ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 372




                                               

बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगी परीक्षा बोर्ड

बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगी परीक्षा पर्षद बिहार के महाविद्यालयों के विभिन्न व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित करने के उद्देश्य से १९९५ में गठित किया गया था। बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगी परीक्षा बी.सी.ई.सी.ई. ...

                                               

बिहार सरकार

प्रशासनिक सुविधा के लिए बिहार राज्य को 9 प्रमंडल तथा 38 मंडल जिला में बाँटा गया है। जिलों को क्रमश: 101 अनुमंडलों, 534 प्रखंडों, 8.471 पंचायतों, 45.103 गाँवों में बाँटा गया है। राज्य का मुख्य सचिव नौकरशाही का प्रमुख होता है जिसे श्रेणीक्रम में आय ...

                                               

ब्रह्मपुर, बिहार

ब्रह्मपुर, बिहार के बक्सर जिले में स्थित एक शहर और बहुत प्रसिद्ध हिंदू धार्मिक जगह है। यह मुख्य रूप से भगवान शिव के मंदिर की पौराणिक कथा और उसके पशु मेले के लिए प्रसिद्ध है। देश भर से लोग भगवान शिव के मंदिर में धार्मिक अनुष्ठान के लिए यहां आते हैं।

                                               

भंटापोखर

भंटापोखर गांव भारत गणराज्य के बिहार प्रान्त में सिवान जिले के सिवान तहसील में स्थित है। जनगणना 2011 की जानकारी के अनुसार भंटापोखर गांव का स्थान कोड या गांव कोड 231336 है। यह सिवान से 8 किमी दूर स्थित है, 2009 के आंकड़ों के मुताबिक, भंटापोखर गांव ...

                                               

भरपुरा पहलेजा घाट जंक्शन रेलवे स्टेशन

भरपुरा पहलेजा घाट जंक्शन रेलवे स्टेशन, स्टेशन कोड PHLJ, भारतीय राज्य बिहार के सारण जिले में स्थित एक रेलवे स्टेशन है। यह रेलवे के उत्तर पूर्वी संभाग में पड़ता हैं एवं सोनपुर शहर एवं पटना के आस पास रहने वाले लोग इस स्टेशन का ज्यादातर प्रयोग करते ह ...

                                               

मनेर

मनेर बिहार प्रान्त का एक शहर है। मनेर पूर्वोत्तर भारत के बिहार राज्य में पटना के समीप अवस्थित एक इस्लामिक धर्मस्थल है। यहाँ एक महान सूफ़ी संत पीर हज़रत मखादुन याहिया मनेरी हुए थे। संत पीर हज़रत मखादुन याहिया मनेरी का मक़बरा यहाँ स्थित है, जिसे बड ...

                                               

रक्सौल

रक्सौल भारत-नेपाल सीमा पर स्थित है और अपने चीनी उद्योग के कारण जाना जाता है। इसके पास ही नेपाल का बीरगंज स्थित है। बीरगंज रेलवे स्टेशन नेपाल सरकार रेलवे NGR से भारत की सीमा के पार बिहार के रक्सौल स्टेशन से जुड़ा है। 47 किमी 29 मील रेलवे उत्तर में ...

                                               

वैशाली

वैशाली बिहार प्रान्त के वैशाली जिला में स्थित एक गाँव है। ऐतिहासिक स्थल के रूप में प्रसिद्ध यह गाँव मुजफ्फरपुर से अलग होकर १२ अक्टुबर १९७२ को वैशाली के जिला बनने पर इसका मुख्यालय हाजीपुर बनाया गया। वज्जिका यहाँ की मुख्य भाषा है। ऐतिहासिक प्रमाणों ...

                                               

सहरसा

सहरसा भारत के बिहार प्रान्त का एक शहर है। जिले के रूप में सहरसा की स्थापना 1 अप्रैल 1954 को हुई थी जबकि २ अक्टुबर 1972 से यह कोशी प्रमण्डल का मुख्यालय है। यहाँ कन्दाहा में सूर्य मंदिर एवं प्रसिद्ध माँ तारा स्थान महिषी ग्राम में स्थित है। प्राचीन ...

                                               

सासाराम

सासाराम भारत प्रांत के बिहार राज्य का एक शहर है जो रोहतास जिले में आता है। यह रोहतास जिले का मुख्यालय भी है। इसे सहसराम भी कहा जाता है। सूर वंश के संस्थापक अफ़ग़ान शासक शेरशाह सूरी का मक़बरा सासाराम में है और देश का प्रसिद्ध ग्रांड ट्रंक रोड भी इ ...

                                               

सीवान

सीवान या सिवान भारत गणराज्य के बिहार प्रान्त में सारन प्रमंडल के अंतर्गत एक शहर है। यह सीवान ज़िले का मुख्यालय है, जो बिहार के पश्चिमोत्तरी छोपर उत्तर प्रदेश का सीमावर्ती जिला है। सिवान दाहा नदी के किनारे बसा है। इसके उत्तर तथा पूर्व में क्रमश: ब ...

                                               

सोनपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन

सोनपुर जंक्शन रेलवे स्टेशन, स्टेशन कोड SEE, भारतीय राज्य बिहार के सारण जिले में स्थित एक रेलवे स्टेशन है। यह रेलवे के उत्तर पूर्वी संभाग में पड़ता हैं एवं सोनपुर शहर एवं पटना के आस पास रहने वाले लोग इस स्टेशन का ज्यादातर प्रयोग करते हैं। यह शहर घ ...

                                               

सोनपुर रेल मंडल

सोनपुर रेलवे मंडल भारतीय रेलवे के पूर्व मध्य रेलवे क्षेत्र के अंतर्गत पांच रेलवे डिवीजनों में से एक है। उत्तर पूर्वी रेलवे मंडल में 21 अक्टूबर 1 9 78 को स्थापित सोनपुर डिवीजन, पवित्र नदी गंगा और गंधक नदी के पश्चिमी किनारे के उत्तर की तरफ फैल गया ...

                                               

हरिहर क्षेत्र

बिहार की राजधानी पटना से पाँच किलोमीटर उत्तर सारण में गंगा और गंडक के संगम पर स्थित सोनपुर नामक कस्बे को ही प्राचीन काल में हरिहरक्षेत्र कहते थे। देश के चार धर्म महाक्षेत्रों में से एक हरिहरक्षेत्र है। ऋषियों और मुनियों ने इसे प्रयाग और गया से भी ...

                                               

हाजीपुर

हाजीपुर भारत गणराज्य के बिहार प्रान्त के वैशाली जिला का मुख्यालय है। हाजीपुर भारत की संसदीय व्यवस्था के अन्तर्गत एक लोकसभा क्षेत्र भी है। 12 अक्टुबर 1972 को मुजफ्फरपुर से अलग होकर वैशाली के स्वतंत्र जिला बनने के बाद हाजीपुर इसका मुख्यालय बना। ऐति ...

                                               

इम्फाल

९२१ मीटर की ऊंचाई पर यह सुंदर पिकनिक स्थल इंफ़ाल से १६ किलोमीटर दूर है।

                                               

मणिपुर का इतिहास

प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण मणिपुर का अपना एक प्राचीन एवं समृद्ध इतिहास है। इसका इतिहास पुरातात्विक अनुसंधानों, मिथकों तथा कलिखित इतिहास से प्राप्त होता है। इसका प्राचीन नाम कंलैपाक् है। मणिपुर के नामकरण के संदर्भ में जहाँ पौराणिक कथाओं से उसका ...

                                               

मणिपुर के जिले

मणिपुर में 9 जिले हैं - इम्फाल पश्चिम जिला इम्फाल पूर्व जिला उखरुल जिला चन्डेल जिला चुराचांदपुर जिला बिष्णुपुर जिला थौबल जिला सेनापति जिला तमेंगलॉन्ग जिला

                                               

मणिपुरी साहित्य

बांग्ला लिपि में लिखी जाने वाली मणिपुरी को विष्णुप्रिया मणिपुरी भी कहा जाता है। मणिपुरी भाषा का साहित्य भी समृद्ध है। १९७३ से आज तक ३९ मणिपुरी साहित्यकारों को साहित्य अकादमी पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। मणिपुरी साहित्य में वैष्णव भक्ति तथा ...

                                               

लोकताक झील

लोकताक झील भारत के पूर्वोत्तर भाग में स्थित मणिपुर राज्य की एक झील है। यह अपनी सतह पर तैरते हुए वनस्पति और मिट्टी से बने द्वीपों के लिये प्रसिद्ध है, जिन्हें "कुंदी" कहा जाता है। झील का कुल क्षेत्रफल लगभग २८० वर्ग किमी है। झील पर सबसे बड़ा तैरता ...

                                               

जयविलास महल, ग्वालियर

जयविलास महल, ग्वालियर में सिन्धिया राजपरिवार का वर्तमान निवास स्थल ही नहीं एक भव्य संग्रहालय भी है। इस महल के 35 कमरों को संग्रहालय बना दिया गया है। इस महल का ज्यादातर हिस्सा इटेलियन स्थापत्य से प्रभावित है। इस महल का प्रसिध्द दरबार हॉल इस महल के ...

                                               

मध्य प्रदेश भगदड़ २०१३

13 अक्टूबर 2013 को, हिन्दू पर्व नवरात्रि के दौरान, भारतीय राज्य मध्य प्रदेश के दतिया जिले के रतनगढ़ माता मन्दिर में के पास बने पुल के टुटने की अपवाह फैल गई जिससे भगदड़ मच गई। भगदड़ में ११५ लोग मारे गये एवं सैकड़ों घायल हो गये।

                                               

मध्यप्रदेश राज्य कृषि उद्योग विकास निगम

मध्य प्रदेश राज्य कृषि उद्योग विकास निगम की स्थापना भारत सरकार एवं मध्य प्रदेश राज्य सरकार की सांझेदारी २१ मार्च १९६९ को कंपनी अधिनियम के अंतर्गत स्थापना हुई। निगम के मुख्य उद्देश्य राज्य में कृषि उत्पादन में वृद्धि हेतु आधुनिक तकनीक उपलब्ध कराना ...

                                               

अहमदनगर

अहमदनगर की स्वतंत्रता बनाये रखने में मलिक अम्बर का योगदान था। यह अबीसीनियाई दास था, जो बाद में अपनी योग्यता के बल पर अहमदनगर का प्रमुख वज़ीर बना। इसने युद्ध की छापामार पद्धति को अपनाया तथा भूमि व्यवस्था में ठेकेदारी प्रथा को समाप्त कर रैयतवाड़ी व ...

                                               

कल्याणी नगर

कल्याणी नगर पुणे के पश्चिमी दिशा में स्थित एक मुहल्ला अर्थात है। यहाँ की जनसंख्या लगभग 30.000 है। कल्याणी नगर से पुणे रेलवे स्टेशन मात्र 5 किमी की दूरी पर स्थित है तथा पुणे हवाई अड्डा मात्र 4 किमी दूर है। कल्याणी नगर गॉल्ड बिग सिनेमा मल्टीप्लेक्स ...

                                               

कात्रज

कात्रज महाराष्ट्र राज्य के पूना ज़िले का एक उपनगर है। इस उपनगर की स्थापना गिरिश ने की थी। यह पुणे महानगर पालिका का क्षेत्र है। कात्रज कात्रज घाट के लिए प्रसिद्ध है। कात्रज अपने पेशवा-युग झील के लिए प्रसिद्ध है जिन्होंने उस अवधि के दौरान शहर के लि ...

                                               

कोकण

कोकण महाराष्ट्र के पश्चिमी तट पर स्थित एक संभाग तथा मंडल है। मुंबई शहर एवं जिला, थाने, रायगड, रत्नागिरी और सिंधूदुर्ग इसके जिले है। यह क्षेत्र अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए भी जाना जाता है।

                                               

कोलाबा दुर्ग

कोलाबा दुर्ग किल्ला महाराष्ट्र राज्य में अलीबाग के समुद्री तट पहुँचकर देखा जा सकता है। इतिहासकार कोलाबा किले को महान मराठा शासक छत्रपति शिवाजी महाराज का आखिरी निर्माण मानते हैं। कोलाबा किल्ला अलीबाग बीच से लगभग 1 कि.मी. समुद्र के भीतर मौजूद है।

                                               

ठाणे क्रीक

ठाणे क्रीक, मुंबई बंदरगाह में खुलने वाले, उल्हास नदी के मुहाने का एक भाग है। ठाणे शहर, ठाणे कोल के किनारे स्थित है। इसमें मुंब्रा रेतीबंदर से लेकर मानखुर्द-वाशी पुल तक का क्षेत्र शामिल है। इस क्षेत्र को बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी ने एक महत्वप ...

                                               

तारकरली

तारकरली, महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग जिले के मालवन तालुका, का एक गांव है। आकर्षक समुद्र तट वाला यह स्थल तटीय महाराष्ट्र का एक लोकप्रिय पर्यटक गंतव्य है। यहाँ से, शिवाजी महाराज द्वारा निर्मित प्रसिद्ध नौसेनिक किले सिंधुदुर्ग को देख सकते हैं। यह गांव ...

                                               

दौलताबाद

दौलताबाद महाराष्ट्र का एक नगर है। इसका प्राचीन नाम देवगिरि है।। मुहम्म्द बिन तुगलक़ की राजधानी। यह औरंगाबाद जिले में स्थित है। यह शहर हमेशा शक्‍तिशाली बादशाहों के बहन लिए आकर्षण का केंद्र साबित हुआ है। दौलताबाद की सामरिक स्थिति बहुत ही महत्‍वपूर् ...

                                               

नांदेड़

नांदेड़ महाराष्ट्र राज्य का एक शहर है। दक्कन का पठार में गोदावरी नदी के तट पर बसा नांदेड़ महाराष्ट्र का प्रमुख शहर है। औरंगाबाद के बाद यह राज्य का सबसे बड़ा शहर है। नंदा तट के कारण इस शहर का नाम नांदेड़ पड़ा। सातवीं शताब्दी ईसा पूर्व में नंदा तट ...

                                               

पंचगनी

पंचगनी या पान्न्च्गनी एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है जो भारत के महाराष्ट्र राज्य के सतारा जिले में एक नगर परिषद है। यह कई प्रमुख आवासीय शिक्षण संस्थानों के लिए प्रसिद्ध है।

                                               

पंचवटी

पंचवटी भारत के महाराष्ट्र के नासिक में गोदावरी नदी के किनारे स्थित विख्यात धार्मिक तीर्थस्थान। त्रेतायुग मे लक्ष्मण जी व सीता माता सहित श्रीरामजी ने वनवास‌ के कुछ समय यहाँ बिताए। पंचवटी - वनवास के समय वन में राम ने जिस स्थान पर अपना निवास बनाया। ...

                                               

पिंपरी

पिंपरी, भारत के महाराष्ट्र राज्य का एक प्रमुख औद्योगिक शहर है। महाराष्ट्र की सांस्कृतिक राजधानी कहलाने वाले पुणे शहर से यह शहर केवल १० किलोमीटर की दूरी पर पवना नदी के किनारे बसा है।

                                               

पैठण

पैठन पूर्व जो पहले प्रतिसथाना के नाम से जाना जाता था, जो महाराष्ट्र औरंगाबाद जिले की एक नगरपालिका और साथ ही एक शहर है। यह सातवाहन राजवंश की राजधानी थी, जो दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व से दूसरी शताब्दी तक रही थी।

                                               

बारामती

बारामती महाराष्ट्र प्रान्त का एक शहर है। बारामती पुणे जिले में स्थित एक तहसील है। यह शहर करहा नदी के तट पर स्थित है। करहा नदी के कारण इसके दो भाग हुए हैं।यहां गन्ना, अंगूर, इत्यादी की खेती होती है।यहाँ से शक्कर और अंगूर युरोप में जाते है।शरद पवार ...

                                               

मराठवाडा मुक्ति संग्राम दिवस

मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम दिवस जो भारत के महाराष्ट्र राज्य का एक राजकीय त्योहार है। यह त्योहाहर वर्ष १७ सितम्बर को मनाया जाता है। इस दिन १९४८ में मराठवाड़ा से निज़ाम कि सत्ता समाप्त हो गयी और वो भारत का हिस्सा बना।

                                               

मराठी लोग

बाजीराव प्रथम नाना साहेब नारायणराव पेशवा माधवराव के छोटे भाई बालाजी बाजीराव नानासाहब पेशवा बाजीराव द्वितीय रघुनाथराव स्वयं को पेशवा घोषित किया माधवराव पेशवा सवाई माधवराव बालाजी विश्वनाथ

                                               

महाबलेश्वर

महाबलेश्वर भारत के महाराष्ट्र प्रान्त का एक नगर है। सैरगाह नगर महाबलेश्वर, दक्षिण-पश्चिम महाराष्ट्र राज्य, पश्चिम भारत में स्थित है। महाबलेश्वर मुम्बई से 64 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में और सतारा नगर के पश्चिमोत्तर में पश्चिमी घाट की सह्याद्रि पहाड़ि ...

                                               

महाराष्ट्र का इतिहास

ऐसा माना जाता है कि सन १००० ईसापूर्व से पहले महाराष्ट्र में खेती होती थी लेकिन उस समय मौसम में अचानक परिवर्तन आया और कृषि रुक गई थी। सन् ५०० इसापूर्व के आसपास मुंबई एक महत्वपूर्ण पत्तन बनकर उभरा था। यह सोपर ओल्ड टेस्टामेंट का ओफिर था या नहीं इस प ...

                                               

मार्केट यार्ड

मार्केट यार्ड भारत के महाराष्ट्र राज्य के पुणे ज़िले का एक क्षेत्र अर्थात नेबरहुड है यह पुणे ज़िले का एक मार्केट प्लेस है। यह महर्षि नगर इलाके में गुलटेकड़ी के पास स्थित है। यह पुणे में एक महत्वपूर्ण व्यापारिक क्षेत्र भी गिना जाता है। यह फल,सब्जि ...

                                               

रालेगन सिद्धि

रालेगन सिद्धि, भारत के पश्चिम में स्थित राज्य महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले, की पारनेर तहसील में स्थित एक गांव है। यह पुणे से ८७ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गांव का क्षेत्रफल ९८२.३१ हेक्टेयर है । पर्यावरण संरक्षण की दृष्टि से इसे एक आदर्श गांव मान ...

                                               

लातूर

लातूर महाराष्ट्र प्रान्त का एक शहर है। महाराष्ट्र के दक्षिणी सिरे में स्थित लातूर एक ऐतिहासिक स्‍थल है। इसे दक्षिण काशी के नाम से भी जाना जाता है। मांजरा नदी के तट पर बसे इस जिले में भारतीय पुराणों में वर्णित देवी तुलजाभवानी का मंदिर है। मूल नगर ...

                                               

वैजापुर

वैजापुर यह एक शहर है जो भारत देश के महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद जिले में स्थित है। यहां पहूंचने के लिये रोटेगांव रेल्वे स्थानक को उतर सकते है, या फिर औरंगाबाद से मुंबई को नासिक से होकर जानेवाला राज्य महामार्ग यहां से गुजरता है। नारंगी और सारंगी ...

                                               

सतारा

सातारा भारत के महाराष्ट्र प्रान्त का एक शहर है। सतारा, बम्बई प्रेसीडेन्सी का एक नगर, पहले यह राज्य भी था। सतारा शाहूजी के वंशजों की राजधानी रहा। यद्यपि मराठा राज्य की सत्ता पेशवाओं के हाथों में जाने के फलस्वरूप यह उनके अधीन था।

                                               

सिंधुदुर्ग

सिंधुदुर्ग, शिवाजी द्वारा सन 1664 में महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग जिले के मालवन तालुका के समुद्र तट से कुछ दूर अरब सागर में एक द्वीप पर निर्मित एक नौसैनिक महत्व के किले का नाम है। यह मुंबई के दक्षिण में महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र में स्थित है। भारत ...

                                               

हरिहर नातू

हरिहर नातू महाराष्ट्र के प्रसिद्ध कीर्तनकार हैं। वे नारदीय कीर्तन शैली में कीर्तन करते हैं। श्री नाथू पिछले ३२ वर्षों से कीर्तन कर रहे हैं और बहुत से कीर्तन सम्मेलनों में भाग लिया है। उनके कीर्तन का उद्देश्य भारतीय संस्कृति के अर्थ एवं उसकी महानत ...

                                               

पशु पालन कालेज, सेलिसीह, मिजोरम

पशु पालन कालेज, सेलिसीह, मिजोरम में स्थित है। यह कालेज 5 वर्षीय बी वी एस सी तथा पशु पालन डिग्री कार्यक्रम चलाता है। यह कालेज केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय के अन्तर्गत कार्यरत है।

                                               

गारो पहाड़ियाँ

गारो पर्वत भारत के मेघालय राज्य में छोटे पहाड़ों की श्रंखला है जिसके अंतर्गत मेघालय के तीन ज़िले आते हैं, पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी गारो हिल्स। यह मेघालय में गारो-खासी श्रंखला का हिस्सा हैं। यहाँ मुख्य रूप से आदिवासी बसते हैं, जिनमें से मुख्यत: ...