत्तरपश्चिम ...

                                               

बिओबिओ नदी

बिओबिओ नदी चिली की दूसरी सबसे लम्बी नदी है। यह नदी गालीतुए इकाल्मा झील और एण्डीज़ पर्वतों से आरम्भ होकर ३८० किमी की यात्रा तय करने के बाद प्रशान्त महासागर के किनारे स्थित अराउको खाड़ी में गिरती है। इस नदी की दो सहायक नदिया मलेको नदी और लाजा नदी ह ...

                                               

गुइ नदी

गुइ जिआंग या गुइ दक्षिणी चीन के गुआंगशी प्रांत में बहने वाली एक नदी है जो शी नदी की एक उपनदी है। गुइ नदी पिंगले ज़िले में ली नदी और अन्य छोटे झरनों के मिल जाने से बनती है। वूझोऊ शहर के पास यह शुन नदी में विलय करने के बाद शी नदी कहलाती है। कश्तिया ...

                                               

दोंग नदी

दोंग नदी या दोंग जिआंग दक्षिणी चीन की एक नदी है जो प्रसिद्ध मोती नदी की पूर्वी उपनदी है। चीनी भाषा में दोंग का मतलब पूर्वी और जिआंग का मतलब नदी होता है। यह नदी है मोती नदीमुख मंडल में पहुँचकर अपना पानी दक्षिण चीन सागर में भेज देती है। मोती नदी की ...

                                               

बेई नदी

बेई नदी या बेई जिआंग दक्षिणी चीन की एक नदी है जो प्रसिद्ध मोती नदी की उत्तरी उपनदी है। चीनी भाषा में बेई का मतलब उत्तरी और जिआंग का मतलब नदी होता है। यह उत्तरी गुआंगदोंग प्रांत में एक ६३ किमी लम्बी नदी है जो मोती नदीमुख मंडल में पहुँचकर अपना पानी ...

                                               

ब्रह्मपुत्र नदी

ब्रह्मपुत्र एक नदी है। यह तिब्बत, भारत तथा बांग्लादेश से होकर बहती है। ब्रह्मपुत्र का उद्गम हिमालय के उत्तर में तिब्बत के पुरंग जिले में स्थित मानसरोवर झील के निकट होता है, जहाँ इसे यरलुंग त्संगपो कहा जाता है। तिब्बत में बहते हुए यह नदी भारत के अ ...

                                               

मिलुओ नदी

मिलुओ नदी चीन के हूनान और जिआंगशी प्रान्तों में चलने वाली एक नदी है। यह लगभग ४०० किमी लम्बी नदी जियांगशी प्रान्त के शियुशुई ज़िले में शुरू होकर हूनान प्रान्त की पिंगजियांग ज़िले से गुज़रती है और फिर प्रसिद्ध दोंगतिंग झील में बह जाती है। इस नदी के ...

                                               

मीकांग नदी

मेकांग विश्व की प्रमुख नदियों में से है जो तिब्बत से शुरु होकर चीन के युनान प्रान्त, म्यानमार, थाईलैंड, लाओस तथा कम्बोडिया से होकर बहती है। लंबाई के अनुसार यह विश्व की १३वीं सबसे बड़ी नदी है और प्रवाह के आयतन दर के अनुसार १०वीं। बहाव में अनियतता ...

                                               

मोती नदी

मोती नदी या झू नदी दक्षिणी चीन की एक मुख्य नदी है जिसका एक विस्तृत उपनदियों का मंडल है और दक्षिण चीन सागर के साथ एक बड़ा नदीमुख क्षेत्र है। इसमें तीन नदियाँ - शी नदी, बेई नदी और दोंग नदी - मिलकर नदीमुख बनती हैं, इसलिए इन्हें एक ही मोती नदी मंडल क ...

                                               

यरलुंग त्संगपो नदी

यरलुंग त्संगपो तिब्बत के पश्चिमी भाग में कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील से दक्षिणपूर्व में स्थित तमलुंग त्सो से उत्पन्न होने वाली एक नदी है। यह दक्षिण तिब्बत घाटी और यरलुंग त्संगपो महान घाटी बनाती हुई दक्षिण की ओर रुख़ कर के भारत के अरुणाचल प्रदेश र ...

                                               

लियाओ नदी

लियाओ नदी या लियाओ हे पूर्वोत्तरी चीन की मुख्य नदी है। इसकी कुल लम्बाई १,३४५ किमी है और चीन के लियाओनिंग प्रांत और लियाओदोंग प्रायद्वीप का नाम इसी नदी पर पड़ा है।

                                               

ली नदी (गुआंगशी प्रान्त)

ली जिआंग या ली दक्षिणी चीन के गुआंगशी प्रांत में बहने वाली एक नदी है। यह शिंगअन ज़िले के माओएर पर्वतों में शुरू होकर दक्षिणी दिशा में गुइलिन, यांगशुओ और पिंगले शहरों से गुज़रती हुई निकलती है। पिंगले में दो और नदियाँ इसमें विलय हो जाती हैं और इस म ...