ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 368




                                               

मोनोट्रीम

मोनोट्रीम या अंडजस्तनी स्तनधारी प्राणियों का एक जीववैज्ञानिक गण है, जिसमें अब दो ही प्रकार के जंतु जीवित हैं। यह अण्डे देते हैं लेकिन फिर जन्मने वाले शिशु को माता के स्तन से दूध पिलाते हैं। आधुनिक जगत में मोनोट्रीम की पाँच जातियाँ अस्तित्व में है ...

                                               

स्ट्रोमैटोलाइट

स्ट्रोमैटोलाइट धारीदार अवसादी शैल होते हैं जो मूल रूप से सायनोबैक्टीरिया की परत-के-ऊपर-परत उगने से उत्पन्न होते हैं। सायनोबैक्टीरिया एक एककोशिकीय सूक्ष्मजीव होता है। स्ट्रोमैटोलाइट जीवाश्म वर्तमान से 3.7 अरब वर्ष पूर्व के कालखण्ड से पाये गये हैं, ...

                                               

ज्ञानेन्द्रियाँ

ज्ञानेन्द्रियाँ मनुष्य के वे अंग है जो देखने, सुनने, महसूस करने, स्वाद-ताप-रंग अदि का पता लगाते हैं। मानव शरीर में त्वचा, आँख, कान, नाक और जिव्हा आदि पाँच प्रकार की ज्ञानेन्द्रियाँ होती है। त्वचा महसूस करने का, आँखे देखने का, कान सुनने का, नाक गं ...

                                               

मूँगा (जीव)

मूँगा शब्द के कई अर्थ हैं - अन्य अर्थों के लिए मूँगा का लेख देखें मूँगा, जिसे कोरल और मिरजान भी कहते हैं, एक प्रकार का नन्हा समुद्री जीव है जो लाखों-करोड़ों की संख्या में एक समूह में रहते हैं। मूँगे की बहुत सी क़िस्मों में, यह जीव अपने इर्द-गिर्द ...

                                               

शीर्षपाद

शीर्षपाद या सेफैलोपोडा अपृष्ठवंशी प्राणियों का एक सुसंगठित वर्ग जो केवल समुद्र ही में पाया जाता है। यह वर्ग मोलस्का संघ के अंतर्गत आता है। इस वर्ग के ज्ञात जीवित वंशों की संख्या लगभग १५० है। इस वर्ग के सुपरिचित उदाहरण अष्टभुज, स्क्विड तथा कटल फिश ...

                                               

परमाणु जन दायित्व विधेयक

परमाणु संयंत्र में किसी दुर्घटना की स्थिति में शीघ्र मुआवजा सुनिश्चित करने के लिए भारतीय संसद द्वारा 31 अगस्त 2010 को यह विधेयक पारित किया गया। यह विधेयक लोकसभा में 18 संशोधनों के साथ पारित हुआ था।

                                               

इट्रियम

इट्रियम एक रासायनिक तत्व है। यह एक चाँदी-जैसे रंग की संक्रमण धातु है जिसके गुण लैन्थनाइड समूह से मिलते-जुलते होने के कारण इसे भी कभी-कभी उसी दुर्लभ मृदा तत्व rare earth element समूह का भाग माना जाता है। प्रकृति में भी इट्रियम हमेशा उन्हीं के साथ ...

                                               

इण्डियम

इंडियम Indium एक रासायनिक तत्व का नाम है। यह मुलायम, आघातवर्ध्य, सहजगलनीय, रजतश्वेत धातु है जो प्रकृति में मुक्त अवस्था में नहीं पाई जाती। व्यापारिक वंग में इंडियम रहता है। सिलिंड्राइट नामक खनिज में यह १० प्र.श. तक मिलता है। पश्चिमी यूटा में पाए ...

                                               

उनउनट्रियम

निहोनियम, जिसे २०१६ में आधिकारिक नामकरण से पहले उनउनट्रियम कहा जाता था, एक रासायनिक तत्व है, जिसका परमाणु क्रमांक ११३ है। यह काफी रेडियोधर्मी है; इसके ज्ञात समस्थानिकों में निहोनियम-२८६ सबसे स्थिर है, जिसकी अर्धायु लगभग १० सेकंड की है। निहोनियम ए ...

                                               

ऐन्टिमोनी

ऐंटीमनी के +3 संयोगी Sb III तथा +5 संयोजी Sb यौगिक ज्ञात है। ऐंटीमनी III आक्साइड Sb2O3 श्वेत चूर्ण जो जल में विलेय है। यह उभयधर्मी है। टार्टर एमेटिक बनाने तथा औषधि के रूप में प्रयुक्त. ऐंटीमनी आक्साइड Sb2O5-पीत ठोस जो जल में अविलेय होता है। इसे ऐ ...

                                               

ऐस्टाटीन

एस्टाटिन एक रासायनिक तत्व है। इसके रासायनिक और भौतिक गुण ठीक से ज्ञात नहीं हैं। आवर्त सारणी पीरियोडिक टेबल में अपने स्थान के हिसाब से यह हैलोजन समूह में शामिल किया जाता है लेकिन सम्भव है कि इसमें उपधातु होने के कुछ लक्षण भी मौजूद हैं।

                                               

कार्बन

पृथ्वी पर पाए जाने वाले तत्वों में कार्बन या प्रांगार एक प्रमुख एवं महत्त्वपूर्ण तत्त्व है। इस रासायनिक तत्त्व का संकेत C तथा परमाणु संख्या ६, मात्रा संख्या १२ एवं परमाणु भार १२.००० है। कार्बन के तीन प्राकृतिक समस्थानिक 6 C 12, 6 C 13 एवं 6 C 14 ...

                                               

कोबाल्ट

कोबाल्ट एक रासायनिक तत्व है और संक्रमण धातु के समूह का सदस्य है। अपने शुद्ध रूप में यह धातु सख़्त, चमकीली और सलेटी-चाँदी रंग की है, लेकिन यह पृथ्वी केवल अन्य रासायनिक तत्वों के साथ बने यौगिकों के रूप में ही मिलती है। कुछ मात्रा में यह निकल की तरह ...

                                               

गैलियम

गैलिअम एक रासायनिक तत्व है। यह प्रकृति में शुद्ध रूप में नहीं मिलता लेकिन इसके यौगिक बॉक्साइट और जस्ते के खनिजों में अल्प-मात्रा में पाये जाते हैं। अपने शुद्ध रूप में यह एक मुलायम और चमकीली धातु है जिसका पिघलाव तापमान केवल २९.७६ °सेंटिग्रेड है, य ...

                                               

ज़र्कोनियम

जरकोनियम Zirconium एक रासायनिक तत्व है जो आवर्त सारणी के चतुर्थ अंतवर्ती समूह transition group का तत्व है। इस तत्व के पाँच स्थिर समस्थानिक पाये जाते हैं, जिनका परमाणु भार 90, 91, 92, 94, 96 है। कुछ अन्य रेडियधर्मी समस्थानिक जैसे परमाणु भार 89 भी ...

                                               

टाइटेनियम

टाइटेनियम एक मजबूत धातु है। इस तत्व का सबसे पहले सन् 1791 में ग्रेटर ने पता लगाया तथा सन् 1795 में क्लापराथ ने इसका नाम टाइटेनियम रखा। इसके मुख्य खनिज इलमिनाइट तथा रुटाइल हैं। दूसरे खनिज स्थुडोब्रुकाइट, Fe4 TiO4 3), एरीजोनाइट, Fe2 TiO33), गाइकीला ...

                                               

टिन

वंग या रांगा या टिन Tin एक रासायनिक तत्त्व है। लैटिन में इसका नाम स्टैन्नम Stannum है जिससे इसका रासायनिक प्रतीक Sn लिया गया है। यह आवर्त सारणी के चतुर्थ मुख्य समूह main group की एक धातु है। वंग के दस स्थायी समस्थानिक द्रव्यमान संख्या ११२, ११४, १ ...

                                               

निकल

निकल एक रासायनिक तत्व है जो रासायनिक रूप से संक्रमण धातु समूह का सदस्य है। यह एक श्वेत-चाँदी रंग की धातु है जिसमें ज़रा-सी सुनहरी आभा भी दिखती है। यह सख़्त और तन्य होता है। हालाँकि निकल के बड़े टुकड़ों पर ओक्साइड की परत बन जाती है जिस से अंदर की ...

                                               

नियोडाइमियम

नियोडाइमियम Neodymium एक रासायनिक तत्व है जिसका प्रतीक Nd है। इसका का परमाणु क्रमांक 60 और परमाणु भार 144.242 है। आवर्त सारणी में इसे लेन्थेनाइड तत्त्वों के साथ में रखा गया है। ऑस्ट्रिया के वैज्ञानिक वेल्स बैच ने 1885 में इसकी खोज की थी। इसका गलन ...

                                               

पारा

पारा या पारद संकेत: Hg आवर्त सारिणी के डी-ब्लॉक का अंतिम तत्व है। इसका परमाणु क्रमांक ८० है। इसके सात स्थिर समस्थानिक ज्ञात हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्याएँ १९६, १९८, १९९, २००, २०१, २०२ और २०४ हैं। इनके अतिरिक्त तीन अस्थिर समस्थानिक, जिनकी द्रव्यमान ...

                                               

प्रासियोडाइमियम

Praseodymium प्रतीक जनसंपर्क और परमाणु संख्या 59 praseodymium के साथ एक रासायनिक तत्व है एक नरम, चांदी, निंदनीय और नमनीय lanthanide समूह में धातु है। यह अपने चुंबकीय, विद्युत, रसायन, और ऑप्टिकल गुण के लिए महत्वपूर्ण है। सावधानियां।

                                               

बिस्मथ

बिस्मथ एक रासायनिक तत्व है। अपने समूह में सबसे बड़ा तत्व तथा परमाणु आकार बड़ा होने के कारण इस इसकी नाभिक से दूरी बढ़ जाती है जिसके कारण नाभिक और बाह इलेक्ट्रानों के लिये आकर्षण बल कम हो जाता है 15 में वर्ग में यह एक ऐसा तत्व है जो अपररूपता प्रदर् ...

                                               

ब्रोमीन

ब्रोमीन आवर्त सारणी के सप्तम मुख्य समूह का तत्व है और सामान्य ताप पर केवल यही अधातु द्रव अवस्था में रहती है। इसके दो स्थिर समस्थानिक प्राप्य हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्याएँ 79 और 81 है। इसके अतिरिक्त इस तत्व के 11 रेडियोधर्मी समस्थानिक निर्मित हुए ...

                                               

मॉस्कोवियम

मॉस्कोवियम या मॉस्कोवीयम परमाणु संख्या 115 और Mc प्रतीक वाला एक मानव निर्मित रासायनिक तत्व है। इसे दिसम्बर २०१५ में आधिकारिक रुप से पहचाना गया था, जबकि २००३ में ही बनाया गया था।

                                               

रुबिडियम

रूबिडियम Rubidium एक रासायनिक तत्व है। यह आवर्त सारणी के प्रथम मुख्य समूह का चौथा तत्व है। इसमें धातुगुण वर्तमान हैं। इसके तीन स्थिर समस्थानिक प्राप्त हैं, जिनकी द्रव्यमान संख्याएँ क्रमश: ८५, ८६, ८७ हैं। इस तत्व की खोज बुंसन तथा किर्खहॉफ़ ने १८६० ...

                                               

लिथियम

लिथियम एक रासायनिक तत्व है। साधारण परिस्थितियों में यह प्रकृति की सबसे हल्की धातु और सबसे कम घनत्व-वाला ठोस पदार्थ है। रासायनिक दृष्टि से यह क्षार धातु समूह का सदस्य है और अन्य क्षार धातुओं की तरह अत्यंत अभिक्रियाशील रियेक्टिव है, यानि अन्य पदार् ...

                                               

सीरियम

सीरियम एक रासायनिक तत्त्व है। यह विरल मृदा तत्त्व का एक प्रमुख सदस्य है। इसका ; परमाणु संख्या ५८ तथा परमाणु भार १४०.१३ है। सीरियम के क्लोराइड को सोडियम अथवा मैगनीशियम के साथ गरम करने अथवा शुद्ध क्लोराइड को पौटैशियम और सोडियम क्लोराइड के साथ मिलाक ...

                                               

स्कैण्डियम

स्कैण्डियम एक रासायनिक तत्व है। यह आवर्त सारणी के डी-खंड का सदस्य है और अपने शुद्ध रूप में श्वेत-चाँदी जैसा रंग रखता है। ऐतिहासिक नज़रिये से इसे लैन्थनाइड समूह और इट्रियम के साथ इसे दुर्लभ मृदा तत्व rare earth element समूह में शामिल किया गया है। ...

                                               

स्ट्रोन्शियम

स्ट्रोन्शियम एक रासायनिक तत्व है। यह क्षारीय पार्थिव धातु alkaline earth metal नामक तत्व समूह का सदस्य है। अपने शुद्ध रूप में यह एक मुलायम श्वेत-चाँदी या पीले से रंग की धातु होता है जो तेज़ी से अन्य तत्वों के साथ रासायनिक अभिक्रिया रियेक्शन कर ले ...

                                               

हाइड्रोजन परमाणु

हाइड्रोजन परमाणु रासायनिक तत्व हाइड्रोजन का एक परमाणु है। विद्युत तटस्थ परमाणु में एक सकारात्मक चार्ज प्रोटॉन होता है और एक एकल नकारात्मक आरोप लगाया इलेक्ट्रॉन जो कूल्ब बल द्वारा नाभिक के लिए बाध्य है। परमाणु हाइड्रोजन ब्रह्मांड के मूलभूत द्रव्यम ...

                                               

अनुपूरक वतुएं

अथशा म, एक पूरक वतु वह होती है िजसका तरोध नकरामक होता है। यह एक वैकिपक वतु के वपरत होता है। अथात कसी अय वतु क कमत घटने पर, वतु क मांग म बढ़ोर होती है। इसके वपरत कसी अय वतु क कमत बढ़ने पर, वतु क मांग म वतु क मांग घट जाती है यद वतु ए और बी एक दूसरे ...

                                               

बेरिऑन संख्या

कण भौतिकी में बेरिऑन संख्या निकाय की लगभग संरक्षित क्वान्टम संख्या है। B = 1 3 n q − n q ¯, {\displaystyle B={\frac {1}{3}}\leftn_{\text{q}}-n_{\bar {\text{q}}}\right,} जहाँ n q क्वार्क की एक संख्या है और n q प्रतिक्वार्क की एक संख्या है। बेरिऑनो ...

                                               

समभारिक प्रचक्रण

इससे पहले यह एक बात जानना जरूरी है कि संमभारिक क्या है? अर्थात जिसके परमाणु संख्या अलग तथा परमाणु भार समान हो उसे संमभारिक कहते हैं। यह समस्थानिक का विपरीत होता है। समभारिक प्रचक्रण कण का एक नैज गुण है। यह प्रबल अन्योन्य क्रिया से सम्बंधित क्वान् ...

                                               

इलेक्ट्रॉन न्यूट्रिनो

इलेक्ट्रॉन न्यूट्रिनो एक मूलभूत कण है। इसका प्रतीक चिह्न ν e है। इसका आवेश शून्य होता है अर्थात यह एक उदासीन कण है। न्यूट्रिनों तीन प्रकार के होते हैं जिनमें से यह इलेक्ट्रॉन से सम्बद्ध लेप्टॉनों की श्रेणी में आता है। इसका द्रव्यमान लगभग शून्य मा ...

                                               

नौवां ग्रह

नौवां ग्रह एक सम्भावित ग्रह है जो शायद हमारे सौर मंडल के बाहरी भाग में काइपर घेरे से भी आगे स्थित हो। कई खगोलशास्त्रियों ने कुछ वरुण-पार वस्तुओं की विचित्र कक्षाओं का अध्ययन कर के यह प्रस्ताव दिया है कि इन कक्षाओं के पीछे सूरज से सुदूर क्षेत्र मे ...

                                               

चकती का क्षेत्रफल

चकती का क्षेत्रफल और सामान्यतः जिसे r त्रिज्या के वृत्त का क्षेत्रफल भी कहा जाता है, πr 2 होता है। यहाँ प्रतीक π वृत्त की परिधि और उसके व्यास अथवा वृत्त के क्षेत्रफल और उसकी त्रिज्या के वर्ग के अनुपात के बराबर होता है।

                                               

ब्रह्मगुप्त का सूत्र

ब्रह्मगुप्त का सूत्र किसी चक्रीय चतुर्भुज का क्षेत्रफल निकालने का सूत्र है यदि उसकी चारों भुजाएँ ज्ञात हों। उस चतुर्भुज को चक्रीय चतुर्भुज कहते हैं जिसके चारों शीर्षों से होकर कोई वृत्त खींचा जा सके।I

                                               

ऊष्मागतिक तापक्रम

ऊष्मगतिक तापक्रम या परम ताप तापमान का विशुद्ध माप है। यह ऊष्मगतिकी के मुख्य प्राचलों में से एक है। ऊष्मागतिक तापक्रम ऊष्मागतिकी के द्वितीय नियम द्वारा परिभाषित है जिसमें सिद्धान्त रूप में न्यूनतम सम्भव ताप को शून्य बिन्दु माना जाता है। इस ताप को ...

                                               

ताप मापन

आधुनिक वैज्ञानिक थर्मामीटर और तापमान पैमाने का उपयोग करने वाले तापमान माप का आविष्कार आरंभिक 18वीं सदी में हुआ था, जब गैबरियल फ़ारेनहाइट ने ओले क्रिस्टनसेन रोएमर द्वारा विकसित किगए थर्मामीटर और पैमाने को अपनाया था। सेल्सियस पैमाना और केल्विन पैमा ...

                                               

दूरी

दूरी दिक् में किन्ही दो बिन्दुओं के बीच की जगह के सांख्यिक मापन को कहते हैं, अर्थात यह उन दोनों बिन्दुओं के बीच के पथ की लम्बाई का माप है। किसी गतिमान वस्तु द्वारा किसी समय में तय किए पथ की लंबाई को भी उस वस्तु द्वारा चली गई दूरी कहते हैं।

                                               

प्रभावी द्रव्यमान (ठोस-अवस्था भौतिकी)

एटम के अंदर इलेक्ट्रान नाभिक के चारो ओर चक्कर लगता रहता है चुकी यह इलेक्ट्रान चाकर लगता है और वोभी परवलयकार पथ पर जिसके कारण इलेक्ट्रान का द्रव्यमान बदलता रहता है इस द्रव्यमान को प्रभावी कहते है

                                               

अवोगाद्रो का नियम

अवोगाद्रो का नियम गैस से सम्बन्धित एक नियम है जिसका नाम अमेदिओ अवोगाद्रो के नाम पर रखा गया है। इसे "अवोगाद्रो की परिकल्पना" एवं "अवोगाद्रो का सिद्धान्त" के नाम से भी जाना जाता है। सन् १८११ में अवोगाद्रो ने यह परिकल्पना प्रस्तुत की, जो इस प्रकार ह ...

                                               

परासरण दाब

परासरण को यदि रोकना चाहें तो उसे रोकने के लिए उसके विपरीत एक वाह्य दाब लगाना पड़ेगा। परासरण को रोकने के लिये लिये आवश्यक वाह्य दाब की मात्रा को परासरण दाब कहते हैं। किसी भी विलयन का परासरण दाब विलायक में उपस्थित विलेय के अणुओं की सांद्रता के सीधे ...

                                               

लम्बाई

लम्बाई किसी वस्तु की लम्बे आयाम को कहते हैं। किसी वस्तु की लम्बाई, उसके दोनों छोरों के बीच की दूरी को कहते हैं। इसे ऊंचाई से पृथक करने के लिये, ऊंचाई ऊर्ध्वाकार में कही जाती है। लम्बाई को मापने के लिए विभिन्न साधन है जिन्हे हम मात्रक या ईकाई कहते ...

                                               

असमिका

If x > 0, then x ≥ 1 e 1 / e. {\displaystyle x^{x}\geq \left{\frac {1}{e}}\right^{1/e}.\,} If x > 0, then x ≥ x. {\displaystyle x^{x^{x}}\geq x.\,} If x, y, z > 0, then x + y z + x + z y + y + z x > 2. {\displaystyle x+y^{z}+x+z^{y}+y ...

                                               

गोलीय दर्पण

गोलीय दर्पण वे दर्पण हैं जिनका परावर्तक तल गोस्फेरिक) होता है। ये दो तरह के होते हैं - उत्तल दर्पण convex mirror / कान्वेक्स मिरर वैसा दर्पण जिसका परावर्तक सतह बाहर कि तरफ उभरा रहता है उसे उत्तल दर्पण कहते हैं. इनका परावर्तक तल बाहर की ओर उभरा हु ...

                                               

समतल दर्पण

दर्पण ऐसे प्रकाशीय तल हैं जो प्रकाश की किरणों के परावर्तन के द्वारा या तो प्रकाशपुंज को प्रत्यावर्तित कर देते हैं अथवा उसे एक बिंदु पर अभिसृत करके बिंब का निर्माण करते हैं। प्रकाशीय यंत्रों के, विशेष कर ज्योतिष से संबधित यंत्रों के, निर्माण में द ...

                                               

कांच

काच, काँच या कांच एक अक्रिस्टलीय ठोस पदार्थ है। कांच आमतौर भंगुऔर अक्सर प्रकाशीय रूप से पारदर्शी होते हैं। काच अथव शीशा अकार्बनिक पदार्थों से बना हुआ वह पारदर्शक अथवा अपारदर्शक पदार्थ है जिससे शीशी बोतल आदि बनती हैं। काच का आविष्कार संसार के लिए ...

                                               

कांच तंतु

प्लैटिनम धातु के बने प्यालों के पेंदे के अति सूक्ष्म छिद्रों से द्रवित कांच अति संपीडित जलवाष्प, या वायु, द्वारा निकलने पर और शीघ्रता से खींचने पर कांच तंतु बनता है। कर्षण करने की गति प्राय: ६,००० फुट प्रति मिनट होती है। प्रत्येक तंतु की अनुप्रस् ...

                                               

गैस

गैस पदार्थ की तीन अवस्थाओं में से एक अवस्था का नाम है । गैस अवस्था में पदार्थ का न तो निश्चित आकार होता है न नियत आयतन। ये जिस बर्तन में रखे जाते हैं उसी का आकाऔर पूरा आयतन ग्रहण कर लेते हैं। जीवधारियों के लिये दो गैसे मुख्य हैं, आक्सीजन गैस जिसक ...