ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 426




                                               

ललितपुर

ललितपुर उत्तर प्रदेश राज्य प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध एक शहर है। यह ललितपुर जिला का मुख्यालय है। यह उत्तर में झांसी, दक्षिण में सागर, पूर्व में मघ्‍यप्रदेश के टीकमगढ़, छतरपुर एवं शिवपुरी तथा पश्‍िचम गुना से सटा हुआ है। बेतवा, धसन और जमनी यहां क ...

                                               

लहरपुर

शहर की स्थापना सन् 1370 में फिरोज़ शाह तुगलक 1351-1388 ईसवी ने बहराइच में सय्यद सलार की मज़ार की ओर प्रस्थान करते हुए करी थी। उस समय यहाँ कुछ कायस्थ और मुस्लिम परिवार बसाए गए। सन् 1400 के आसपास एक स्थानीय हिन्दू पासी शासक, लहरी पासी, ने यहाँ कब्ज ...

                                               

लालगंज, रायबरेली

लालगंज भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के रायबरेली ज़िले में स्थित एक नगर है। राष्ट्रीय राजमार्ग ३१ यहाँ से गुज़रता है और पूरे ज़िले का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन यहाँ स्थित है। प्रशासनिक दृष्टि से यह ज़िले में तहसील का दर्जा रखता है।

                                               

लोनी

यह ग़ाज़ियाबाद से 20 किलोमीटर की दूरी पर और दिल्ली से सहारनपुर जाने वाले रास्ते पर दिल्ली से भी 20 किलोमीटर ही पड़ता है। यह दिल्ली यूपी बॉर्डर पर स्थित है। लोनी ग़ाजियाबाद की एक तहसील है लोनी के वर्तमान विधायक है नन्दकिशोर गुर्जर गनौली।

                                               

शक्तिनगर, उत्तर प्रदेश

शक्तिनगर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के सोनभद्र ज़िले में स्थित एक शहर है। राष्ट्रीय राजमार्ग ३९ यहाँ से गुज़रता है। शक्तिनगर मध्यप्रदेश की सीमा से लगा हुआ है। यहाँ पर राष्ट्रीय तापविद्युत निगम का २००० मेगावाट का महा ताप बिजलीघर है।

                                               

शामली

महाभारत काल में शामली कुरु क्षेत्र का हिस्सा था। यह आजादी के समय अविभाजित पंजाब से सटा था। १८५७ के प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के समय विद्रोह यहाँ भी हुआ। परन्तु विद्रोह दबा दिया गया। इसी के निकट ऊन नगर है जिस पर कभी हूणों ने आक्रमण किया था । ...

                                               

शाहाबाद, हरदोई ज़िला

बिहार में इसी नाम के भूतपूर्व ज़िले के लिए शाहाबाद जिला का लेख देखें शाहाबाद भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के हरदोई ज़िले में स्थित एक नगर है। यह प्रशासन प्रणाली में एक तहसील का दर्जा रखता है। 2011 में हुई भारत की जनगणना के अनुसार इस तहसील में 459 ग ...

                                               

शिकोहाबाद

शिकोहाबाद शहर की स्थापना ने की थी। जिसके बाद औरंगज़ेब के बड़े भाई दारा शिकोह के द्वारा आक्रमण कर अपना राज स्थापित कर लिया तत्पश्चात शिकोहाबाद के पूर्व प्रचलित नाम किशननगर से बदलकर दारा शिकोह के नाम अनुसार शिकोहाबाद हुआ। दारा शिकोह बहुत क्रूर राजा ...

                                               

शिवली

शिवली भारत के उत्तरप्रदेश राज्य के कानपुर देहात जिले में नगर पंचायत है जिसका गठन वर्ष १९७३ में हुआ था।एक बंजारे को जंगल में सफाई करते समय एक शिव मूर्ति मिली। इसी शिव के नाम पर इस आवादी का नाम शिवली पड़ा।

                                               

सण्डीला

यह काफी समय पूर्व नैमिषारण्य तीर्थ का हिस्सा थी और यहीं पर शाण्डिल्य ऋषि ने तपस्या की थी। प्रदेश की राजधानी लखनऊ से पश्चिम 54 किमी0 दूर शाण्डिल्य ऋषि की तपोभूमि सण्डीला स्थित है।

                                               

सफीपुर

सफीपुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के उन्नाव ज़िले में स्थित एक नगर है। यह उन्नाव-हरदोई राजमार्ग पर स्थित है। प्रशासनिक प्रणाली में यह एक तहसील का दर्जा रखता है। 2011 में हुई भारत की जनगणना के अनुसार इस तहसील में 406 गांव हैं।

                                               

सम्भल

सतयुग में इस स्थान का नाम सत्यव्रत था, त्रेता में महदगिरि, द्वापर में पिंगल और कलयुग में सम्भल है। इसमे ६८ तीर्थ और १९ कूप हैं यहां एक अति विशाल प्राचीन मन्दिर है, इसके अतिरिक्त तीन मुख्य शिवलिंग है, पूर्व में चन्द्रशेखर, उत्तर में भुबनेश्वर और द ...

                                               

सरसावा

सरसावा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के सहारनपुर ज़िले में स्थित एक नगर है। यह सहारनपुऔर यमुनानगर के बीच बसा हुआ है। इसकी सहारनपुर से दूरी 18 किमी तथा यमुनानगर से 17 किमी है।

                                               

सहतवार

सहतवार उत्तर प्रदेश राज्य के बलिया जनपद की एक नगर पंचायत है। सहतवार इसके आस-पड़ोस में स्थित विभिन्न छोटे ग्रामों के लिए मुख्य बजार है, और रेल तथा सड़क यातायात के माध्यम से उत्तर प्रदेश और बिहार के कई प्रमुख नगरों से जुड़ा है। यहाँ छपरा-बलिया रेलख ...

                                               

सहारनपुर

सहारनपुर की स्थापना 1340 के आसपास हुई और इसका नाम एक राजा शाह रणवीर के नाम पर पड़ा, बाद में मुगलों द्वारा इसको सहारनपुर किया गया। सहारनपुर की काष्ठ कला और दारुल उलूम देवबंद विश्वपटल पर सहारनपुर को अलग पहचान दिलाते हैं। ऐसा भी माना जा सकता है किस ...

                                               

सिकंदरपुर, उत्तर प्रदेश

सिकंदरपुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के बलिया ज़िले में स्थित एक नगर व नगरपंचायत है, जो ज़िले में तहसील का दर्जा भी रखता है। इसकी स्थापना के बाद में राजा सिकंदर के नाम से इस शहर का नाम रखा गया है। अतीत में यह इत्र व्यापार का प्रसिद्ध केंद्र था।

                                               

सिकंदरा

यह नगर रोड द्वारा उत्तर में २० किलोमीटर झींझक रेलवे स्टेशन उत्तर मध्य रेलवे से जुड़ा हुआ है। जहाँ से पूर्व की ओर कानपुर,लखनऊ,इलाहबाद,पटना आदि नगरों से जुड़ा हुआ है। पश्चिम में इटावा,आगरा,दिल्ली आदि नगरों से जुड़ा हुआ है। पश्चिम दिशा में रोड द्वार ...

                                               

सिनौली, बागपत

सिनौली भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक पुरातात्विक स्थल है, जहां सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित 125 कब्रें पाई गईं थी। यह राज्य के बागपत जनपद की बड़ा़ैैैत तहसील में स्थित है। ये कब्रें 2200-1800 ईसा पूर्व दिनांकित हैं। 2005 में खोजा गया सिनौली, भा ...

                                               

सिराथू

सिराथू भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के कौशाम्बी ज़िले में स्थित एक नगर है। सिराथू का मुख्य पर्यटन स्थल कड़ा धाम है जो कि सिराथू रेलवे स्टेशन से लगभग 7 किलोमीटर की दूरी पर उत्तर दिशा में है यहाँ शीतला माता मंदिर स्थित है।

                                               

सैद नगली

सैद नगली भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में जनपद अमरोहा का एक कस्बा है। इसकी जनसंख्या लगभग १५००० है। यह संभल और हसनपुर रोड पर स्थित है। इसकी तहसील हसनपुर है। कुछ साल पहले तक यह कस्बा जनपद मुरादाबाद में आता था।

                                               

सैफ़ई

सैफ़ई, उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में स्थित एक कस्बा है। यह इटावा जिले की एक तहसील और विकास खंड भी है। यह मुलायम सिंह यादव, समाजवादी पार्टी के संस्थापक अध्यक्ष, निवर्तमान रक्षा मंत्री और निवर्तमान मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश का जन्मस्थान भी है।

                                               

सोनौली

सोनौली उत्तर प्रदेश का एक कस्बा है जो भारत-नेपाल सीमा पर स्थित है और दोनों देशों के बीच आवागमन का प्रमुख संक्रमण बिन्दु है। यह महराजगंज ज़िले में गोरखपुर से ९० किमी दूर है। सोनौली से सबसे पास स्थित रेलवे स्टेशन नौतनवाँ है जो यहाँ से ७ किमी दूर है ...

                                               

सोरों

सोरों सूकरक्षेत्र भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में कासगंज जनपद का एक नगर है। यहाँ प्रत्येक अमावस्या, सोमवती अमावस्या, पूर्णिमा, रामनवमी, मोक्षदा एकादशी आदि अवसरों पर तीर्थयात्रियों का बड़ी संख्या में आवागमन होता है और गंगा में स्नान कर पुण्य प्राप् ...

                                               

हर्रैया

हर्रैया मनोरमा नदी के तट पर स्थित है। इस नदी की महिमा का वर्णन शास्त्रों में भी है: यथा - अन्य क्षेत्रे कृतं पापं काशी क्षेत्रे विनश्यति। काशी क्षेत्रे कृतं पापं प्रयाग क्षेत्रे विनश्यति। प्रयाग क्षेत्रे कृतं पापं मनोरमा विनश्यति। मनोरमा कृतं पाप ...

                                               

हसनगंज

हसनगंज भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के उन्नाव ज़िले में स्थित एक नगर है। प्रशासनिक प्रणाली में यह एक तहसील का दर्जा रखता है। 2011 में हुई भारत की जनगणना के अनुसार इस तहसील में 520 गांव हैं।

                                               

हाथरस

हाथरस में दक्षिण-पश्चिमी दिशा में 19वीं शताब्दी के एक दुर्ग के भग्नावशेष विद्यमान हैं। कोई दस्तावेजी प्रमाण उपलब्ध नहीं है, यह इंगित करता है कि जब शहर बनाया गया था और इसे किसने बनाया था। जाट, कुशन, गुप्त साम्राज्य, मराठा और ठठेरे शासकों ने इस क्ष ...

                                               

हापुड़

हापुड़ उत्तर प्रदेश का एक मध्यम आकार का शहर एवं लोकसभा क्षेत्र है। यह एक रेलवे का जंक्शन भी है। यह ज़िले की प्रसिद्ध व्यपारिक मण्डी है। यहाँ पर तिलहन, गुड़, गल्ले और कपास का व्यापार अधिक होता है। स्टेनलेस स्टील पाइप, ट्यूब और हब बनाने के रूप में ...

                                               

अगस्त्यमुनि, रुद्रप्रयाग

अगस्त्यमुनि भारत के उत्तराखण्ड राज्य में रुद्रप्रयाग जिले में स्थित एक शहर है। यह ऋषिकेश-केदारनाथ मार्ग पर स्थित है। रूद्रप्रयाग से अगस्त्यमुनि की दूरी १८ किलोमीटर है। यह समुद्र तल से १००० मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह मन्दाकिनी नदी के तट पर स्थि ...

                                               

कपकोट

कपकोट भारत के उत्तराखण्ड राज्य के अन्तर्गत कुमाऊँ मण्डल के बागेश्वर जिले का एक नगर है। सरयू नदी के तट पर बसा कपकोट जनपद मुख्यालय, बागेश्वर से २५ किमी की दूरी पर स्थित है, और कपकोट तहसील का मुख्यालय है, जो क्षेत्रफल के आधापर बागेश्वर जनपद की सबसे ...

                                               

कोटद्वार

कोटद्वार उत्तराखण्ड राज्य के गढ़वाल मण्डल में स्थित पौड़ी जिले का एक मुख्य नगर है। खोह नदी के तट पर स्थित यह नगर इतिहास में खोहद्वार नाम से भी जाना जाता था। कोटद्वार उत्तर प्रदेश की सीमा से सटा हुआ है। इसे गढ़वाल का प्रवेशद्वार भी कहा जाता है। को ...

                                               

गंगोलीहाट

गंगोलीहाट उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में स्थित एक नगर और तहसील मुख्यालय है, जो हाट कलिका मंदिर नामक सिद्धपीठ के लिये प्रसिद्ध है। इस सिद्ध पीठ की स्थापना आदिगुरू शंकराचार्य द्वारा की गयी। हाट कलिका देवी रणभूमि में गए जवानों की रक्षक मानी जाती है ...

                                               

चकराता

उत्तराखंड में स्थित चकराता अपने शांत वातावरण और प्रदूषण मुक्त पर्यावरण के लिए जाना जाता है। समुद्र तल से 7000 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह नगर देहरादून 98 किलोमीटर दूर है। चकराता प्रकृति प्रेमियों और ट्रैकिंग में रुचि लेने वालों के लिए एकदम उपयुक्त स ...

                                               

चमोली-गोपेश्वर

चमोली और गोपेश्वर इतिहास के अधिकांश भाग में पृथक कस्बे रहे हैं। चमोली अलकनंदा नदी के किनारे अपनी स्थिति के कारण बद्रीनाथ यात्रा का एक मुख्य पड़ाव था, जबकि गोपेश्वर नौवीं शताब्दी में निर्मित गोपीनाथ मंदिर के इर्द-गिर्द बसा एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल ...

                                               

टनकपुर

टनकपुर भारत के उत्तराखण्ड राज्य का एक प्रमुख नगर है। चम्पावत जनपद के दक्षिणी भाग में स्थित टनकपुर नेपाल की सीमा पर बसा हुआ है। टनकपुर, हिमालय पर्वत की तलहटी में फैले भाभर क्षेत्र में स्थित है। शारदा नदी टनकपुर से होकर बहती है। इस नगर का निर्माण १ ...

                                               

डीडीहाट

डीडीहाट उत्तराखण्ड राज्य के पिथौरागढ़ जनपद में स्थित एक नगर है। यह कुमाऊँ मण्डल में आता है, और डीडीहाट तहसील का मुख्यालय है। २०११ की जनगणना के अनुसार डीडीहाट की जनसंख्या ६,५२२ है, और यह उत्तराखण्ड की राजधानी देहरादून से ५२० किमी की दूरी पर स्थित ...

                                               

देहरादून

देहरादून, देहरादून जिले का मुख्यालय है जो भारत की राजधानी दिल्ली से २३० किलोमीटर दूर दून घाटी में बसा हुआ है। ९ नवंबर, २००० को उत्तर प्रदेश राज्य को विभाजित कर जब उत्तराखण्ड राज्य का गठन किया गया था, उस समय इसे उत्तराखण्ड की अंतरिम राजधानी बनाया ...

                                               

धरासू

धरासू भारत के उत्तराखण्ड राज्य के उत्तरकाशी ज़िले में स्थित एक नगर है। राष्ट्रीय राजमार्ग ३४ यहाँ से गुज़रता है। यह 1.339 मीटर की ऊँचाई पर भागीरथी नदी के किनारे बसा हुआ है।

                                               

पौड़ी

पौढ़ी गढ़वाल भारतीय राज्य उत्तराखंड का एक शहर है। यह पौढ़ी गढ़वाल जिला का मु़यालय है। पौढ़ी गढ़वाल जिला वृत्ताकार रूप में है। जिसमें हरिद्वार, देहरादून, टिहरी गढ़वाल, रूद्वप्रयाग, चमोली, अल्‍मोड़ा और नैनीताल सम्मिलित है। यहां स्थित हिमालय, नदियां ...

                                               

बागेश्वर

बागेश्वर उत्तराखण्ड राज्य में सरयू और गोमती नदियों के संगम पर स्थित एक तीर्थ है। यह बागेश्वर जनपद का प्रशासनिक मुख्यालय भी है। यहाँ बागेश्वर नाथ का प्राचीन मंदिर है, जिसे स्थानीय जनता "बागनाथ" या "बाघनाथ" के नाम से जानती है। मकर संक्रांति के दिन ...

                                               

बिन्दुखत्ता

बिन्दुखत्ता उत्तराखण्ड राज्य के नैनीताल जनपद में स्थित एक कस्बा है। लालकुआँ तहसील में स्थित यह कस्बा तहसील मुख्यालय, लालकुआँ से ५ किमी की दूरी पर स्थित है।

                                               

बेरीनाग

नगर के समीप ही बेणीनाग का ऐतिहासिक मन्दिर है, जो कुमाऊँ के प्रसिद्ध नाग मन्दिरों में एक है। इस मन्दिर की लोकप्रियता के कारण इसके समीपस्थ क्षेत्र को भी कालांतर में बेणीनाग कहा जाने लगा। समय बीतने के साथ-साथ यह नाम पहले बेणीनाग से बेड़ीनाग हुआ, और ...

                                               

मसूरी

मसूरी भारत के उत्तराखण्ड राज्य का एक पर्वतीय नगर है, जिसे पर्वतों की रानी भी कहा जाता है। देहरादून से 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित, मसूरी उन स्थानों में से एक है जहाॅं लोग बार-बार आते जाते हैं। घूमने-फिरने के लिए जाने वाली प्रमुख जगहों में यह एक ...

                                               

मुक्तेश्वर

मुक्तेश्वर उत्तराखण्ड के नैनीताल जिले में स्थित है। यह कुमाऊँ की पहाडियों में २२८६ मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। यहाँ से नंदा देवी, त्रिशूल आदि हिमालय पर्वतों की चोटियाँ दिखती हैं। यहाँ एक पहाड़ी के ऊपर शिवजी का मन्दिर है जो की २३१५ मीटर की ऊँचाई पर ...

                                               

मुनस्‍यारी

मुनस्‍यारी एक खूबसूरत पर्वतीय स्थल है। यह उत्‍तराखण्‍ड में जिला पिथौरागढ़ का सीमांत क्षेत्र है जो एक तरफ तिब्‍बत सीमा और दूसरी ओर नेपाल सीमा से लगा हुआ है। मुनस्‍यारी चारो ओर से पर्वतो से घिरा हुआ है। मुनस्‍यारी के सामने विशाल हिमालय पर्वत श्रंखल ...

                                               

रामनगर, उत्तराखण्ड

रामनगर, उत्तराखण्ड, भारत के नैनीताल ज़िले में स्थित एक कस्बा और नगर निगम बोर्ड है। यह जिला मुख्यालय नैनीताल से ६५ किमी और देश की राजधानी दिल्ली से लगभग २६० किमी की दूरी पर स्थित है। रामनगर, जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान के लिए प्रसिद्ध है। यह कस्ब ...

                                               

रुड़की

रुड़की, भारत के उत्तराखण्ड राज्य में स्थित एक नगर और नगरपालिका परिषद है। इसे रुड़की छावनी के नाम से भी जाना जाता है और यह देश की सबसे पुरानी छावनियों में से एक है और १८५३ से बंगाल अभियांत्रिकी समूह का मुख्यालय है। यह नगर गंग नहर के तट पर राष्ट्री ...

                                               

रुद्रपुर

रुद्रपुर भारत के उत्तराखण्ड राज्य में उधम सिंह नगर जनपद का एक नगर है। जनसंख्या के आधापर यह कुमाऊँ का दूसरा, जबकि उत्तराखण्ड का पांचवां सबसे बड़ा नगर है। इस नगर की स्थापना कुमाऊँ के राजा रुद्र चन्द ने सोलहवीं शताब्दी में की थी, और तब यह तराई क्षेत ...

                                               

रुद्रप्रयाग

रुद्रप्रयाग भारत के उत्तरांचल राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में एक शहर तथा नगर पंचायत है। रुद्रप्रयाग अलकनंदा तथा मंदाकिनी नदियों का संगमस्थल है। यहाँ से अलकनंदा देवप्रयाग में जाकर भागीरथी से मिलती है तथा गंगा नदी का निर्माण करती है। प्रसिद्ध धर्मस्थ ...

                                               

लालकुआँ

लालकुआँ उत्तराखण्ड राज्य के नैनीताल जनपद में हल्द्वानी महानगर से सटा दक्षिण में स्थित एक नगर है। यह कुमाऊँ मण्डल के अंतर्गत आता है। लालकुआँ बिड़ला समूह की एक बड़ी पेपर मिल सेंचुरी पल्प एंड पेपर के लिए प्रसिद्ध है।

                                               

विकासनगर

विकासनगर उत्तराखण्ड के 70 निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है। देहरादून जिले में स्थित यह निर्वाचन क्षेत्र अनारक्षित है तथा टिहरी गढ़वाल लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र के अंतर्गत आता है। 2012 में इस क्षेत्र में कुल 93.524 मतदाता थे। 2012 के विधानसभा चुनाव ...