ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 311




                                               

वैदिक संस्कृतिचा विकास

वैदिक संस्कृतिचा विकास मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार तर्कतीर्थ लक्ष्मणशास्त्री जोशी द्वारा रचित एक सांस्कृतिक इतिहास है जिसके लिये उन्हें सन् 1955 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

व्यक्ति आणि वल्ली

व्यक्ति आणि वल्ली मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार पी.एस. देशपाण्डे द्वारा रचित एक रेखाचित्र–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1965 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

श्री विट्ठल: एक महासमन्वय

श्री विट्ठल: एक महासमन्वय मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार रामचंद्र चिन्तामण ढेरे द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

श्री शिव छत्रपति

श्री शिव छत्रपति मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार टी.एस. शेजवलकर द्वारा रचित एक इतिहास विषयक–शोध है जिसके लिये उन्हें सन् 1966 में मराठी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सत्तांतर

सत्तांतर मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार व्यंकटेश माडगूळकर द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1983 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सलाम (रचना)

सलाम मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार मंगेश के. पाडगाँवकर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1980 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सौन्दर्य आणि साहित्य

सौन्दर्य आणि साहित्य मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार बी. एस. मर्ढेकर द्वारा रचित एक सौन्दर्यशास्त्र का अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1956 में मराठी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सौन्दर्य मीमांसा

सौन्दर्य मीमांसा मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार आर. बी. पाटणकर द्वारा रचित एक सौन्दर्य शास्त्र है जिसके लिये उन्हें सन् 1975 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सौन्दर्यानुभाव

सौन्दर्यानुभाव मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रभाकर पाध्ये द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

स्मरणगाथा

स्मरणगाथा मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार जी. एन. दांडेकर द्वारा रचित एक आत्मकथात्मक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में मराठी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

हरवलेले दिवस

हरवलेले दिवस मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रभाकर वामन ऊर्ध्वेरेषे द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में मराठी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अग्निसाक्षी

अग्निसाक्षी मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार ललितांबिका अंतर्जनम् द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अडयाळंगळ

अडयाळंगळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार ए. सेतुमाधवन द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2007 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अयलक्कार

अयलक्कार मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार पी. केशवदेव द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1964 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अय्यप्प पणिक्करुडे कृतिकळ 1969

अय्यप्प पणिक्करुडे कृतिकळ 1969 मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार के. अय्यप्प पणिक्कर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1984 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अरंगुकाणात्त

अरंगुकाणात्त मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार टिक्कोडियन द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1995 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अराचार

अराचार मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार के.आर. मीरा द्वारा रचित एक उपन्‍यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अवकासिकाळ

अवकासिकाळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार विलासिनी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1981 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

आटूर रवि वर्मायुटे कविताकळ

आटूर रवि वर्मायुटे कविताकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार आटूर रवि वर्मा द्वारा रचित एक कविता.संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

आर. रामचंद्रंटे कविताकळ

आर. रामचंद्रंटे कविताकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार आर. रामचंद्रन द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

आल्हायुडे पेन्नमाक्कल

आल्हायुडे पेन्नमाक्कल मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार सारा जोसेफ़ द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

उज्जयिनियिले राप्पकलुकळ

उज्जयिनियिले राप्पकलुकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार विष्‍णु नारायणन नम्‍बूति‍री द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ओरु देसात्तिन्ते कथा

ओरु देशतिण्टे तथा मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एस. के. पोट्टेक्काट द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1972 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कथायिल्‍लतेवन्‍टे कथा

कथायिल्‍लतेवन्‍टे कथा मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम.एन्. पालूर द्वारा रचित एक आत्‍मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कला जीवितम तन्ने

कला जीवितम तन्ने मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार के. एम. कुट्टिकृष्णन मारार द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1966 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कविताध्वनि

कविताध्वनि मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. लीलावती द्वारा रचित एक समालोचनात्मक अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1986 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कामसुरभि

कामसुरभि मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार वेण्णिकुलम् गोपाल कुरुप द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1974 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कालम

कालम मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम॰ टी॰ वासुदेव नायर द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1970 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

काविले पाट्टु

काविले पाट्टु मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार इडस्सेरी गोविन्दन नायर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1969 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

काषिज्ञ कालम

काषिज्ञ कालम मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार के. पी. केशव मेनन द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1958 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

के. जी. शंकर पिळ्ळैयुडे कविताकळ

के. जी. शंकर पिळ्ळैयुडे कविताकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार के. जी. शंकर पिळ्ळै द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

गुरसागरम्

गुरसागरम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार ओ. वी. विजयन् द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

गोवरघंटे यात्राकळ्

गोवरघंटे यात्राकळ् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार आनंद द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

चूवन्न चिन्नङळ

चूवन्न चिन्नङळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. सुकुमारन द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2006 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

चेम्मीन

चेम्मीन मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार तकष़ी शिवशंकर पिळ्ळै द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1957 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

छत्रवुं चामरवुं

छत्रवुं चामरवुं मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. पी. शङकुण्णि नायर द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ज़करियायुटे कथकळ

ज़करियायुटे कथकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार पॉल ज़करिया द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2004 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

जाप्पाण पुकयिला

जाप्पाण पुकयिला मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार जी. वी. काक्कनाडन द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

जीवितप्पाता

जीवितप्पाता मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार सी. गोविन्द पिशारिटि चेरुकाट द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में मलयालम भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

तट्टकम

तट्टकम मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार कोविलन द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

तामरतोनि

तामरतोनि मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार पी. कुण्हिरमन नायर द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1967 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

तृकोट्टूर नोवल्लकळ

तृकोट्टूर नोवल्लकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार यू.ए. खादर द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2009 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

दैवत्तिण्टे कण्णु

दैवत्तिण्टे कण्णु मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एन. पी. मुहम्मद द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

दैवत्तिण्टे विकृतिकळ

दैवत्तिण्टे विकृतिकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम. मुकुंदन द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

निष़लान

निष़लान मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार ओळप्पमण्ण सुब्रह्मण्यन नंपूतिरिपाद द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

पय्यनकथकळ

पय्यनकथकळ मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार वी. के. एन. द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

पाणिनीय प्रद्योतम्

पाणिनीय प्रद्योतम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार *आई. सी. चाको द्वारा रचित एक टीका है जिसके लिये उन्हें सन् 1956 में मलयालम भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

प्रतिपात्रम भाषणभेदम्

प्रतिपात्रम भाषणभेदम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एन. कृष्ण पिळ्ळै द्वारा रचित एक समालोचनात्मक अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

बशीर: एकांत वीधिपिले अवधूतन

बशीर: एकांत वीधिपिले अवधूतन मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार एम.के. सानू द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 2011 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

बालिदर्शनम्

बालिदर्शनम् मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार अक्कितम द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1973 में मलयालम भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।