ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 357




                                               

अवांतर

अवांतर ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार अनंत पटनायक द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1980 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

असरंती अणसर

असरंती अणसर ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रमोद कुमार मोहांती द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2008 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

आत्मजीवनी

आत्मजीवनी ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार नीलकंठ दास द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1964 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

आह्निक

आह्निक ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार जगन्नाथप्रसाद दास द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1991 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

उल्लंघन

उल्लंघन ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रतिभा राय द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2000 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ओ अंधगली

ओ अंधगली ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार अखिलमोहन पटनायक द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1981 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कविता–1962

कविता–1962 ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार सची राउतराय द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1963 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कान्ता ओ अन्यान्य गल्प

कान्ता ओ अन्यान्य गल्प ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार गौरहरि दास द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2012 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

काव्यशिल्पी गंगाधर

काव्यशिल्पी गंगाधर ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार गोविन्दचंद्र उद्गाता द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1995 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कुंभार चक्र

कुंभार चक्र ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार कालीचरण पटनायक द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1977 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

गाँधी मनिष

गाँधी मनिष ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार शरत कुमार मोहांती द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

गां मजलिस

गां मजलिस ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार हरेकृष्ण महताब द्वारा रचित एक निबंध–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1983 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

गोपपुर

गोपपुर ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार रामचंद्र बेहेरा द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2005 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

घरडीह

घरडीह ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार नित्यांनद महापात्र द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1987 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

चलन्ति ठाकुर

चलन्ति ठाकुर ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार शांतनु कुमार आचार्य द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

जगत दर्शनरे जगन्नाथ

जगत दर्शनरे जगन्नाथ ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार गुरुचरण पटनायक द्वारा रचित एक सांस्कृतिक अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1994 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

जीबनर चलपथे

जीबनर चलपथे ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार पठानी पट्टनायक द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 2010 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ठाकुरघर

ठाकुरघर ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार किशोरीचरण दास द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1976 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

तन्मय धूलि

तन्मय धूलि ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रतिभा शतपथी द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2001 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

द्वा सुपर्णा

द्वा सुपर्णा ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार सौभाग्यकुमार मिश्र द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1986 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

नई आरपारि

नई आरपारि ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार भानुजी राव द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1989 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

पाटदेई

पाटदेई ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार वीणापाणि मोहांती द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1990 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

बाँका ओर सीधा

बाँका ओर सीधा ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार *गोदावरीश महापात्र द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1966 में ओड़िया भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

बानप्रस्‍थ

बानप्रस्‍थ ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार विजय मिश्र द्वारा रचित एक नाटक है जिसके लिये उन्हें सन् 2013 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

बिचित्रवर्णा

बिचित्रवर्णा ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार रवि पटनायक द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में ओड़िया भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

बिपुल दिगन्‍त

बिपुल दिगन्‍त ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार गोपालकृष्‍ण रथ द्वारा रचित एक कविता है जिसके लिये उन्हें सन् 2014 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

भारतीय संस्कृति ओ भगवद्गीता

भारतीय संस्कृति ओ भगवद्गीता ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार प्रफुल्ल कुमार मोहांती द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2004 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मनोजदासक कथा ओ काहिनी

मनोजदासक कथा ओ काहिनी ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार मनोज दास द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1972 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

महिषासुर मुहन

महिषासुर मुहन ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार विभूति पट्टनायक द्वारा रचित एक कहानी है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मृगया

मृगया ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार फनि मोहांती द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2009 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मो काहाणी

मो काहाणी ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार कुंजबिहारी दास द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

मो जीबन संग्राम

मो जीबन संग्राम ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार सत्यनारायण राजगुरु द्वारा रचित एक आत्मकथा है जिसके लिये उन्हें सन् 1996 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

विश्वुक गवाक्ष्य

विश्वुक गवाक्ष्य ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार चित्तरंजन दास द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1998 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

शब्दर आकाश

शब्दर आकाश ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार सीताकांत महापात्र द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1974 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

शैल कल्प

शैल कल्प ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार राजेन्द्र के. पंडा द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1985 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सप्तम ऋतु

सप्तम ऋतु ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार रमाकांत रथ द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1978 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सबुठारु दीर्घराति

सबुठारु दीर्घराति ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार चंद्रशेखर रथ द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1997 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

समुद्र स्नान

समुद्र स्नान ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार जी. पी. मोहांती द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1973 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सुख संहिता

सुख संहिता ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार दीपक मिश्र द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 2007 में ओड़िया भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सूर्य ओ अंधकार

सूर्य ओ अंधकार ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार राधामोहन गडनायक द्वारा रचित एक कविता–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1975 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

सूर्यस्नात

सूर्यस्नात ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार जतीन्द्र मोहन मोहांती द्वारा रचित एक आलोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 2003 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

हास्यरसर नाटक

हास्यरसर नाटक ओड़िया भाषा के विख्यात साहित्यकार गोपाल छोटराय द्वारा रचित एक एकांकी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1982 में ओड़िया भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

अॅवर ट्रीज़ स्टिल ग्रो इन देहरा

ॲवर ट्रीज़ स्टिल ग्रो इन देहरा अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार रस्किन बॉण्ड द्वारा रचित एक कहानी–संग्रह है जिसके लिये उन्हें सन् 1992 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

आफ़्टर ऐम्नीसिया: ट्रेडिशन एंड चेंज इन इंडियन लिटरेरी क्रिटिसिज़्म

आफ़्टर ऐम्नीसिया: ट्रेडिशन एंड चेंज इन इंडियन लिटरेरी क्रिटिसिज़्म अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार गणेश नारायण दास देवी द्वारा रचित एक समालोचना है जिसके लिये उन्हें सन् 1993 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

इंडिया आफ्टर गांधी

इंडिया आफ्टर गांधी: द हिस्ट्री ऑफ द वर्ल्ड्स लार्जेस्ट डेमोक्रेसी प्रसिद्ध इतिहासकार रामचंद्र गुहा की सन् २००७ में प्रकाशित पुस्तक है। इसका हिंदी में अनुवाद "भारत गांधी के बाद" इंडिया टुडे के पत्रकार सुशांत झा ने किया था।

                                               

इनसाइड द हवेली

इनसाइड द हवेली अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार रमा मेहता द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 1979 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए मरणोपरांत साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ए न्यू वर्ल्ड

ए न्यू वर्ल्ड अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार अमित चौधुरी द्वारा रचित एक उपन्यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2002 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

एन आर्टिस्ट इन लाइफ़

एन आर्टिस्ट इन लाइफ़ अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार नीहाररंजन राय द्वारा रचित एक रवीन्द्रनाथ का अध्ययन है जिसके लिये उन्हें सन् 1969 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ऑन द मदर

ऑन द मदर अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार के. आर. श्रीनिवास आयंगर द्वारा रचित एक जीवनी है जिसके लिये उन्हें सन् 1980 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

करानिकल ऑफ ए कार्पस बीरर

करानिकल ऑफ ए कार्पस बीरर अंग्रेज़ी भाषा के विख्यात साहित्यकार साइरस मिस्‍त्री द्वारा रचित एक उपन्‍यास है जिसके लिये उन्हें सन् 2015 में अंग्रेज़ी भाषा के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।