ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 267




                                               

अल हम्रा टावर

अल हम्रा टॉवर 414 मीटर की ऊंचाई के साथ कुवैत में सबसे ऊंची गगनचुम्बी इमारत है। मीडिया दृष्य के लिए विशेष उपकरण RGBW स्थापित किये गये ; RGBW रंग नियंत्रण, हल्की रोशनी और उन्नत प्रौद्योगिक प्रोग्रामिंग उच्च शक्ति 4 1 RGBW में प्रकाश स्रोत के रूप मे ...

                                               

एम्पायर स्टेट बिल्डिंग

एम्पायर स्टेट बिल्डिंग न्यूयार्क शहर के पांचवें एवेन्यू और पश्चिम 34वें मार्ग के बीच खड़ी एक 102 मंजिली गगनचुंबी इमारत है। इसका नाम न्यूयॉर्क राज्य के उपनाम से लिया गया है। सन् 1931 में इस इमारत के निर्माण पूर्ण होने से लेकर वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के ...

                                               

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर न्यू यॉर्क के मैनहैटन में बने दो टावर रूपी इमारतों का जोड़ा था, जिसे आतंकवादी संगठन अल कायदा से जुड़े आतंकवादियों ने ११ सितंबर, २००१ को नष्ट कर दिया था। मूल वर्ल्ड ट्रेड सेंटर निचले मैनहट्टन, न्यूयॉर्क सिटी, संयुक्त राज्य अमेरि ...

                                               

विलिस टावर

विलिस टॉवर संयुक्त राज्य अमरीका के शिकागो इलिनोइस शहर में स्थित एक गगनचुंबी इमारत है। इस इमारत के निर्माण के लिए अगस्त 1970 में सीयर्स, रोईबुक एण्ड कंपनी को नियुक्त किया गया। इस भवन का निर्माण कार्य 1974 में पूर्ण हुआ। यह टॉवर उत्तरी अमरीका की सब ...

                                               

अन्तर्राष्ट्रीय वाणिज्य केन्द्र, हाँगकाँग

अन्तर्राष्ट्रीय वाणिज्य केन्द्र हाँगकाँग के पश्चिम कोलून द्वीप पर स्थित एक गगनचुम्बी इमारत है। यह इमारत हाँगकाँग की सबसे ऊँची इमारत है और यह यूनियन स्क्वैर परियोजना का भाग है जो कोलून स्टेशन के ऊपर निर्मित है। यह इमारत २०१० में बनकर यैयार हुई थी ...

                                               

इण्डिया टावर

भारत टॉवर एक 126 मंज़िला इमारत है जिसका निर्माण मुम्बई में 2010 आरंभ हुआ। निर्माण कार्य को 2011 में रोक दिया गया है। 2016 में निर्माण पुरा होने पर यह दुबई स्थित बुर्ज ख़लीफ़ा के बाद विश्व की दुसरी सबसे उंची इमारत होगी। Sahilkumar And Kfu"

                                               

शंघाई विश्व वित्तीय केन्द्र

शंघाई विश्व वित्तीय केन्द्र चीन के शंघाई नगर के पुडौंग जिले में स्थित एक गगनचुम्बी इमारत है। यह एक मिश्रित उपयोग की इमारत है जिसके भीतर होटल, कार्यालय, सम्मेलन कक्ष, प्रेक्षण डॅक और शॉपिंग मॉल इत्यादी हैं। १४ सितम्बर २००७ के दिन इस इमारत ने अपनी ...

                                               

जुबली ब्रिज

जुबिली ब्रिज भारत के पश्चिम बंगाल राज्य में हुगली नदी पर नैहाटी और बैण्डेल के बिचा में बना एक रेलवे पुल है जे अब नाकारा हो चुका है और इसके जगह, इसके बगल में ही एक नया पल निर्मित कर दिया गया है, जिसका नाम है सम्प्रीति सेतु। यह पुल हुगली नदी के दोन ...

                                               

दीघा-सोनपुर रेल-सह-सड़क पुल

दीघा-सोनपुर रेल-सह-सड़क पुल अथवा जे पी सेतु, गंगा पर बना पुल है जो पटना और सोनपुर को जोड़ता है। इसकी लम्बाई 4.556 मीटर है। 4.556 मीटर लंबाई का यह पुल भारत में असम में बोगीबील ब्रिज के बाद दूसरा सबसे लंबा रेल-सह-सड़क पुल है। दीघा-गाँधी मैदान सड़क ...

                                               

भूपेन हाजरिका सेतु

भूपेन हजारिका सेतु या ढोला-सदिया सेतु भारत का सबसे लम्बा पुल है।जिसका उद्घाटन 26 मई 2017 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कर दिया गया। यह 9.15 किलोमीटर लम्बा सेतु लोहित नदी को पार करता है, जो ब्रह्मपुत्र नदी की एक मुख्य उपनदी है। इसका एक छोर ...

                                               

मुंगेर गंगा ब्रिज

श्रीकृष्ण सेतु मुंगेर गंगा पुल, भारत के बिहार राज्य के मुंगेर में, गंगा के पार एक रेल-सह-सड़क पुल है। यह पुल मुंगेर जिला मुंगेर-जमालपुर जुड़वां शहरों को उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों से जोड़ता है। श्रीकृष्ण सेतु मुंगेर गंगा पुल बिहार में गंगा पर त ...

                                               

लोहे का पुल

दिल्ली में यमुना नदी पर बने पहले रेल तथा सड़क यातायात के लिए बना पुल को लोहे के पुल के नाम से जाना जाता है। रेलवे की तकनीकी भाषा में यह पुल नं २४९ के नाम से जाना जाता है। भारत में सबसे पुराने तथा लम्बे पुलो में अन्यतम है। इस पुल का निर्माण कार्य ...

                                               

विवेकानन्द सेतु

विवेकानंद सेतु पश्चिम बंगाल राज्य में हुगली नदी पर बनाया गया एक पुल है। यह पश्चिम बंगाल की राजधानी, महानगर कोलकाता को हुगली के दूसरे तट पर स्थित हावड़ा नगर से जोड़ती है। इस सेतु का निर्माण सन् १९३२ में, कोलकाता बंदरगाह को उसके पृष्ठ क्षेत्रों को ...

                                               

तुच्छता का नियम

सी नॉर्थकोट पार्किंस्न द्वारा १९५७ में प्रतिपादित तुच्छता के नियम का कथन है कि किसी संगठन के लोग तुच्छ मुद्दों पर चर्चा करके बहुत अधिक समय बर्बाद करते हैं जबकि उन मामलों का आर्थिक एवं वैज्ञानिक महत्व बहुत ही कम होता है। इसके उदाहरणस्वरूप पार्किंस ...

                                               

काले धन को वैध बनाना (मनी लॉन्डरिंग)

काले धन को वैध बनाना अवैध रूप से प्राप्त धन के स्रोतों को छिपाने की कला है। अंततः यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा आपराधिक आय को वैध बनाकर दिखाया जाता है। इसमें शामिल धन को नशीली दवाओं की सौदेबाजी, भ्रष्टाचार, लेखांकन और अन्य प्रकार की धोखाधड़ ...

                                               

भारत का काला धन

भारत में, अवैध तरीकों से अर्जित किया गया धन काला धन कहलाता है। काला धन वह भी है जिस पर कर नहीं दिया गया हो। भारतीयों द्वारा विदेशी बैंको में चोरी से जमा किया गया धन का निश्चित ज्ञान तो नहीं है किन्तु श्री आर वैद्यनाथन ने अनुमान लगाया है कि इसकी म ...

                                               

गॉल

गॉल पश्चिमी यूरोप का एक ऐतिहासिक और भौगोलिक विशेषण है जो फ्रांस और उसके इर्द गिर्द के प्रदेशों को कहा जाता है। इस नाम का आज कोई देश नहीं है, लेकिन पहली सदी के आसपाइस प्रदेश को गॉल के नाम से ही जानते थे। प्रसिद्ध फ़्रांसीसी राष्ट्रपति चार्ल्स दि ग ...

                                               

सीमाई क्षेत्र बन्नू

अगर आप इस नाम के ज़िले के बारे में जानकारी ढूंढ रहे हैं जो कृपया बन्नू ज़िला नामक लेख देखिये सीमाई क्षेत्र बन्नू पाकिस्तान के संघ शासित क़बीलाई क्षेत्रों का एक छोटा सा प्रशासनिक विभाग है। इसका नाम अपने से ज़रा पूर्व में स्थित बन्नू ज़िले पर पड़ा ...

                                               

सीमाई क्षेत्र लक्की मरवत

अगर आप इस नाम के ज़िले के बारे में जानकारी ढूंढ रहे हैं जो कृपया लक्की मरवत ज़िला नामक लेख देखिये सीमाई क्षेत्र लक्की मरवत पाकिस्तान के संघ शासित क़बीलाई क्षेत्रों का एक छोटा सा प्रशासनिक विभाग है। इसका नाम अपने से उत्तर-पूर्व में स्थित लक्की मरव ...

                                               

राठौड़

राठौड़ अथवा राठौड एक राजपूत गोत्र है जो उत्तर भारत में निवास करते हैं। इन्हें सूर्यवंशी राजपूत माना जाता है। वे पारम्परिक रूप से राजस्थान के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र मारवाड़ में शासन करते थे। राजस्थान के सम्पूर्ण राठौड़ो के मूल पुरुष राव सीहा जी मान ...

                                               

अनंगपाल तोमर

अनंगपाल दिल्ली के तोमर वंश के संस्थापक राजा थे। इन्होंने सन ७३६ ईस्वी में इस तोमर राजवंश की दिल्ली के लालकोट में स्थापना की थी। बारहवी सदी के मध्य मे तोमरो को अजमेर के चौहानौ जिन्हे चाहमान नाम से भी जाना जाता है ने परास्त किया। तोमरो और चौहानौ के ...

                                               

पृथ्वीराज तोमर

पृथ्वीराज तोमर दिल्ली का तोमर शासक था। पृथ्वीराज तोमर अजमेर के राजा सोमेश्वर और पृथ्वीराज चौहान के समकालीन राजा था, नाम में समानताएं होने के कारण जनता समझने लगी की चौहानो का राज्य दिल्ली पर भी है। मदनपाल तोमर के पश्चात दिल्ली के राजसिंहासन पर पृथ ...

                                               

क़फ़स

क़फ़स, उस्मानी महल के शाही हरम का अंग था जहाँ तख़्त के संभावित उत्तराधिकारी महल के सिपाहियों द्वारा गिरफ़्तार, नज़रबंद और निरंतर निगरानी में रखे गए थे। उस्मानी साम्राज्य के प्रारंभिक इतिहास में मृत सुल्तान के प्रतिद्वंद्वी पुत्रों के बीच युद्ध छि ...

                                               

पूर्वी समस्या

राजनय के इतिहास में पूर्वी समस्या या प्राच्य समस्या से आशय उस्मानी साम्राज्य के कमजोर होने पर यूरोप की महाशक्तियों के बीच उपजे रणनीतिक स्पर्धा एवं राजनैतिक स्थिति से है। १८वीं शताब्दी के अन्त से लेकर २०वीं शताब्दी के अन्त तक उस्मानी साम्राज्य राज ...

                                               

स्त्रियों की सल्तनत

स्त्रियों की सल्तनत सोलहवीं और सत्रहवीं सदी के दौरान लगभग 130 साल की अवधि थी जिसमें उस्मानिया साम्राज्य की शाही महिलाओं ने राज्य के मामलों में उसमानी सुल्तान से असामान्य राजनैतिक प्रभाव हासिल कर लिया था। यह सिलसिला सुलेमान प्रथम के दौर से शुरू हु ...

                                               

अनीता भदेल

अनीता भदेल एक भारतीय राजनीतिज्ञ तथा वर्तमान राजस्थान सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री हैं | वे राजस्थान विधानसभा में अजमेर दक्षिण से विधायक हैं | वे भारतीय जनता पार्टी की राजनेत्री हैं|

                                               

इंदर सिंह नामधारी

इंदर सिंह नामधारी भारत के एक राजनेता हैं। वे चतरा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से सांसद चुने गये थे। सन २००९ में उन्होने २००९ में भारतीय जनता पार्टी के सहयोग से निर्दलीय चुनाव लड़ा था।

                                               

कृष्णपाल सिंह यादव

{{Infobox Indian politician | party = भारतीय जनता पार्टी | birth_date= 15 जनवरी 1976 | constituency = गुना | term_start = 23 मई 2019 | predecessor = ज्योतिरादित्य सिंधिया | nationality = भारतीय | office = सांसद, लोकसभा |occupation= राजनीतिज्ञ |na ...

                                               

गोपाल जी ठाकुर

गोपाल जी ठाकुर बिहार विधानसभा के पूर्व सदस्य हैं और उन्हें बेनीपुर निर्वाचन क्षेत्र से 2010 में भारतीय जनता पार्टी के सदस्य के रूप में चुना गया था और बिहार भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष के रूप में कार्य कर रहे हैं। वर्त्तमान में लोक सभा के सदस्य है। ...

                                               

चमललाल गुप्त

प्रो चमललाल गुप्त भारत के एक राजनेता हैं। वे भारतीय जनता पार्टी के नेता हैं। वे २००२ से २००४ तक भारत के केण्द्रीय मंत्रिमण्डल में रक्षा राज्यमंत्री थे। उसके पहले वे खाद्य प्रसंस्करण तथा नागरिक उड्डयन के मंत्री थे। प्रो चमनलाल गुप्त का जन्म जम्मू ...

                                               

ज़फ़र इस्लाम

ज़फ़र इस्लाम एक भारतीय राजनेता हैं एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। इस्लाम 2014 से राजनीति में सक्रिय हैं। वो नरेन्द्र मोदी के बड़े समर्थक हैं।

                                               

धीरेंद्र सिंह

धीरेंद्र सिंह एक भारतीय राजनीतिज्ञ और उत्तर प्रदेश की सत्रहवीं विधानसभा के सदस्य हैं। वह उत्तर प्रदेश के जेवर विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं और भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हैं।

                                               

प्रताप चन्द्र षड़ंगी

प्रताप चन्द्र षड़ंगी भारत के एक सामाजिक कार्यकर्ता एवं राजनेता हैं जो अपने सरल स्वभाव के लिए प्रसिद्ध हैं। १७वीं लोकसभा में वे बालासोर से सांसद चुने गए हैं तथा मोदी मन्त्रिमण्डल में राज्यमन्त्री हैं। वे भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ...

                                               

प्रदीप कुमार सिंह

प्रदीप कुमार सिंह दैनिक जागरण, झारखंड के उप ब्यूरो प्रमुख है। इससे पहले वे आठ साल तक ईटीवी से जुड़े रहे।.मूल रूप से बिहार के भोजपुर जिले से ताल्लुक रखने वाले प्रदीप कुमार सिंह का पत्रकारिता के क्षेत्र में पंद्रह वर्षों का अनुभव है। वे प्रभात खबर ...

                                               

प्रेमचन्द अग्रवाल

प्रेमचन्द अग्रवाल एक भारतीय राजनीतिज्ञ और भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हैं। यें उत्तराखण्ड विधानसभा में देहरादून जिले की ऋषिकेश निर्वाचन सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं।

                                               

बिशन सिंह चुफाल

बिशन सिंह चुफाल भारतीय राजनीतिज्ञ हैं। वो भारतीय जनता पार्टी की उत्तराखण्ड इकाई के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष हैं। इससे पहले वो राज्य की भुवन चन्द्र खण्डूरी नीत भाजपा सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं।

                                               

भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्रियों की सूची

भारतीय जनता पार्टी संसद सदस्यों की संख्या के आधापर भारतीय गणराज्य की राजनैतिक प्रणाली का सबसे बड़ा राजनीतिक दल है। 1980 में स्थापित भाजपा, राजनीतिक विचारधारा के स्तर पर, सामान्यतः एक दक्षिणपंथी दल माना जाता है। 2017 के अनुसार, 17 राज्यों में 42 भ ...

                                               

मोतीलाल नेहरू

मोतीलाल नेहरू इलाहाबाद के एक प्रसिद्ध अधिवक्ता थे। वे भारत के प्रथम प्रधानमन्त्री जवाहरलाल नेहरू के पिता थे। वे भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के आरम्भिक कार्यकर्ताओं में से थे। जलियांवाला बाग काण्ड के बाद 1919 में अमृतसर में हुई कांग्रेस के वे पहली ...

                                               

एम. भक्तवत्सलम

मिंजुर भक्तवत्सलम या मिंजुर कनकसाभापति भक्तवत्सलम, तमिलनाडु राज्य के एक भारतीय वकील, राजनेता और स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्होंने 2 अक्टूबर 1963 से 6 मार्च 1967 तक मद्रास राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया था। वह तमिलनाडु के अन्तिम कांग्रेसी ...

                                               

एस वी कृष्णमूर्ति राव

एस वी कृष्णमूर्ति राव भारत से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे। वे दो सत्रों तक राज्य सभा के सदस्य रहे; ३ अप्रैल १९५२ से २ अप्रैल १९५६ तक और फिर ३ अप्रैल १९५६ से १ मार्च १९६२ तक। वे ३१ मई १९५२ से २ अप्रैल १९५६ तक और फिर से २५ अप्रैल १९५ ...

                                               

ओमान चांडी

उम्मन चांडी का जन्म एक भारतीय राजनीतिज्ञ और केरल के वर्तमान मुख्यमंत्री है। वह केरल स्थिति के मुख्यमंत्री का आयोजन किया गया है। पहले २००४ से २००६ तक मुख्यमंत्री का आयोजन किया गया था और २००६ से २०११ तक केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता थे।

                                               

कुँवर विक्रम सिंह

कुँवर विक्रम सिंह छतरपुर के शाही परिवार अंतर्गत आता है. वह राजनगर से मध्यप्रदेश विधान सभा से निर्वाचित एक सदस्य हैं. वह लड़े चुनाव में से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस. उन्होंने होंगे इस सीट पर एक बार फिर से के खिलाफ शंकर प्रताप सिंह बुंदेलाथा, जो बह ...

                                               

के. सी. रेड्डी

के. सी. रेड्डी कर्नाटक के प्रथम मुख्यमंत्री थे। अपने राजनीति जीवन में इन्होंने कई महत्त्वपूर्ण पदों को सुशोभित किया था। के. सी. रेड्डी लगातार तीन बार मैसूर विधान सभा के नेता और राज्य के मुख्यमंत्री रहे थे। वर्ष 1965 से 1971 तक इन्होंने मध्य प्रदे ...

                                               

दह्याभाई पटेल

दह्याभई पटेल सरदार बल्लभभाई पटेल के पुत्र थे उन्होंने कभी भी अपने पिता के नाम से राजनीति नहीं की। उन्होंने भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की मृत्यु के बाद उन पर एक छोटी सी किताब लिखी थी।

                                               

प्रियंका मेघवाल

प्रियंका मेघवाल एक भारतीय राजनीतिज्ञ तथा राजस्थान के बाड़मेर जिले से जिला परिषद की जिला प्रमुख है। वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के टिकट पर जिला प्रमुख चुनी गई।

                                               

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्षों की सूची

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस स्वतंत्र भारत का प्रमुख राजनीतिक दल है और इस की स्थापना स्वतंत्रता से पूर्व १८८५ में हुई थी। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष दल के चुने हुए प्रमुख होते है जो आम जनता के साथ दल के रिश्ते को प्रबंधित करने के लिए जिम्म ...

                                               

वायलेट अल्वा

वायलेट अल्वा भारत से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की राजनीतिज्ञ थी। वे तीन सत्रों तक राज्य सभा के सदस्य रही; ३ अप्रैल १९५२ से २ अप्रैल १९६० तक, ३ अप्रैल १९६० से २ अप्रैल १९६६ तक, और फिर ३ अप्रैल १९६६ से उनकी मृत्यु तक। वे १९५७ से १९६२ तक केन्द्रीय उ ...

                                               

विजय बहुगुणा

विजय बहुगुणा एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से हैं। २०१२ से २०१४ तक वह उत्तराखण्ड राज्य के सातवें मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

                                               

शम्‍भूनाथ चतुर्वेदी

शम्‍भूनाथ चतुर्वेदी भारत के उत्तर प्रदेश राज्य की प्रथम विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1952 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने आगरा ज़िले के 97 - वाह विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की ओर से चुनाव में भाग लिया।

                                               

श्‍याम लाल यादव

श्‍याम लाल यादव,भारत के उत्तर प्रदेश की दूसरी विधानसभा सभा में विधायक रहे। 1957 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में इन्होंने उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के 187 - मुगलसराय विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस की ओर से चुनाव में भाग लिया।