ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 301




                                               

ग्रीन डे

ग्रीन डे सन् 1987 में गठित एक अमेरिकी रॉक ट्रायो है। बैंड में बिली जो आर्मस्ट्रांग, माइक डिर्न्ट और ट्रे कूल को शामिल कर गठन किया गया। ग्रीन डे मूलतः 924 गिलमैन स्ट्रीट, बर्कले, कैलिफोर्निया के पंक रॉक नाटक का हिस्सा था। इसके आरंभिक रिलीज़ों में ...

                                               

ईगल्स

ईगल्स ग्लेन फ्रे, डॉन हेनले, बर्नी लाडों और रेंडी मेइसनेर द्वारा 1971 में लॉस एंजिल्स में रचित एक अमेरिकी रॉक बैंड हैं| सात नंबर एक एकल अमेरिका चार्ट पर पांच, छह ग्रैमी, पांच अमेरिकी संगीत पुरस्काऔर छह नंबर एक एल्बम से, ईगल्स 1970 के दशक के सबसे ...

                                               

द बीटल्स

द बीटल्स १९६० का एक अन्ग्रेज़ी रॉक बैन्ड था जिसका निर्माण लिवरपूल में किया गया था। जॉन लेनन, पॉल मेकारटनि, जोर्ज हैरिसन और रिंगो स्टार के साथ वे व्यापक प्रभावशाली कलाकार के रूप मे माने जाते है। १९५० के दशक के रॉक एन्ड ऱोल के शैलि मे शुरु किया था ...

                                               

गालिब संग्रहालय, नई दिल्ली

गालिब संग्रहालय दिल्ली में मुगल कालीन शायर मिर्ज़ा ग़ालिब का संग्रहालय है। यह संग्रहालय, गालिब अकेडमी में है, जो नई दिल्ली के पश्चिम निज़ामुद्दीन इलाक़े में दर्गाह हज़रत निज़ामुद्दीन के करीब है।

                                               

दिल्ली के संग्रहालय

यह दिल्ली के संग्रहालयों की सूची है। राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय, या नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट नई दिल्ली में इंडिया गेट के पास स्थित है। इसकी आवश्यकता सन 1949 में कोलकाता के कला-सम्मेलन में महसूस की गई, जिसके परिणामस्वरूप 29 मार्च,1954 में इस ...

                                               

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय, दिल्ली

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय, या नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट नई दिल्ली में इंडिया गेट के पास स्थित है। इसकी आवश्यकता सन 1949 में कोलकाता के कला-सम्मेलन में महसूस की गई, जिसके परिणामस्वरूप 29 मार्च,1954 में इसकी स्थापना जयपुर हाउस में, की गई। यह ...

                                               

राष्ट्रीय डाक टिकट संग्रहालय, नई दिल्ली

राष्ट्रीय डाक टिकट संग्रहालय दिल्ली में स्थित है। यहां विश्व भर के डाक टिकटों का अनूठा संग्रह है। यह संग्रहालय डाक भवन, सरदार पटेल चौक, नई दिल्ली में स्थित है। यहां डाक टिकटों के अलावा प्रथम दिवस आवरण, खास रद्द किए टिकट, इत्यादि भी हैं। यहां विश् ...

                                               

राष्ट्रीय पुलिस संग्रहालय, नई दिल्ली

राष्ट्रीय पुलिस संग्रहालय दिल्ली में स्थित है। इसमें पुलिस सेवा का इतिहास संग्रहीत है| इसकी स्थापना १९९१ में हुई थी और यह ४, सीजीओ कॉम्प्लेक्स परिसर में स्थित है एवं शनिवा एवं रविवार को बन्द रहता है।

                                               

राष्ट्रीय प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय, नई दिल्ली

राष्ट्रीय प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय नई दिल्ली के बाराखंभा मार्ग पर स्थित है। यह ५ जून, १९७२ में स्थापित किया गया संग्रहालय है, जो कि प्राकृतिक इतिहास पर केन्द्रित है। यह भारत सरकार के पर्यावरण और वन मंत्रालय के अधीन आता है। 26 अप्रैल 2016 को संग ...

                                               

राष्ट्रीय रेल संग्रहालय, नई दिल्ली

राष्ट्रीय रेल परिवहन संग्रहालय नई दिल्ली के चाणक्यपुरी में स्थित एक संग्रहालय है, जो भारत की रेल धरोहर पर ध्यानाकर्षण करता है और 140 साल के इतिहास की झलक प्रस्तुत करता है। इसकी स्थापना १ फरवरी, १९७७ को की गई थी। यह लगभग 10 एकड़ के क्षेत्र में फैल ...

                                               

शंकर अन्तर्राष्ट्रीय गुड़िया संग्रहालय, नई दिल्ली

शंकर अन्तर्राष्ट्रीय गुड़िया संग्रहालय नई दिल्ली में स्थित है। इस संग्रहालय की स्थापना मशहूर कार्टूनिस्ट के शंकर पिल्लई- ने की थी। यहाँ विभिन्न परिधानों में सजी गुड़ियों का संग्रह विश्व के सबसे बड़े संग्रहों में से एक है। यह संग्रहालय बहादुर शाह ...

                                               

शिल्प संग्रहालय, नई दिल्ली

शिल्प संग्रहालय, जिसका औपचारिक नाम राष्ट्रीय हस्तशिल्प एवं हथकरघा संग्रहालय है, नई दिल्ली में पुराना किला के सामने भैरों मार्ग पर प्रगति मैदान परिसर में स्थित है। यह दिल्ली के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है। यहाँ के वरिष्ठ निदेशक श्री सोहन कुम ...

                                               

बिहार संग्रहालय

बिहार संग्रहालय पटना में निर्मित एक आधुनिक कला संग्रहालय है। यह अगस्त 2015 में आंशिक रूप से खोला गया था। अगस्त 2015 में बच्चों के संग्रहालय, मुख्य प्रवेश क्षेत्और एक अभिविन्यास थियेटर सार्वजनिक रूप से केवल एक ही हिस्सा खोल दिया गया था। बाद में, अ ...

                                               

एमिली ग्रीने बाल्च

एमिली ग्रीन बाल्च एक अमेरिकी अर्थशास्त्री, समाजशास्त्री और रोग विशेषज्ञ थी। बाल्च ने वेल्सली कॉलेज में एक शैक्षणिक कैरियर को गरीबी, बाल श्रम और आव्रजन जैसे सामाजिक मुद्दों में लंबे समय से रुचि के साथ जोड़ा, साथ ही गरीब आप्रवासियों के उत्थान और कि ...

                                               

ख़ोसे रामोस होर्ता

ख़ोसे मानुएल रामोस होर्ता, गीसीएल पूर्व टीमोर के द्वितीय प्रधानमन्त्री है और 1996 नोबेल शान्ति पुरस्कार विजेता है।

                                               

तवाकुल करमान

यमन की प्रसिद्ध महिला अधिकार कार्यकर्ता जिन्होंने यमन में महिलाओं के अधिकारों के संरक्षण और सशक्तिकरण के लिए उल्लेखनिय योगदान किया। उनके प्रसंशनीय कार्यों के लिए। उन्हें 2011 के शांति के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्यों के लिए नोबेल पुरस्कार से सम् ...

                                               

परमाणु युद्ध निरोध के समर्थक अंतरराष्ट्रीय चिकित्सक

परमाणु युद्ध के निरोध के समर्थक अंतर्राष्ट्रीय चिकित्सक) एक वैश्विक संगठन है जिसकी स्थापना १९८० में संयुक्त राज्य अमेरिका के बोस्टन नगर में हुई थी। इसे १९८५ में नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मार्टी आख़्तिसारी

मार्टी आख़्तिसारी फ़िनलैंड के पूर्व राष्ट्रपति ने कोसोवो के भविष्य पर हुई वार्ताओं में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत की भूमिका निभाई और वर्ष २००५ में इंडोनेशिया के आचे प्रांत को लेकर हुए समझौते में भी वह मध्यस्थ रहे। उन्हें २००८ के नोबेल शांति पुर ...

                                               

मेड्सें सां फ्रंटियेर

मेड्सें सां फ्रंटियेर एक अंतरराष्ट्रीय मानवतावादी गैर-सरकारी संगठन है जो युद्ध और स्थानिक रोग से पिडीत देशोँमे सेवा करता है। इस संगठन से ३०,००० से ज्यादा और ७० से अधीक देशोंके लोग जुडे हुए हैं जिनमें ज्यादातर स्थानीय डॉक्टर, नर्स और अन्य चिकित्सा ...

                                               

शरणार्थियों के लिए नानसेन अंतर्राष्ट्रीय कार्यालय

शरणार्थियों के लिए नानसेन अंतर्राष्ट्रीय कार्यालय का गठण १९३० में नॉर्वे के मानवतावादी राजनयिक फ्रिडचॉफ नानसेन के निधन के बाद हुआ। नानसेन राष्ट्र संघ के अंतर्गत मानवीय सामाजिक कार्य में जुडे थे। प्रथम विश्व युद्ध के बाद उन्होंने संबंधित विस्थापित ...

                                               

हेनरी किसिंजर

हेनरी अल्फ्रेड किसिंजर एक अमेरिकी राजनीतिज्ञ, और राजनयिक है, जिनोहने अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन और जेराल्ड फ़ोर्ड के प्रशासन के दौरान संयुक्त राज्य अमेरिका के सचिव और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के रूप में की सेवा की ।

                                               

भारत के नोबेल पुरस्कार विजेता

भारत के नोबेल पुरस्कार विजेता में भारतीय नोबेल पुरस्कार विजेता का नाम है। नोबेल पुरस्कार नोबेल फैडरेशन के द्वारा स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की याद में दिया जाता है। जो शांति, साहित्य, भौतिकी, चिकित्सा विज्ञान, अर्थशास्त्र, रसायन के क्षेत् ...

                                               

इंटरनेशनल रेड क्रॉस एवं रेड क्रेसेन्ट मोवमेंट

रेड क्रॉस एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है जिसका मिशन मानवीय जिन्दगी व सेहत को बचाना है। इसकी स्थापना 1863 ई.में हेनरी ड्यूनेन्ट ने जेनेवा में की। इसका मुख्यालय जेनेवा सि्वट्जरलेंड में है। इसे तीन बार 1917.1944.1963में नोबेल शांति पुरस्कार मिला है। इसक ...

                                               

भारतीय विद्या भवन

भारतीय विद्या भवन भारत का एक शैक्षिक न्यास है। इसकी स्थापना कन्हैयालाल मुंशी जी ने 7 नवम्बर 1938 को महात्मा गांधी की प्रेरणा से की थी। सरदार वल्लभ भाई पटेल तथा राजगोपालाचारी जैसी महान विभूतियों के सक्रिय योगदान से विद्या भवन गांधी के आदर्शों पर च ...

                                               

वैक्लेव हैवेल

वैक्लेव हैवेल चेकोस्लोवाकिया के अंतिम और चेक गणराज्य के प्रथम राष्ट्रपति थे। इन्हें २००३ में भारत सरकार द्वारा गाँधी शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

                                               

ताराबाई मोडक

ताराबाई मोडक का जन्म मुंबई में हुआ था। उन्होंने १९१४ में मुंबई विश्वविद्यालय से स्नातक किया। उनकी शादी श्री मोडक से हुए जो एक वकील थे और बाद में उन्हें १९२१ में उनसे तलाक ले लिया। उन्होंने राजकोट में महिला कॉलेज के प्रिंसिपल के रूप में काम किया। ...

                                               

संत सिंह चटवाल

संत सिंह चटवाल भारतीय मूल के एक अमेरिकी सिख उद्योगपति हैं। वे हैम्पशायर होटल एण्ड रिसॉर्ट्स नाम की कंपनी के मालिक हैं। नवंबर २०१३ में एक सर्वे में उन्हें विश्व के सर्वाधिक प्रभावशाली सिखों की रैंकिंग में १९वें स्थान पर रखा गया था। २०१० में भारत स ...

                                               

ए॰ लक्षमणस्वामी मुदलियार

दीवान बहादुसर अर्कोट लक्ष्मणस्वामी मुदलियार भारत के एक शिक्षाविद एवं चिकित्सक थे। वे सर अर्काट रमास्वामी मुदलियार के छोटे जुड़वा भाई थे। दोनों भाइयों की आरम्भिक शिक्षा कुर्नूल में हुई और १९०३ में वे शिक्षा के लिए मद्रास चले गये। भारत सरकार ने १९५ ...

                                               

जोश मलिहाबादी

जोश मलिह्बादी लखनऊ से उर्दु के प्रख्यात शायर रहे हैं। उनको साहित्य एवं शिक्षा क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया।

                                               

सुरिंदर कुमार डे

सुरिंदर कुमार डे को प्रशासकीय सेवा के लिए १९५५ में पद्म भूषण से अलंकृत किया गया। ये राज्य से हैं। ये संयुक्त राज्य अमेरिका से हैं। "श्रेणी:१९५५ पद्म

                                               

कुँवर सैन

कुँवर सैन को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये राजस्थान राज्य से हैं। कुँवरसैन इन्दिरा गांधी नहर के योजनाकार थे ये राजस्थान के बीकानेर जिले के रहने वाले थे ।

                                               

राजशेखर बोस

राजशेखर बोस बंगाली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। उनको साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह आनंदीबाई इत्यादि गल्प के लिये उन्हें सन् 1958 में ...

                                               

रुक्मिणी देवी अरुंडेल

रुक्मिणी देवी अरुंडेल प्रसिद्ध भारतीय नृत्यांगना थीं। इन्होंने भरतनाट्यम में भक्तिभाव भरा तथा नृत्य की एक अपनी परंपरा आरम्भ की। इनको कला के क्षेत्र में १९५६ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। 1920 के दशक में जब भरतनाट्यम को अच्छी नृत्य शैली न ...

                                               

के ए नीलकांत शास्त्री

के ए नीलकांत शास्त्री को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये तमिलनाडु राज्य से हैं।

                                               

आबिद हुसैन (लेखक)

आबिद हुसैन उर्दू भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित भारतीय संस्कृति के सर्वेक्षण पर आधारीत किताब क़ौमी तहज़ीब का मसला के लिये उन्हें सन् १९५६ में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इन्हें को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र ...

                                               

राधा कुमुद मुखर्जी

राधाकुमुद मुखर्जी भारतीय इतिहासकार तथा प्रसिद्ध राष्ट्रवादी थे। वे समाजशास्त्री राधाकमल मुखर्जी के भाई थे। भारत सरकार ने उन्हें सन १९५७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। हिन्दू सिविलाइजेशन उनकी प्रमुख पुस्तक है। इसका हिंदी अनुवाद वासुदेवशरण अग् ...

                                               

उस्ताद अलाउद्दीन खान

उस्ताद अलाउद्दीन खाँ एक बहुप्रसिद्ध सरोद वादक थे साथ ही अन्य वाद्य यंत्रों को बजाने में भी पारंगत थे। वह एक अतुलनीय संगीतकाऔर बीसवीं सदी के सबसे महान संगीत शिक्षकों में से एक माने जाते हैं। सन् 1935 में पंडित उदय शंकर के बैले समूह के साथ खाँ साहब ...

                                               

उस्ताद हाफिज़ अली खाँ

उस्ताद हाफिज़ अली खाँ को कला के क्षेत्र में सन १९६० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये मध्य प्रदेश राज्य से थे। एवं इनका मानना है कि इनके पूर्वज अफगानी थे । किंतु हाफ़िज़ अली हिंदुस्तान को ही अपना वजूद बताते हैं । Inka Janm Gwalior mein hu ...

                                               

बालकृष्ण शर्मा नवीन

बालकृष्ण शर्मा नवीन हिन्दी कवि थे। वे परम्परा और समकालीनता के कवि हैं। उनकी कविता में स्वच्छन्दतावादी धारा के प्रतिनिधि स्वर के साथ-साथ राष्ट्रीय आंदोलन की चेतना, गांधी दर्शन और संवेदनाओं की झंकृतियां समान ऊर्जा और उठान के साथ सुनी जा सकती हैं। आ ...

                                               

विट्ठल नागेश शिरोडकर

विट्ठल नागेश शिरोडकर भारत के विश्वप्रसिद्ध स्त्रीरोगविशेषज्ञ तथा शल्यचिकित्सक थे। उन्हें चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। विठ्ठल नागेश शिरोडकर का जन्म गोवा के शिरोडे गाव में हुआ था। उसके बाद वैद्यकीय ...

                                               

सेठ गोविंद दास

सेठ गोविन्ददास भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, सांसद तथा हिन्दी के साहित्यकार थे। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। भारत की राजभाषा के रूप में हिन्दी के वे प्रबल समर्थक थे। सेठ गोविन्ददास ह ...

                                               

स्वेतोस्लैव रोएरिख

स्वेतोस्लैव रोएरिख को कला के क्षेत्र में सन १९६१ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये से हैं। ये एक रूसी चित्रकार थे जिनसे भारत की पहली सिनेतारिका देविकाा रानी ने दूसरा विवाह किया था। १९९३ को इनकी मृत्यु हो गई।

                                               

दुखन राम

दुखन राम को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार राज्य से हैं। दुखन राम को चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६७ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये बिहार राज्य से हैं।

                                               

रामचंद्र नारायण दांडेकर

रामचन्द्र नारायण दांडेकर भारतीय भाषाशास्त्री एवं वैदिक संस्कृति के विद्वान थे। उन्हें साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

                                               

सीताराम सेकसरिया

सीताराम सेकसरिया को समाज सेवा के क्षेत्र में सन १९६२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये असम राज्य से हैं। सीताराम सेकसरिया एक भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता, गांधीवादी, समाजवादी और पश्चिम बंगाल के संस्था बिल्डर थे, जो मारवाड़ी समुदाय के उत्थ ...

                                               

बद्रीनाथ प्रसाद

बद्रीनाथ प्रसाद भारत के सुप्रसिद्ध गणितज्ञ एवं शिक्षाशास्त्री थे। उन्हे साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में सन १९६३ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

                                               

माखनलाल चतुर्वेदी

माखनलाल चतुर्वेदी भारत के ख्यातिप्राप्त कवि, लेखक और पत्रकार थे जिनकी रचनाएँ अत्यंत लोकप्रिय हुईं। सरल भाषा और ओजपूर्ण भावनाओं के वे अनूठे हिंदी रचनाकार थे। प्रभा और कर्मवीर जैसे प्रतिष्ठत पत्रों के संपादक के रूप में उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिला ...

                                               

राहुल सांकृत्यायन

राहुल सांकृत्यायन जिन्हें महापंडित की उपाधि दी जाती है हिन्दी के एक प्रमुख साहित्यकार थे। वे एक प्रतिष्ठित बहुभाषाविद् थे और बीसवीं सदी के पूर्वार्ध में उन्होंने यात्रा वृतांत/यात्रा साहित्य तथा विश्व-दर्शन के क्षेत्र में साहित्यिक योगदान किए। वह ...

                                               

एअर मार्शल रामास्वामी राजाराम

एअर मार्शल रामास्वामी राजाराम को प्रशासकीय सेवा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं।

                                               

कृष्णस्वामी बालसुब्रह्मण्यम अय्यर

कृष्णस्वामी बालसुब्रह्मण्यम अइयर को सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९६५ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये तमिलनाडु राज्य से हैं।