ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 328




                                               

भीमनाथ झा

भीमनाथ झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह विविधा के लिये उन्हें सन् 1992 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मंत्रेश्वर झा

मंत्रेश्वर झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक संस्मरण कतेक डारिपर के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मनमोहन झा

मनमोहन झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह गंगा–पुत्र के लिये उन्हें सन् 2009 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मायानंद मिश्र

मायानंद मिश्र मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास मंत्रपुत्र के लिये उन्हें सन् 1988 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मार्कण्डेय प्रवासी

मार्कण्डेय प्रवासी मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक महाकाव्य अगस्त्यायिनी के लिये उन्हें सन् 1981 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

यशोधर झा

यशोधर झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक दार्शनिक प्रबंध मिथिला वैभव के लिये उन्हें सन् 1966 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

रमानंद रेणु

रमानंद रेणु मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह कतेक रास बात के लिये उन्हें सन् 2000 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

राजमोहन झा

राजमोहन झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह आइ काल्हि परसू के लिये उन्हें सन् 1996 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

रामदेव झा

रामदेव झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक–संकलन पसिझैत पाथर के लिये उन्हें सन् 1991 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

लिली रे

लिली रे मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास मरीचिका के लिये उन्हें सन् 1982 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

विभूति आनंद

विभूति आनंद मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह काठ के लिये उन्हें सन् 2006 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

विवेकानंद ठाकुर

विवेकानंद ठाकुर मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह चानन घन गछिया के लिये उन्हें सन् 2005 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

वैद्यनाथ मल्लिक विधु

वैद्यनाथ मल्लिक विधु मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक महाकाव्य सीतायन के लिये उन्हें सन् 1976 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

शेफालिका वर्मा

शेफालिका वर्मा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक आत्मकथा किस्त–किस्त जीवन के लिये उन्हें सन् 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

साकेतानंद (एस.एन. सिंह)

साकेतानंद मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह गणनायक के लिये उन्हें सन् 1999 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सुधांशु शेखर चौधुरी

सुधांशु शेखर चौधुरी मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास ई बतहा संसार के लिये उन्हें सन् 1980 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सुभद्र झा

सुभद्र झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक रम्य रचना नातीक पत्रक उत्तर के लिये उन्हें सन् 1986 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सुरेन्द्र झा सुमन

सुरेन्द्र झा सुमन मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह पयस्विनी के लिये उन्हें सन् 1971 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सुरेश्‍वर झा

सुरेश्‍वर झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक संस्‍मरण संघर्ष आ सेहन्‍ता के लिये उन्हें सन् 2013 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

हरिमोहन झा

हरिमोहन झा मैथिली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक आत्मकथा जीवन–यात्रा के लिये उन्हें सन् 1985 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अतुल कनक

अतुल कनक राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास जूण–जातरा के लिये उन्हें सन् 2011 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अब्दुल वहीद कमल

अब्दुल वहीद कमल राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास घराणो के लिये उन्हें सन् 2001 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अम्बिकादत्‍त

अम्बिकादत्‍त राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता-संग्रह आंथ्‍योई नहीं दिन हाल के लिये उन्हें सन् 2013 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

आईदान सिंह भाटी

आईदान सिंह भाटी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह आँख हींयै रा हरियल सपना के लिये उन्हें सन् 2012 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। | हाल ही में इनको 29 वां बिहारी पुरस्कार आँख हींयै रा हरि ...

                                               

करणीदान बारहठ

करणीदान बारहठ राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह माटी री महक के लिये उन्हें सन् 1994 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कुंदन माली

कुंदन माली राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक समालोचना आलोचना री आंख सूं के लिये उन्हें सन् 2007 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

चेतन स्वामी

चेतन स्वामी Uttar Pradesh भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह किस्तूरी मिरग के लिये उन्हें सन् 2005 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

जयप्रकाश पंड्या ज्योतिपुंज

जयप्रकाश पंड्या ज्योतिपुंज राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक कंकू कबंध के लिये उन्हें सन् 2000 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

दिनेश पंचाल

दिनेश पंचाल राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह पगरवा के लिये उन्हें सन् 2008 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नंद भारद्वाज

नंद भारद्वाज राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास सांम्ही खुलतौ मारग के लिये उन्हें सन् 2004 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नृसिंह राजपुरोहित

नृसिंह राजपुरोहित राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह अधूरा सुपना के लिये उन्हें सन् 1993 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नेमनारायण जोशी

नेमनारायण जोशी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक संस्मरण ओळूंरी अखियातां के लिये उन्हें सन् 1996 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नैनमल जैन

नैनमल जैन राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह सगलोरी पीडा स्वातमेघ के लिये उन्हें सन् 1987 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

प्रेमजी प्रेम

प्रेमजी प्रेम राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संकलन म्हारी कवितावां के लिये उन्हें सन् 1991 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

भगवतीलाल व्यास

भगवतीलाल व्यास राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह अणहद नाद के लिये उन्हें सन् 1988 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

भरत ओळा

भरत ओळा राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह जीव री जात के लिये उन्हें सन् 2002 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मंगत बादल

मंगत बादल राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक महाकाव्य मीरां के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मणि मधुकर

मणि मधुकर राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह पगफेरो के लिये उन्हें सन् 1975 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मधु आचार्य आशावादी

मधु आचार्य आशावादी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्‍यास गवाड़ के लिये उन्हें सन् 2015 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

महावीर प्रसाद जोशी

महावीर प्रसाद जोशी राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह द्वारका के लिये उन्हें सन् 1986 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। राजस्थान की पावन धरा के सपूत, संस्कृत, हिन्दी और राजस्थानी में अनेक का ...

                                               

मूलचंद प्राणेश

मूलचंद प्राणेश राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह चश्मदीठ गवाह के लिये उन्हें सन् 1982 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मोहन आलोक

मोहन आलोक राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह गा–गीत के लिये उन्हें सन् 1983 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

यादवेन्द्र शर्मा चंद्र

यादवेन्द्र शर्मा चंद्र राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी–संकलन जमारो के लिये उन्हें सन् 1989 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

रामपाल सिंह राजपुरोहित

रामपाल सिंह राजपुरोहित राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कहानी सुन्‍दर नैण सुधा के लिये उन्हें सन् 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

रामेश्वर दयाल श्रीमाली

रामेश्वर दयाल श्रीमाली राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह म्हारो गाँव के लिये उन्हें सन् 1980 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

रेवतदान चारण कल्पित

कविता =खेत खड़न ने हळ रे हाळी जद करसां री रेवतदान चारण कल्पित राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संकलन उछालो के लिये उन्हें सन् 1990 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

लक्ष्मीनारायण रंगा

लक्ष्मीनारायण रंगा राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक रंग–नाटक पूर्णमिदम् के लिये उन्हें सन् 2006 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

वासु आचार्य

वासु आचार्य राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह सीर रो घर के लिये उन्हें सन् 1999 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

शांति भारद्वाज राकेश

शांति भारद्वाज राकेश राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास उड जा रे सुआ के लिये उन्हें सन् 1998 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

संतोष मायामोहन

संतोष मायामोहन राजस्थानी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह सिमरण के लिये उन्हें सन् 2003 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।