ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 436




                                               

राजगीर

राजगीर, बिहार प्रांत में नालंदा जिले में स्थित एक शहर एवं अधिसूचीत क्षेत्र है। यह कभी मगध साम्राज्य की राजधानी हुआ करती थी, जिससे बाद में मौर्य साम्राज्य का उदय हुआ। राजगृह का ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व है। वसुमतिपुर, वृहद्रथपुर, गिरिब्रज और कुशग् ...

                                               

रोसरा

रोसरा, जो रोसड़ा भी कहलाता है, भारत के बिहार राज्य के समस्तीपुर ज़िले में स्थित एक नगर है। यह बूढ़ी गण्डक नदी के किनारे बसे होने के कारण कभी-कभी रोसरा घाट भी कहलाता है। सुदूर पूर्वोत्तर दिशा में करेेेह नदी भी बहती है, और इन दोनों नदियों के प्रभाव ...

                                               

लखीसराय

लखीसराय बिहार का एक शहर है। इसका मुख्यालय लखीसराय है। लखीसराय बिहार के महत्वपूर्ण शहरों में एक है.इस जिले का गठन 3 जुलाई 1994 को किया गया था.इससे पहले यह मुंगेर जिला के अंतर्गत आता था. इतिहासकार इस शहर के अस्तित्व के संबंध में कहते हैं कि यह पाल ...

                                               

वारिसलिगंज

वारिसलीगंज भारतीय राज्य बिहार के नवादा जिले का एक छोटा सा लेकिन घना बाजाऔर नगर पंचायत है। यहाँ यातायात कि सुविधा कुछ जगहों से बेहतर है। यहाँ, रेलवे लाइन, सङक कई बङी शहरों से जोङती हैँ। यहाँ एक चीनीमील है, जो कई सालों पहले बंद हो गई थी। यहाँ कि बह ...

                                               

शिवहर

शिवहर बिहार के तिरहुत प्रमंडल का एक शहर है, जिसका आसपास का क्षेत्र नवगठित शिवहर जिला है। इस जिले के पूरब एवं उत्तर में सीतामढी, पश्चिम में पूर्वी चंपारण तथा दक्षिण में मुजफ्फरपुर जिला है। शिवहर बिहार का सबसे छोटा एवं आर्थिक और सामाजिक दृष्टि से अ ...

                                               

शेखपुरा

शेखपुरा ऐतिहासिक रूप से बहुत प्राचीन नगरी है । माना जाता है कि पांडव वनवास के दौरान कुछ काल तक यहीं रहे थे। नगरी में स्थित गिरिहिंडा पर्वत पर भीम की पत्नी हिडिंबा देवी का निवास स्थान था। वहाँ आज भी प्राचीन शिवमन्दिर है।

                                               

सीतामढ़ी

सीतामढ़ी भारत गणराज्य के बिहार प्रान्त के तिरहुत प्रमंडल मे स्थित एक शहर एवं जिला है।यह सांस्कृतिक मिथिला क्षेत्र का प्रमुख शहर है जो पौराणिक आख्यानों में सीता की जन्मस्थली के रूप में उल्लिखित है। त्रेतायुगीन आख्यानों में दर्ज यह हिंदू तीर्थ-स्थल ...

                                               

सुपौल

सुपौल बिहार का एक शहर व जिला है, जो ज़िला का मुख्यालय है। सुपौल जिला वर्तमान सहरसा जिले से 14 मार्च 1991 में विभाजित होकर अस्तित्व में आया। सहरसा फारबिसगंज रेलखंड पर सुपौल जिला स्थित है। सांस्कृतिक रूप से यह काफी समृद्ध जिला है। नेपाल से करीब होन ...

                                               

हिलसा, बिहार

हिलसा भारत के बिहार राज्य स्थित नालंदा जिले के अंतर्गत एक अनुमंडल है। यह बिहार की राजधानी पटना के लगभग 45 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में स्थित है। यह अनेक स्वाधीनता सेनानियों की जन्मभूमि और भारतीय स्वतंत्रता के संघर्ष के दौर में एक प्रमुख केंद्र रहा है।

                                               

निंथौखं

द्वितीय विश्वयुद्ध में निंथौखं ब्रिटिश भारतीय राज की सेना और आज़ाद हिन्द फ़ौज तथा उनकी मित्रपक्षी जापानी सेना के बीच भारी लड़ाई का स्थल बना। ब्रिटिश भारतीय सेना उत्तर से आई और आज़ाद हिन्दी व जापानी दक्षिण से। युद्ध में नगर पूरी तरह से ध्वस्त हो ग ...

                                               

मोरे

मोरे भारत के मणिपुर के चन्देल जिले का एक नगर है जो भारत-म्यांमार सीमा पर स्थित है। यह नगर व्यापार का केन्द्र है। इसी के पास म्यांमार का तामू नगर स्थित है। भारत-म्यांमार-थाईलैण्ड त्रिपक्षीय राजमार्ग यहीं से आरम्भ होकर म्यांमार के बीचोबीच होते हुए ...

                                               

लाम्फेलपात

लाम्फेलपात भारत के मणिपुर राज्य के इम्फाल पश्चिम ज़िले में स्थित एक नगर है। यह उस ज़िले का मुख्यालय भी है। लाम्फेलपात प्रान्तीय राजधानी इम्फाल से सटा हुआ एक छोटा शहर है।

                                               

अशोक नगर

अशोकनगर एक नगर पालिका परिषद है। अशोक नगर ज़िले के गठन से पहले यह गुना ज़िले का हिस्सा था। अशोकनगर अपनी अनाज मंडी और "शरबती गेहूँ" के लिए प्रसिद्ध है। निकटतम शहर, गुना, 45 किमी दूर है। अशोकनगर को पहले पछार के नाम से जाना जाता था। रेलवे लाइन शहर के ...

                                               

आगर, मध्य प्रदेश

आगर भारत के मध्य प्रदेश राज्य के आगर मालवा ज़िले में स्थित एक नगर है। यह उस ज़िले का मुख्यालय भी है।आगर की स्थापना राजा आगरिया भील ने 23 फरवरी को लगभग 2072 वर्ष पहले आगर की स्थापना करी थी । राजा आगरिय भील के समय आगर का स्वर्णिम इतिहास था, यह क्षे ...

                                               

आष्टा, मध्य प्रदेश

आष्टा इंदौर व भोपाल के लगभग बीच में स्थित है। है। आष्टा में एक नदी है, जिसका नाम "पार्वती" है। यह नदी आष्टा के निवासियों के लिये जल का मुख्य स्रोत है। मान्यता है कि नदी का नाम समीप के शिव मंदिर के कारण रखा गया था। वर्षाऋतु में नदी में पानी का स्त ...

                                               

इटारसी

इटारसी मध्य प्रदेश प्रान्त का एक शहर है जो कि होशंगाबाद जिले के अन्तर्गत आता हैं। इटारसी के नाम के उत्पत्ति ईंट और रस्सी शब्द के संयोग से हुई है इसका कारण प्राचीन काल में इन उद्योगों की बहुतायत होना। व्यावसायिक दृष्टि से, एक बड़ी कृषि मंडी, आयुध ...

                                               

इन्दौर

इन्दौर भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक नगर है। जनसंख्या की दृष्टि से यह मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा शहर है, २०११ जनगणना, के अनुसार २१,६७,४४७ लोगों की आबादी सिर्फ ५३० वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में वितरित है। यह मध्यप्रदेश में सबसे अधिक घनी आबादी वाला ...

                                               

उज्जैन

उज्जैन भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक प्रमुख शहर है जो क्षिप्रा नदी या शिप्रा नदी के किनारे पर बसा है। यह एक अत्यन्त प्राचीन शहर है। यह विक्रमादित्य के राज्य की राजधानी थी। इसे कालिदास की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ हर १२ वर्ष पर सिंहस् ...

                                               

उमरिया

उमरिया भारत के मध्य प्रदेश राज्य के उमरिया ज़िले में स्थित एक नगर है। यह उस ज़िले का मुख्यालय भी है। उमरिया के मढिबाग मे कल्चुरी कालीन शिव जी का प्राचीन मन्दिर स्थित है जहां प्रत्येक वर्ष महाशिव रात्रि के अवसर पर मेले का आयोजन किया जाता है जिसे स ...

                                               

ऊन, मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश के खरगोन जिला में स्थित यह स्थान खरगोन से 14 कि॰मी॰ दूरी पर है। परमार-कालीन शिव-मंदिर तथा जैन मंदिरों के लिये यह स्थान प्रसिद्ध है। एक बहुत प्राचीन लक्ष्मी-नारायण मंदिर भी यहां स्थित है। खजुराहो के अलावा केवल यहीं परमार-कालीन प्राचीन ...

                                               

कटनी

चूना पत्थर के शहर के नाम से लोकप्रिय उत्तरी मध्य प्रदेश का कटनी 4950 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है। यह कटनी जिला का मुख्यालय है। विजयराघवगढ़, ढीमरखेड़ा, बहोरीबंद, मुड़वारा और करोन्दी यहां के लोकप्रिय पर्यटन स्थल हैं। मुडवारा, कटनी, छ ...

                                               

करेरा

करेरा भारत के मध्य प्रदेश राज्य के शिवपुरी ज़िले में स्थित एक शहर है। यहाँ से राष्ट्रीय राजमार्ग २७ गुज़रता है।इतिकासकारों के अनुसार करेरा कस्बे को पद्मावती के राजा कर्ण परमार ने १३५० ईसवी में बसाया था ।

                                               

बालाघाट

बालाघाट वैनगंगा नदी की गोद में दक्षिण–पूर्वी मध्यप्रदेश का एक शान्त, सुन्दर शहर। बालाघाट का आकार उड़ते पक्षी जैसा है बालाघाट शहर सतपुडा पर्वतमाला के छोपर मध्यप्रदेश, महाराष्ट्और छत्तीसगढ की त्रिकोणीय सीमा पर बसा है। वैसे तो यह शहर शुद्ध हिन्दी भा ...

                                               

कोतमा

कोतमा भारत के मध्य प्रदेश राज्य के अनूपपुर ज़िले में स्थित एक शहर और नगरपालिका है। यहाँ रेलवे स्टेशन है और राष्ट्रीय राजमार्ग ४३ भी शहर से गुज़रता है।

                                               

खण्डवा

खंडवा भारत के मध्य प्रदेश प्रान्त में स्थित एक प्रमुख शहर है। समुद्र तल से 900 मीटर की ऊंचाई पर है। यह जिला नर्मदा और ताप्‍ती नदी घाटी के मध्य बसा है। 6200 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले खंडवा की सीमाएं बेतूल, होशंगाबाद, बुरहानपुर, खरगोन और दे ...

                                               

खरगोन

खरगोन नगर, दक्षिण-पश्चिमी मध्य प्रदेश राज्य, मध्य भारत, नर्मदा नदी की सहायक कुंदा नदी के पूर्वी तट पर स्थित है। खरगोन ज़िला मध्यप्रदेश की दक्षिणी पश्चिमी सीमा पर स्थित है। 21 अंश 22 मिनिट - 22 अंश 35 मिनिट उत्तर अक्षांश से 74 अंश 25 मिनिट - 76 अं ...

                                               

खरगौन

खरगोन भारत के मध्य प्रदेश प्रान्त में स्थित एक प्रमुख शहर है. खरगोन, शहर के दक्षिण-पश्चिमी मध्य प्रदेश राज्य, मध्य भारत के नर्मदा नदी की सहायक कुंदा नदी के पूर्वी तट पर स्थित है. खरगोन शहर में नवग्रह मंदिर अच्छी तरह से जाना जाता है, जहां प्रत्येक ...

                                               

खिड़किया

आ खिड़किया भारतीय राज्य मध्य प्रदेश हरदा जिले का एक अनुमंडल है। यह खण्डवा से ४५ किलोमीटर दूर है। यह जिले से रेल और सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है।

                                               

गुना

गुना मध्य प्रदेश के उत्तर में स्थित है। 35 किलोमीटर दूर राजस्थान सीमा है, पार्वती नदी मध्य प्रदेश और राजस्थान को अलग करती है। गुना मालवा का प्रवेश द्वार कहा जाता है और ग्वालियर संभाग में आता है। गुना शहर ७७ देशांतर तथा २५ अक्षांश तथा राष्ट्रीय रा ...

                                               

गोहद

गोहद एक एतिहासिक स्थान है। यहाँ पर बम्रौलिया गोत्र के जाट राणाओं का शासन रहा है। इनमें महाराजा भीम सिंह राणा और महाराजा छत्र सिंह राणा काफी प्रसिद्ध रहे हैं। यहाँ पर राणा राजाओं द्वारा निर्मित अनेक एतिहासिक भवन हैं। इन गोहद के राणाओं ने मराठा सरद ...

                                               

घाटीगाँव

घाटीगाँव भारत के मध्य प्रदेश के ग्वालियर ज़िले में स्थित शहर है। यह ग्वालियर से 35 किमी दूर स्थित है, जो घाटीगाँव के ज़िला और उप-जिला मुख्यालय दोनों है। 2009 के आंकड़ों के अनुसार, घाटीगाँव भी एक ग्राम पंचायत है। शहर का कुल भौगोलिक क्षेत्र 1860.1 ...

                                               

चौरई

चौरई भारत देश में मध्य प्रदेश राज्य के छिंदवाड़ा जिला की एक तहसील, विधानसभा क्षेत्और नगरपालिका हैँ। चौरई से छिंदवाडा और सिवनी जिला की दूरी 35 किलोमीटर है चौरई विधान सभा क्षेत्र मे बिछुआ और चाँद तहसील शामिल हैँ।

                                               

छिंदवाड़ा

छिंदवाडा़ भारत के मध्य प्रदेश प्रान्त में स्थित एक प्रमुख शहर है। छिंदवाड़ा नगर, दक्षिण-मध्य मध्य प्रदेश राज्य, मध्य भारत, कुलबेहरा की धारा बोदरी के तट पर स्थित है। यह 671 मीटर की ऊँचाई पर सतपुड़ा के खुले पठापर स्थित है और उपजाऊ कृषि भूमि से घिरा ...

                                               

जबलपुर

जबलपुर भारत के मध्यप्रदेश राज्य का एक शहर है। यहाँ पर मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय तथा राज्य विज्ञान संस्थान है। इसे मध्यप्रदेश की संस्कारधानी भी कहा जाता है। थलसेना की छावनी के अलावा यहाँ भारतीय आयुध निर्माणियों के कारखाने तथा पश्चिम-मध्य रेलवे का ...

                                               

जबलपुर संभाग

जबलपुर संभाग एक प्रशासनिक भौगोलिक इकाई है मध्य प्रदेश राज्य मे। जबलपुर के प्रशासनिक मुख्यालय है विभाजन. वर्तमान में, संभाग के जिले है बालाघाट, छिंदवाड़ा, जबलपुर, कटनी, मंडला, नरसिंहपुऔर सिवनी.

                                               

जीरन

नीमच से २१ किलोमीटर दूर स्थित ऐतिहासिक तथा सुन्दर नगर जीरन है। जीरन, नीमच जिले का एक तहसील केन्द्र है। जीरन के किला का एक विशेष महत्व है। इस किले ने इतिहास के कई उतार-चढाव देखे हैं। जीरन नगर मे एक सुन्दर सा तालाब है। किले मे भगवान शन्कर की प्राची ...

                                               

झाबुआ

झाबुआ मध्य प्रदेश प्रान्त का एक शहर है। समुद्र की सतह से इसकी ऊँचाई १,१७१ फुट है। यह बहादुरसागर नामक झील के किनारे स्थित है। झील के उत्तरी किनारे पर स्थित राजा का महल मिट्टी की दीवार से घिरा है। झाबुआ भूतपूर्व मध्य भारत में एक राज्य रियासत भी था। ...

                                               

डिंडौरी, मध्य प्रदेश

2011 की जनगणना के अनुसार, जिले की कुल जनसँख्या - कुल व्यक्ति संख्या -704.524 पुरुष - 351.913, महिला - 352.611 ग्रामीण जनसँख्या- कुल व्यक्ति संख्या -672.206 पुरुष- 335.393,महिला -336.813 शहरी जनसँख्या- कुल व्यक्ति संख्या -32.318 पुरुष- 16.520,महिल ...

                                               

दमोह

दमोह भारत के मध्य प्रदेश प्रान्त का एक शहर है। यह सागर संभाग का एक जिला और बुंदेलखंड अंचल का शहर है। हिन्दू पौराणिक कथाओं के राजा नल की पत्नी दमयंती के नाम पर ही इसका नाम दमोह पड़ा। अकबर के साम्राज्य में यह मालवा सूबे का हिस्सा था। परतुं जानकारों ...

                                               

देवास

देवास भारत के मध्य प्रदेश का एक शहर है। यह इन्दौर से लगभग ३५ किमी उत्तर में स्थित है। यहाँ की माता की टेकरी पर चामुण्डा माता और तुलजा भवानी माता के प्रसिद्ध मन्दिर हैं जिसके दर्शन के लिये लोग दूर-दूर से आते हैं। देवास एक औद्योगिक नगर है। लोक मान् ...

                                               

नन्हेश्वर

नन्हेश्वर मध्य प्रदेश के खारगोन जिला में स्थित एक स्थान है। खरगोन से 20 कि॰मी॰ दूर यह स्थान भी प्रचीन शिव-मंदिर के लिये प्रसिद्ध है। खरगोन से सिरवेल महादेव जाते समय यह स्थान रास्ते में है।

                                               

नरवर

नरवर मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले मैं स्थित है। नरवर एक ऐतिहासिक नगरी है। प्राचीन काल में यह कछवाह राजपूत वंश के राजा नल की राजधानी थी। महाभारत में भी नरवर का उल्लेख निषध नगर नाम से मिलता है। नरवर अति प्राचीन और ऐतिहासिक नगर है जो आज भी अपनी ऐतिहा ...

                                               

नरसिंहगढ़

1681 में स्थापित यह नगर नरसिंहगढ़ रियासत की राजधानी था। नरसिंहगढ़ पर मालवा के ख़लजी शासकों का शासन था। जिन्होंने यहाँ एक क़िले और मस्जिद का निर्माण कराया। नरसिंहगढ़ नगर एक झील के किनारे बसा हुआ है, जिसके पीछे एक पर्वतों की चोटी का क़िला और महल स् ...

                                               

नरसिंहपुर

नरसिंह पुर मध्य प्रदेश के केन्द्र में स्थित एक शहर है।यह नरसिंहपुर जिला मुख्यालय भी है। मध्य प्रदेश के मध्य में स्थित नरसिंहपुर 5000 वर्ग किमी. के क्षेत्रफल में फैला राज्य का प्रमुख जिला है। उत्तर में विन्ध्याचल और दक्षिण में सतपुड़ा की पहाड़ियों ...

                                               

निवाड़ी, मध्य प्रदेश

निवाड़ी जिला टीकमगढ़ जिले का एक हिस्सा हुआ करता था और 1 अक्टूबर 2018 को इसे अलग कर एक नए जिले में बनाया गया था। यह राज्य का 52 वां जिला बना। इस जिले के अंतर्गत, पृथ्वीपुर तहसील की 56 पंचायतें, निवारी की 54 पंचायतें, ओरछा की 17 पंचायतें शामिल थीं। ...

                                               

पचमढ़ी

पचमढ़ी भारत के मध्य प्रदेश राज्य के होशंगाबाद ज़िले में स्थित एक पर्वतीय पर्यटक स्थल है। यह ब्रिटिश राज के ज़माने से एक छावनी रही है। अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण 1067 मीटर की ऊँचाई पर स्थित यह शहर अक्सर "सतपुड़ा की रानी" कहलाता है। यह पचमढ़ी ब ...

                                               

पचौर

यह जिले की नवनिर्मित तहसील है और नेवज नदी के किनारे बसा है। पचौर नगर के मध्य से आगरा-मुंबई राष्ट्रीय राज मार्ग गुजरता है, साथ ही पचौर में बड़ी रेल-लाइन उज्जैन-गुना भी निकलती है। पचौर का इतिहास २०० वर्षो से भी अधिक पुराना है, इसका पुराना नाम कुछ ल ...

                                               

पन्ना, मध्य प्रदेश

पन्ना, मध्य प्रदेश, भारत में स्थित एक नगर है। यह पौराणेतहासिक नगर है इसका उल्लेख विष्णु पुराण और पद्मपुराण में किलकिल प्रदेश से आता है वाकटाक श की उत्पत्ति स्थल है। नागवंश की कुलदेवी पद्मावती किलकिला नदी के तीरे विराजित हैं इसके कारण इसका नाम पद् ...

                                               

पवई, पन्ना

पवई भारत के मध्य प्रदेश राज्य के पन्ना ज़िले में स्थित एक नगर है। यहाँ माँ कलेही को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर साथ में यहां पर हनुमान भाटा का प्रसिद्ध मंदिर है जहां पर राम मन्दिर,श्री कृष्ण मंदिऔर प्रसिद्ध धोलिया महल है पवई का पूरा क्षेत्र पत्थरील ...

                                               

पीथमपुर

पीथमपुर, मध्य प्रदेश के धार जिले में स्थित एक औद्योगिक नगर है। यहाँ का विशेष आर्थिक क्षेत्र भारत में सबसे बड़ा है। यह इन्दौर से लगभग २५ किमी की दूरी पर है। यहाँ लगभग १५०० कम्पनियाँ कार्यरत हैं। इनके साथ साथ यहाँ रहने के लिये आवासीय क्षेत्र भी हैं ...