ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 392




                                               

बदनौर

बदनौर नगर राजस्थान राज्य के उदयपुर ज़िले में स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है। बदनोर का प्राचीन नाम वर्धनपुर था । जिस पर मेर जाति के राजा शैल का राज़ था।जिसे महाराणा लाखा ने हराकर अपना अधिकार स्थापित किया था। मेरो मुख्य केंद्र वैराटगढ़ था। महाराणा ने वै ...

                                               

बहरोड़

यह अहीरवाल क्षेत्और राठ क्षेत्र के नाम से जाना जाता है। बहरोड़ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का एक हिस्सा है। बहरोड़ की औसत ऊंचाई 312 मीटर 1.024 फीट है। बहरोड़ राज्य की राजधानी से 130 किमी की दूरी पर और राष्ट्रीय राजधानी से 120 किमी की दूरी पर है, और ...

                                               

बांदीकुई

वर्तमान बांदीकुई इतिहास का राजस्थान में रेल आगमन के साथ शुरू होता है। अप्रैल 1874 में आगरा फोर्ट एवम बांदीकुई के मध्य तत्कालीन राजपुताना में पहली ट्रैन चली। उसके बाद तत्कालीन जयपुर महाराजा सवाई माधोसिंह जी ने यहां पर माधोगंज के नाम से अनाज मंडी क ...

                                               

बांसवाड़ा

बांसवाड़ा भारतीय राज्य राजस्थान के दक्षिणी भाग में स्थित एक शहर है। यह गुजरात और मध्य प्रदेश दोनों राज्यों की सीमा के निकट है। बांसवाड़ा की स्‍थापना वाहिया भील ने की थी, जो एक भील राजा था। वाहिया को राजा बांसिया भील के नाम से भी जाना जाता हैा बां ...

                                               

बाड़मेर

बाड़मेर राजस्थान राज्य के दूसरे सबसे बड़े ज़िले, बाड़मेर ज़िले, का मुख्यालय है। यह क्षेत्र देश के सबसे बड़े तेल और कोयला उत्पादक क्षेत्रों में से एक है। इस शहर की स्थापना बहाड़ राव ने 13वीं शताब्दी में की थी। उन्हीं के नाम पर इस जगह का नाम बाड़मे ...

                                               

बायतू

बायतू भारत के राजस्थान राज्य के बाड़मेर ज़िले में स्थित एक ग्रामपंचायत और तहसील है। यहाँ पर सिद्ध श्री खेमाबाबा का मन्दिर प्रसिद्ध है। यह स्थान बाड़मेर से जोधपुर रेलमार्ग पर स्थित है।

                                               

बाराँ

बाराँ भारत के राजस्थान राज्य के बाराँ ज़िले में स्थित एक नगर है। यह उस ज़िले का मुख्यालय भी है। नगर के पास रामगढ़ क्रेटर स्थित है, जहाँ सम्भव है कि इतिहास में कभी एक उल्का प्रहार से क्रेटर बन गया हो। इसके किनारे भांड देवा मंदिर खड़ा है।

                                               

बारी, भारत

बारी अपने लाल रंग के बलुआ पत्थर सैंडस्टोन के लिए जाना जाता है। दिल्ली व आगरा के कई प्रसिद्ध स्थापत्य हैं जो बारी क्षेत्र से लिगए बलुआ पत्थर से बने हैं, जिनमें दिल्ली का लाल क़िला, हुमायूँ का मकबरा व राष्ट्रपति भवन और आगरा का किला शामिल हैं। कई स् ...

                                               

बालोतरा

बालोतरा राजस्थान राज्य के बाड़मेर जिले का एक शहर है। बालोतरा को "वस्त्र नगरी" के नाम से जाना जाता है।बालोतरा भारत में राजस्थान राज्य के बाड़मेर जिले का एक शहर है। यह जोधपुर से लगभग 105 किमी दूर है। यह शहर हाथ ब्लॉक प्रिंटिंग और कपड़ा उद्योग के लि ...

                                               

बीकानेर

बीकानेर राजस्थान राज्य का एक शहर है। बीकानेर राज्य का पुराना नाम जांगल देश था। इसके उत्तर में कुरु और मद्र देश थे, इसलिए महाभारत में जांगल नाम कहीं अकेला और कहीं कुरु और मद्र देशों के साथ जुड़ा हुआ मिलता है। बीकानेर के राजा जंगल देश के स्वामी होन ...

                                               

बुधपुरा

सन् 2001 की जनगणना के अनुसार बुधपुरा की जनसंख्या 4387 थी, जिसमें 54% पुरुष एवं 46% महिलाएँ शामिल हैं। बुधपुरा की औसत साक्षरता दर 25% है जो राष्ट्रीय औसत 59.5% से कम है। यहाँ की पुरुष साक्षरता दर 35% और महिला साक्षरता दर 13% है। यहाँ छः वर्ष से कम ...

                                               

बूँदी

बूँदी एक पूर्व रियासत थी। इसकी स्थापना सन 1242 ई. में राव देवाजी ने की थी। बूँदी पहाड़ियों से घिरा सघन वनाच्छादित सुरम्य नगर है। राजस्थान का महत्त्वपूर्ण पर्यटन स्थल है।बूंदी परकोटे के चार द्वार है:-चौगान द्वार मीरा द्वार खोजा द्वार लंका द्वार जो ...

                                               

ब्यावर

ब्यावर प्रमुख रेल और सड़क जंक्शन वाला शहर है। यह कृषि-उत्पादों और कपड़ों का एक व्यावसायिक केंद्र है। उद्योगों में कपास की ओटाई, हथकरघा, होज़री निर्माण और काष्ठशिल्प से जुड़े उद्योग शामिल हैं। यहाँ के महाविद्यालय महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्याल ...

                                               

भरतपुर

भरतपुर राजस्थान का एक प्रमुख शहर होने के साथ-साथ देश का सबसे प्रसिद्ध पक्षी उद्यान भी है। 29 वर्ग कि॰मी॰ में फैला यह उद्यान पक्षी प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है। विश्‍व धरोहर सूची में शामिल यह स्थान प्रवासी पक्षियों का भी बसेरा है। भर ...

                                               

भीण्डर

भीण्डर भारत के राजस्थान राज्य के उदयपुर ज़िले में स्थित एक नगर है जो कि उदयपुर से 60 किलोमीटर दूर स्थित हैं । महाराज रणधीर सिंह भीण्डर:- राजस्थान के प्रसिद्ध सामाजिक-राजनीतिक नेतृत्वकारी व्यक्तित्व और जनता सेना के संस्थापक महाराज रणधीर सिंह भींडर ...

                                               

भीनमाल

भीनमाल राजस्थान राज्य के जालौर जिले के अन्तर्गत भारत का एक ऐतिहसिक शहर है। शहर प्राचीनकाल में श्रीमाल नगर के नाम से जाना जाता था। "श्रीमाल पुराण" व हिंदू मान्यताओ के अनुसार विष्णु भार्या महालक्ष्मी द्वारा इस नगर को बसाया गया था। इस प्रचलित जनश्रु ...

                                               

भीलवाड़ा

भीलवाड़ा सिटी, राजस्थान के मेवाड़ का एक नगर है। राजस्थान के मेवाड़ क्षेत्र में स्थित भीलवाड़ा राज्य के सबसे बड़े जिलों में से एक है और ऐतिहासिक महत्व के कारण पर्यटकों के बीच बहुत लोकप्रिय है। हालांकि, कई धार्मिक स्थलों की उपस्थिति के कारण यहां हि ...

                                               

मंडरायल

मंडरायल राजस्थान राज्य के करौली जिले का एक क़स्बा है। यहाँ की जनसँख्या 74600 है। मंडरायल के पास के शहरों में सबलगढ़, ग्वालियर, करौली मुख्य रूप से हैं। यहाँ हिन्दी भाषा बोली जाती है। इन्हें भी देखे ----- करौली

                                               

मंडावा

मंडावा भारत के राजस्थान राज्य के झुंझुनू ज़िले में स्थित एक नगर है। यह शेखावाटी क्षेत्र का हिस्सा है। मंडावा उत्तर में जयपुर से 190 किमी स्थित है। मंडावा अपने किले और हवेली के लिए जाना जाता है।

                                               

मध्यमिका

मध्यमिका राजस्थान, भारत में चित्तौड़ के निकट एक प्राचीन नगरी है। इस नगरी को अब नगरी के नाम से ही जाना जाता है। एक पुरात्मा वीर यवन ने इस नगरी को घेर लिया था, जो सम्भवत: यवन राजा मीनेंडर था। तीसरी शताब्दी ई.पू. में यह नगर बहुत महत्त्वपूर्ण स्थान म ...

                                               

मांगरोल, राजस्थान

मांगरोल भारत के राजस्थान राज्य के बाराँ ज़िले में स्थित एक नगर है। नगर के पास रामगढ़ क्रेटर स्थित है, जहाँ सम्भव है कि इतिहास में कभी एक उल्का प्रहार से क्रेटर बन गया हो। इसके किनारे भांड देवा मंदिर खड़ा है।

                                               

मांडलगढ़

यह स्थान, भीलवाड़ा के दक्षिण-पूर्व के 54 किमी की दूरी पर स्थित है। यह उपविभाग, तहसील और पंचायत समिति समान नाम का है। यह स्थान ऐतिहासिक महत्व का है क्योंकि मुस्लिम इतिहासकारों के मुताबिक, मध्यकालीन समय के दौरान कई भयंकर लड़ाई का दृश्य था। वीरविनोद ...

                                               

मुनाबाव

मुनाबाव भारत के राजस्थान राज्य के बाड़मेर ज़िले में स्थित एक बस्ती है। यह भारत और पाकिस्तान के सिन्ध प्रान्त की अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर स्थित है और भारत पाकिस्तान के मध्य चलने वाली रेल, थार एक्सप्रेस, मुनाबाव से चलती है।

                                               

मेड़ता

मेड़ता भारत के राजस्थान राज्य के नागौर जिले में स्थित एक शहर है। मेड़ता मे जाट जाती की बहुलता है । मेड़ता तहसील की जनसंख्या 250000 है जिसमे से 95% हिन्दू, 5% मुसलमान धर्मावलम्बी हैं।

                                               

रतनगढ़, चूरू

रतनगढ़ भारत के राजस्थान राज्य के चूरू ज़िले में स्थित एक नगर है। यह पहले कोलासर कहलाता था। रतनगढ़ अपनी पुरानी हवेलियों के लिए प्रसिद्ध है।

                                               

राजगढ़, चूरू

राजगढ़ भारत के राजस्थान राज्य के चूरू ज़िले में स्थित एक नगर व तहसील है। बीकानेर के भूतपूर्व महाराज, सार्दूल सिंह, के लिए इसे सार्दूलपुर के नाम से भी जाना जाता है। यह हरियाणा की सीमा के पास स्थित है, जिसके पार भिवानी ज़िले में बहल स्थित है।

                                               

राजसमन्द

राजसमन्द भारत के राजस्थान राज्य के राजसमन्द ज़िले में स्थित एक नगर है। यह ज़िले का मुख्यालय भी है। शहर का नाम पास ही स्थित राजसमन्द झील से पड़ा है जिसे 17वीं शताब्दी में मेवाड़ के राज सिंह प्रथम ने बनवाया था। राजसमन्द संगमरमर की एक बड़ी और प्रसिद ...

                                               

राजाखेड़ा

राजाखेड़ा भारत के राजस्थान राज्य के धौलपुर ज़िले में स्थित एक नगर है। यह उत्तर प्रदेश की सीमा के पास बसा हुआ है। धौलपुऔर आगरा इसके सबसे समीपी रेलवे स्टेशन हैं और दोनों ही राजाखेड़ा से 36 किमी दूर हैं। इस क्षेत्र में उटंगन नदी राजस्थान और उत्तर प् ...

                                               

रामगंज मंडी

रामगंज मंडी भारत के राजस्थान राज्य के कोटा ज़िले में स्थित एक नगर है। यहाँ धनिया के बीज की सबसे बड़ी मंडी है, और सही मौसम में रोज़ 6500 टन बीज बिकने के लिए आता है।

                                               

रामदेवरा

रामदेवरा भारत के राजस्थान राज्य के जैसलमेर ज़िले में स्थित एक गाँव है। यह पोखरण से लगभग 12 किमी उत्तर में स्थित है। गाँव का नाम रामदेव पीपर पड़ा है, जिन्होंने सन् 1384 में समाधी ली थी।

                                               

रायसिंहनगर

रायसिंहनगर राजस्थान के गंगानगर जिले में स्थित एक शहर और नगर पालिका है। यह २५२ मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित है। इसका क्षेत्रफल लगभग ०५ वर्ग किलोमीटर है। शहर का उ.पू. भाग सिंचित है जबकि दक्षिण पश्चिमी भाग कुछ रेतीला समतल है। यहां गंगनहर के पानी से सि ...

                                               

रावतभाटा

रावतभाटा भारतीय राज्य राजस्थान के चितौड़गढ़ जिले का एक शहर,तहसील एवं नगर पालिका क्षेत्र है। इसका निकटतम नगर कोटा, यहाँ से 50 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। रावतभाटा, देश के अधिकतर हिस्सों से कोटा के माध्यम से ही जुड़ता है। रावतभाटा नगर पालिका क्षेत्र ...

                                               

लाखेरी

सन् 2001 की जनगणना के अनुसार लाखेरी की कुल जनसंख्या 26.910 थी। जिसमें 52% पुरुष एवं 48% महिलाएँ शामिल हैं। लाखेरी की औसत साक्षरता दर 64% है जो राष्ट्रीय औसत 59.5% से अधिक है। यहाँ की पुरुष साक्षरता दर 77% और महिला साक्षरता दर 50% है। यहाँ छः वर्ष ...

                                               

लाडनूं

लाडनूँ राजस्थान का एक कस्बा है जो नागौर जिले की लाडनूं तहसील का मुख्यालय है। दिल्ली से यह 380 किमी एवं जयपुर से 220 किमी की दूरी पर स्थित है। राजस्थान राज्य बनने से पहले यह जोधपुर रियासत की जागीर थी। यह नगर सुजानगढ, सीकर, बीकानेर, जोधपुर, अजमेर, ...

                                               

लालसोट

लालसोट भारत के राजस्थान प्रदेश के दौसा ज़िले मे स्थित एक नगर है। यहाँ का प्राचीन हेला ख्याल दंगल प्रदेशभर मे प्रसिद्ध है। शहर के आसपास ग्रामीण क्षेत्र मे पपलाज माता मंदिर, बिनोरी बालाजी मंदिर, खुर्रा माता मंदिर, ब्याई माता मंदिर भोमिया जी महाराज ...

                                               

लोंगेवाला

लोंगेवाला भारत के राजस्थान राज्य के जैसलमेर ज़िले में स्थित एक नगर है। यह भारत व पाकिस्तान की सीमा पर स्थित है और 1971 भारत पाक युद्ध में यहाँ टैंक युद्ध हुआ था।

                                               

वज़ीरपुर, राजस्थान

वज़ीरपुर भारत के राजस्थान राज्य के सवाई माधोपुर ज़िले में स्थित एक नगर व तहसील है। यह राजस्थान के गंगापुर सिटी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। इस कस्बे का लोकसभा क्षेत्र टोंक-सवाई माधोपुर लगता है।

                                               

शादूलपुर

शादूलपुर राजस्थान प्रान्त का एक शहर है। यह हवेलियों, रेत के सुंदर टीलों, छतरियों और फ्रेस्को चित्रों के लिये प्रसिद्ध है। यहाँ के के रहने वाले लक्ष्मी मित्तल विश्व में इस्पात किंग माने गये हैं।

                                               

शाहपुरा, भीलवाड़ा

एक प्राचीर से घिरे शाहपुरा की स्थापना 1629 में हुई थी। और इसका नाम मुग़ल बादशाह शाहजहाँ के नाम पर रखा गया था। जिन्होंने 1628 से 1658 तक शासन किया। इस नगर में रामसनेहियों रामभक्तों रामद्वारा मध्यकालीन भिक्षुओं की पीठ थी। शाहपुरा भूतपूर्व सियासत शा ...

                                               

श्री माधोपुर

श्रीमाधोपुर भारतीय राज्य राजस्थान के सीकर जिले की एक नगरपालिका और शहर है। इस शहर में 35 वार्ड है । ये शहर राजस्थान के नये शहरों में से एक है। ये शहर अपनी अनाज मण्डी, मार्बल उधोग,जौ व्यापार, बर्तन व्यापार, हवेलियों और कपड़ा व खादी व्यापार की दृष्ट ...

                                               

श्रीगंगानगर

श्रीगंगानगर राजस्थान प्रदेश का सबसे उत्तरी जनपद है जिसके उत्तर में फाजिल्का पंजाब एवं हनुमानगढ़, दक्षिण में बीकानेर तथा चूरू राजस्थान, तथा पश्चिम में पाकिस्तान है। पहले यह बीकानेर राज्य का एक भाग था। गंगानगर जनपद का प्रमुख प्रशासकीय केंद्र तथा वि ...

                                               

संगरिया

संगरिया भारत के राजस्थान राज्य के हनुमानगढ़ ज़िले में स्थित एक नगर है। यह उस त्रिबिन्दु के समीप है जहाँ राजस्थान, हरियाणा और पंजाब राज्य मिलते हैं।

                                               

सरदारशहर

सरदारशहर यह बीकानेर से ८५ मील पूर्वोत्तर में बसा है। महाराजा सरदार सिंह ने सिंहासनारुढ़ होने के पूर्व ही यहां पर एक किला बनवाया था। शहर के चारों तरफ टीलें हैं, जिससे इसका सौंदर्य बहुत बढ़ गया है। ऐतिहासिक दृष्टि से महत्व रखने वाली एक छतरी भी है। ...

                                               

सरमथुरा

सरमथुरा भारत के राजस्थान राज्य में धौलपुर जिले में स्थित है। सरमथुरा तहसील लाल बलुआ पत्थर के लिए जाना जाता है। ऐतिहासिक रूप से, सरमथुरा के लाल बलुआ पत्थर का उपयोग तालाब-ए-शाही, जुबली हॉल, धौलपुर, धौलपुर राज पेलेस और निहाल घड़ी टावर के निर्माण के ...

                                               

सलूम्बर

सलूंबर पर सदियों से भील राजाओं का शासन रहा था । यह क्षेत्र भीलों की वीरता के लिए जाना गया । करीब 12 वी सदी तक यह क्षेत्र भील राजाओं के शासन का क्षेत्र रहा, यहां के अंतिम भील राजा राजा सोनारा भील रहे, उनकी मृत्यु के पश्चात इनकी पत्नी सती हो गई, आज ...

                                               

सवाई माधोपुर

जिला महान चौहान शासक राणा हम्मीर देेव चौहान और रणथम्‍भौर राष्‍ट्रीय उद्यान के लिए जाना जाता है, जो बाघों के लिए प्रसिद्ध है। सवाई माधोपुर जिले में निम्‍न तहसीलें हैं- गंगापुर सिटी, सवाई माधोपुर, चौथ का बरवाड़ा, बौंली, मलारना डूंगर, वजीरपुर, बामनव ...

                                               

सादुलशहर

सादुलशहर भारत के राजस्थान राज्य के श्रीगंगानगर ज़िले में स्थित एक नगर है। शहर का नाम महाराज गंगा सिंह के पुत्र सर्दूल सिंह पर रखा गया था, लेकिन मूल उच्चारण से परिवर्तित हो गया।

                                               

सिंघाना, राजस्थान

सिंघाना भारत के राजस्थान राज्य के झुंझुनू ज़िले में स्थित एक नगर है। यहाँ खेत्री कॉपर लिमिटेड स्थित है, जो काँसा उत्पादन करने वाली एक सरकारी कम्पनी है।

                                               

सिरोही

सिरोही पश्चिमी भारत में राजस्थान राज्य में एक शहर है। यह सिरोही ज़िले का प्रशासनिक मुख्यालय है और पूर्व में देवड़ा चौहान राजपूत द्वारा शासित सिरोही राज्य रियासत की राजधानी थी। इसमें पांच तहसील हैं: आबू रोड, शिवगंज, रेवदर, पिंडवाड़ा और सिरोही स्वय ...

                                               

सीकर

सीकर भारत के राजस्थान राज्य का एक शहर एवं लोकसभा क्षेत्र है। यह सीकर ज़िले का मुख्यालय भी है। सीकर शहर शेखावाटी के प्रवेश द्वार या हृदय स्थल के नाम से जाना जाता है। सीकर एक एतिहासिक शहर है जहाँ पर कई हवेलियां है जो कि मुख्य पर्यटक आकर्षण हैं।