ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 310




                                               

थरोशंबी

थरोशंबी मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. चित्रेश्वर शर्मा द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नंगबु ङाइबदा

नंगबु ङाइबदा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार क्षेत्रि वीर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नाबोङखाउ

नाबोङखाउ मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार जी. सी. तोम्ब्रा द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नुमित्ति असुम थेङजील्लकलि

नुमित्ति असुम थेङजील्लकलि मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार यूमलेम्बम इबोमचा सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नूंगशिबी ग्रीस

नूंगशिबी ग्रीस मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार शरतचंद थियम द्वारा रचित एक यात्रा–संस्मरण है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नोडदी तरक–खिदरे

नोडदी तरक–खिदरे मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार कीशम प्रियकुमार द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

पांगल शोनबी ऐशे

पांगल शोनबी ऐशे मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. नबकिशोर सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

पिष्टाल अमा कुंदलेई अमा

पिष्टाल अमा कुंदलेई अमा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार ई. दिनमणि सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

पुन्सीगी मरुद्यान

पुन्सीगी मरुद्यान मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार अरांबम बीरेन सिंह द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

प्रल्लयगी मेरि रक्तगी

प्रल्लयगी मेरि रक्तगी मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार आर. के. मधुबीर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

भूत अमसुङमाखुम

भूत अमसुङमाखुम मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार थांजम इबोपिशक सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मंगी इसेई

मंगी इसेई मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार खुमनथेम प्रकाश सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1986 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मथओ कनवा डि एन ए

मथओ कनवा डि एन ए मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार जोध छी. सनसम द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मपाल नाइदबसिदा ऐ

मपाल नाइदबसिदा ऐ मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार नॉथोम्बम बीरेन सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ममांग लीकाई थंबाल शातले

ममांग लीकाई थंबाल शातले मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार एल. समरेन्द्र सिंह द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मयाई कारबा शामु

मयाई कारबा शामु मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार राजकुमार मणि सिंह द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मे ममगेरा बुद्धि ममगेरा

मे ममगेरा बुद्धि ममगेरा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार राजकुमार भुवनस्ना द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

लेपाकले

लेपाकले मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार अरांबम समरेन्द्र सिंह द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 1995 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

लैइ खरा पुंसि खरा

लैइ खरा पुंसि खरा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार सुधीर नाउरेइबम द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

लौक्ङला

लौक्ङला मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार मोइरांथेम बरकन्या द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2010 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

वीर टीकेन्द्रजित रोड

वीर टीकेन्द्रजित रोड मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार एच. गुनो सिंह द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1985 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

हि नङबू होन्देदा

हि नङबू होन्देदा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार सागोलसेम लनचेनबा मीतै द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1999 में मणिपुरी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अरांबम बीरेन सिंह

अरांबम बीरेन सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास पुन्सीगी मरुद्यान के लिये उन्हें सन् 1993 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अरांबम समरेन्द्र सिंह

अरांबम समरेन्द्र सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक लेपाकले के लिये उन्हें सन् 1995 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अराम्बम ओंबी मेमचौबी

अराम्बम ओंबी मेमचौबी मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह इदु निंथौ के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

आर. के. मधुबीर

आर. के. मधुबीर मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह प्रल्लयगी मेरि रक्तगी के लिये उन्हें सन् 1996 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ई. दिनमणि सिंह

ई. दिनमणि सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह पिष्टाल अमा कुंदलेई अमा के लिये उन्हें सन् 1982 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ई. नीलकांत सिंह

ई. नीलकांत सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह तीर्थ यात्रा के लिये उन्हें सन् 1987 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ई. रजनीकांत सिंह

ई. रजनीकांत सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह कालेनथगी लीपकलेई के लिये उन्हें सन् 1981 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ई. सोनामणि सिंह

ई. सोनामणि सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह ममांथों लोल्लबदि मीनथोंदा लाक्उदना के लिये उन्हें सन् 1988 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ए. चित्रेश्वर शर्मा

ए. चित्रेश्वर शर्मा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास थरोशंबी के लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ए. मीनकेतन सिंह

ए. मीनकेतन सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अशैबगी नित्याइपोद के लिये उन्हें सन् 1977 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

एच. गुनो सिंह

एच. गुनो सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास वीर टीकेन्द्रजित रोड के लिये उन्हें सन् 1985 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

एन. ईबोबी सिंह

एन. ईबोबी सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक कर्णगी ममा अमसुंकर्णगी अरोइबा याहिप के लिये उन्हें सन् 1983 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

एन. कुंजमोहन सिंह

एन. कुंजमोहन सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह इलिसा आमागी महाओ के लिये उन्हें सन् 1974 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

एम. नबकिशोर सिंह

एम. नबकिशोर सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह पांगल शोनबी ऐशे के लिये उन्हें सन् 2005 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

एल. समरेन्द्र सिंह

एल. समरेन्द्र सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह ममांग लीकाई थंबाल शातले के लिये उन्हें सन् 1976 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कीशम प्रियकुमार

कीशम प्रियकुमार मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह नोडदी तरक–खिदरे के लिये उन्हें सन् 1998 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

क्षेत्रि वीर

क्षेत्रि वीर मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह नंगबु ङाइबदा के लिये उन्हें सन् 2011 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

क्षेत्री राजन

क्षेत्री राजन मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता अहिङना येकशिल्लिबा मङ के लिये उन्हें सन् 2015 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

खुमनथेम प्रकाश सिंह

खुमनथेम प्रकाश सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह मंगी इसेई के लिये उन्हें सन् 1986 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

जी. सी. तोम्ब्रा

जी. सी. तोम्ब्रा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक नाबोङखाउ के लिये उन्हें सन् 1978 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

जोध छी. सनसम

जोध छी. सनसम मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास मथओ कनवा डि एन ए के लिये उन्हें सन् 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नाओरेम विद्यासागर सिंह

नाओरेम विद्यासागर सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता-संग्रह खुंगं अमसुं रिफ्यूजि के लिये उन्हें सन् 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नाओरेम वीरेन्द्रजित सिंह

नाओरेम वीरेन्द्रजित सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह लांथेंनरिब लान्मी के लिये उन्हें सन् 2004 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

निङोम्बम सुनिता

निङोम्बम सुनिता मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह खोङजि मखोल के लिये उन्हें सन् 2001 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नीलवीर शर्मा शास्त्री

नीलवीर शर्मा शास्त्री मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह तत्खवा पुन्सी–लैपुल के लिये उन्हें सन् 1989 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नॉथोम्बम बीरेन सिंह

नॉथोम्बम बीरेन सिंह मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह मपाल नाइदबसिदा ऐ के लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

पाचा मेहताई

पाचा मेहताई मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास इंफ़ाल अमासुङ मागी नुङशित्की फिबम इशिंग के लिये उन्हें सन् 1973 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

बी. एम. माइस्नाम्बा

बी. एम. माइस्नाम्बा मणिपुरी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास इमासि नुराबी के लिये उन्हें सन् 2007 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।