ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 448




                                               

कृष्ण वल्लभ सहाय

कृष्ण वल्लभ सहाय भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी थे जो बिहार के मुख्यमंत्री भी बने। श्री कृष्ण वल्लभ सहाय का जन्म पटना जिले के शेखपुरा में हुआ था। वे मुंशी गंगा प्रसाद के ज्येष्ठ पुत्र थे। सन १९१९ में उन्होने सेंट कोलंबा कॉलेज हजारीबाग से अंग ...

                                               

दीप नारायण सिंह

दीप नारायण सिंह एक भारतीय राजनेता है और बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके है। == व्यक्तिगत जीवन ==दीप नारायण सिंह बिहार के राजपूत परिवार में जन्मे साफ सुथरी छवि के नेता थे

                                               

सतीश प्रसाद सिंह

बता दें कि सबसे कम दिन बिहार के सीएम के पद पर रहे हैं। वे 28 जनवरी 1968 से लेकर 01 फरवरी 1968 तक ही बिहार की गद्दी पर रहे हैं।पूर्व सीएम महामाया प्रसाद सिंह के हटने के बाद खाली जगह को भरने के लिए सतीश प्रसाद सिंह को 28 जनवरी 1968 को सीएम का पद दि ...

                                               

पी. के. सावंत

पी. के. सावंत महाराष्ट्र राज्य से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे। मुख्यमंत्री मारोतराव कन्नमवार की मृत्यु के बाद वे २५ नवंबर १९६३ से ४ दिसंबर १९६३ तक महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रहे और इस पद पे सबसे कम सेवाअवधि के मंत्री बने।

                                               

अब्दुल ग़नी लोन

अब्दुल ग़नी लोन बड़े कश्मीरी नेता थे जिनकी 21 मई 2002 को श्रीनगर में हत्या कर दी गई थी। अब्दुल ग़नी लोन 1990 के बाद हुर्रियत कांफ्रेंस का हिस्सा बने, लेकिन अपने उदारवादी रुख के चलते कट्टरवादियों से उनकी अनबन रही। उनके पुत्र सज्जाद लोन ने हुर्रियत ...

                                               

प्रेम नाथ डोगरा

प्रेम नाथ डोगरा भारत के एक राजनेता थे। उन्होने जम्मू तथा कश्मीर के भारत में पूर्ण एकीकरण के लिए बहुत कार्य किया। वे भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष भी रहे। वे प्रजा परिषद् के पहले अध्यक्ष थे। उन्हे शेर-ए-डुग्गर कहा जाता है। डोगरा की दूरदर्शी सोच का ही पर ...

                                               

मुला राम

मुला राम एक राजनीतिज्ञ तथा पूर्व जम्मू और कश्मीर सरकार में कैबिनेट मंत्री थे | वे जम्मू और कश्मीर विधानसभा में रायपुर-दोमाना व मर्ह विधानसभा से विधायक रह चुके हैं |

                                               

दिग्विजय सिंह (बिहार)

पटना. पूर्व केंद्रीय मंत्री और बांका के सांसद दिग्विजय सिंह का लंदन में गुरुवार को ब्रेन हैमरेज की वजह से निधन हो गया। 55 वर्षीय दिग्विजय सिंह कुछ समय पहले ही लंदन गए थे। उनके निधन से बिहार के नेताओं को बहुत बड़ा धक्का लगा है। राष्ट्रीय जनता दल क ...

                                               

सम्राट चौधरी

सम्राट चौधरी भारतीय जनता पार्टी के बिहार प्रदेश उपाध्यक्ष हैं। सम्राट चौधरी बिहार सरकार में 1999 में कृषि मंत्री और 2014 में शहरी विकास और आवास विभाग के मंत्री रह चुके हैं। पारिवारिक जीवन सम्राट चौधरी का जन्म 16 नवम्बर 1968 को मुंगेर के लखनपुर गा ...

                                               

अलगू राय शास्त्री

अलगू राय शास्त्री भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, राजनेता, शिक्षाविद् एवं कानूनविद् थे वे पहली लोकसभा के आजमगढ़ पूर्व से सदस्य थे, जिसे अब घोसी कहा जाता है। वे संविधान सभा के सदस्य थे। वे उत्तर प्रदेश काँग्रेस के प्रेसिडेंट थे। संविधान सभा में ...

                                               

जी एम सी बालयोगी

जी एम सी बालयोगी भारतीय लोकसभा के अध्यक्ष थे। लोकसभा के प्रथम दलित स्पीकर बालयोगी थे । बालयोगी सबसे युवा स्पीकर थे । बालयोगी पद पर रहते मृत्यु प्राप्त करने वाले भी स्पीकर है।

                                               

बलि राम भगत

बलि राम भगत भारत के एक राजनेता तथा पाँचवीं लोकसभा के अध्यक्ष तथा भारत के विदेश मंत्री थे। वे राजस्थान के राज्यपाल भी रहे | लोकसभा के अध्यक्ष के रूप में भगत का चौदह मास से भी कम अवधि का कार्यकाल सबसे छोटा कार्यकाल था किन्तु इस संक्षिप्त अवधि में उ ...

                                               

सत्यपाल मलिक

सत्यपाल मलिक भारतीय राजनीतिज्ञ तथा वर्तमान में जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल हैं। 30 सितम्बर 2017 से 21 अगस्त तक बिहार राज्य के राज्यपाल रहे। इससे पहले अलीगढ़ सीट से 1989 से 1991 तक जनता दल की तरफ से सांसद रहे। 1996 में समाजवादी पार्टी की तरफ से फिर च ...

                                               

पालनौका

बादबानी, जिसे पालनौका भी कहा जा सकता है, ऐसी नौका होती है जिसे गति देने का प्रमुख साधन एक या अनेक पाल होते हैं जो पवन पकड़कर नौका को आगे घकेलने का काम करते हैं। औद्योगिक युग से पहले नौकाओं को चलाने का यही प्रमुख साधन था।

                                               

गोपालकृष्ण पुराणिक

गोपालकृष्ण पुराणिक भारत के स्वतन्त्रता सेनानी, शिक्षाविद एवं पत्रकार थे। उन्हें भारतीय ग्रामीण पत्रकारिता का जनक माना जाता है। गोपालकृष्ण पुराणिक का जन्म आषाढ़ शुक्ल 12 संवत 1957 अर्थात 9 जुलाई 1900 के दिन शिवपुरी जिले के ग्राम पोहरी में हुआ था। ...

                                               

देशबंधु गुप्ता

लाला देशबंधु गुप्ता भारत के स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी एवं पत्रकार थे। उन्होंने लाला लाजपत राय के समाचार पत्र वंदेमातरम में संपादक के रूप में सहयोग दिया। गुप्ता ने बाल गंगाधर तिलक के लेखों से प्रभावित होकर अपना जीवन स्वतंत्रता आंदोलन के लिए समर्प ...

                                               

पंडित रामदहिन ओझा

पंडित रामदहिन ओझा भारत के पत्रकार एवं स्वतन्त्रता सेनानी थे। माना जाता है कि असहयोग आन्दोलन में किसी पत्रकार की पहली शहादत पंडित रामदहिन ओझा की थी। वे कलकत्ता से 1923-24 में प्रकाशित होने वाले हिन्दी साप्ताहिक युगान्तर के सम्पादक थे। जिस समय बलिय ...

                                               

प्रीतिश नन्दी

प्रीतिश नन्दी एक पत्रकार, कवि, राजनेता एवं दूरदर्शन-व्यक्तित्व हैं। सम्प्रति वह भारत् के ऊपरी सदन राज्य सभा के सदस्य हैं। उन्होने अनेकों काव्य रचनाओं का पल्लवन किया है तथा बांग्ला से अंग्रेजी में अनेकों कविताओं का अनुवाद भी किया है।

                                               

भगवतीधर वाजपेयी

श्री भगवतीधर वाजपेयी राष्ट्रीय विचारों के पत्रकार हैं। सन् २००६ में उन्हें मध्यप्रदेश शासन द्वारा माणिकचन्द्र वाजपेयी राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार से सम्मानित किया गया। भगवतीधर वाजपेयी ने अपने लम्बे पत्रकारिता जीवन की शुरूआत सन् 1952 में स्वदेश ...

                                               

भवानीचरण बन्द्योपाध्याय

भवानीचरण बन्द्योपाध्याय भारत के ख्यातलब्ध पत्रकार, लेखक एवं वक्ता थे। भाषणकला में गहराई के लिये उनकी प्रशंसा की जाती थी। वे परम्परावादी हिन्दू थे जिन्होने राजा राममोहन राय द्वारा सती प्रथा की समाप्ति के लिये किये गये प्रयासों का डटकर विरोध किया। ...

                                               

भीमसेन विद्यालंकार

भीमसेन विद्यालंकार भारत के एक लेखक, निर्भीक पत्रकार, स्वतन्त्र विचारक तथ देश की स्वतन्त्रता प्राप्ति के लिए चलागए राष्ट्रीय आन्दोलन के सेनानी तथा उसमें भाग लेने वाले ध्येयनिष्ठ एंव कर्मठ व्यक्ति थे। इन्होंने अध्यापन, लेखन तथा पत्रकारिता द्वारा रा ...

                                               

माणिकचंद्र वाजपेयी

माणिकचन्द्र वाजपेयी भारत के राष्ट्रवादी एवं ध्येयनिष्ठ पत्रकार थे। मध्यप्रदेश शासन द्वारा ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता और मूल्याधारित पत्रकारिता के लिये स्व. माणिकचन्द्र वाजपेयी राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार स्थापित किया गया था ।

                                               

यूसुफ़ अंसारी

यूसुफ़ अंसारी भारत के जाने माने पत्रकार, लेखक और राजनीतिक विश्लेषक रहे हैं। 2000-2010 तक उन्होंने भारतीय टीवी पत्रकारिता के एक संजीदा राजनीतिक पत्रकार के रूप में अपनी अलग पहचान बनाई। वो 21 शताब्दी के पहले दशक में देश के पहले निजी समाचार चैनल ज़ी ...

                                               

रत्नाकर भारतीय

रत्नाकर भारतीय एक भारतीय पत्रकार, बीबीसी हिन्दी सेवा के पूर्व समाचार वाचक थे। उन्होंने बीबीसी लन्दन में लगभग ३० वर्षों तक कार्य किया। उनका 12 मार्च 2003 को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उस समय वे लन्दन में थे। रत्नाकर भारतीय भारत में आपातकाल ...

                                               

रवींद्र आंबेकर

महाराष्ट्र के अग्रणी पत्रकारों में रवीन्द्र आंबेकर का नाम लिया जाता हैं। रवींद्र आंबेकर ने नवशक्ती, लोकमत, वृत्तमानस इन न्यूजपेपर से अपने करिय़र की शुरूआत की। उसके बाद उन्होंने ई टीव्ही के माध्यम से सन २००० में टीव्ही पत्रकारीता की शुरूआत की। २०० ...

                                               

राजीव यू नायर

उनका जन्म तिरुवनंतपुरम जिले के अरयूर में 15 मई, 1988 में हुआ था | 1999 में उन्होंने सर्वश्रेष्ठ बाल साहित्य के लिए केरल बाला साहित्य परिषद पुरस्कार जीता | वह सोशल मीडिया में बहुत सक्रिय ब्लॉगर हैं। उनके परदादा सी वी रामन पिल्लै मलयालम के पहले उपन ...

                                               

रामशंकर अग्निहोत्री

श्री रामशंकर अग्निहोत्री भारत के प्रखर चिन्तक, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक तथा वरिष्ठ पत्रकार हैं। उन्हें सन् २००८ के लिये माणिकचन्द्र वाजपेयी राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार के लिये चुना गया है।

                                               

शिषिर कुमार घोष

शिषिर कुमार घोष भारत के प्रसिद्ध राष्ट्रवादी पत्रकार, अमृत बाजार पत्रिका के संस्थापक तथा स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे। वे इण्डिया लीग के संस्थापकों में से थे। वे एक वैष्णव थे। उन्होने चैतन्य महाप्रभु के जीवनचरित पर १८९७ में अंग्रेजी में एक पुस्तक ...

                                               

अम्बालाल साराभाई

अम्बालाल साराभाई अहमदाबाद के प्रमुख उद्योगपति थे। उन्होने भारत के स्वतन्त्रता संग्राम में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वे साराभाई समूह के संस्थापक थे जिसमें साराभाई टेक्स्टाइल्स, कैलिको टेक्स्टाइल मिल्स, साराभाई केमिकल्स एवं अन्य कम्पनियाँ आती हैं।

                                               

जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा

जहाँगीर रतनजी दादाभाई टाटा भारत के प्रथम वायुयान चालक और प्रमुख उद्योगपति थे। वे उन थोड़े से लोगों में से हैं जिन्हें अपने जीवनकाल में ही भारत का सबसे बड़ा नागरिक पुरस्कार भारत रत्न प्राप्त हुआ।

                                               

जी आर गोपीनाथ

कैप्टन जी आर गोपीनाथ भारत में कम लागत के हवाई यात्रा को आम लोगों तक लाने में अग्रणी है। वह कम लागत वाली एयरलाइन एयर डेक्कन के संस्थापक है। वह राष्ट्रीय रक्षा अकादमी से स्नातक की उपाधि प्राप्त की है और भारतीय सेना में योगदान दिया।

                                               

सायरस मिस्त्री

सायरस पलोनजी मिस्त्री को टाटा समूह का नया चेयरमैन घोषित किया गया है, जो रतन टाटा की जगह लेगें। रतन टाटा 75 वर्ष की आयु में दिसम्बर 2012 में चेयरमैन पद से सेवानिवृत होंगे। सायरस मिस्त्री दिसम्बर 2012 में चेयरमैन पद को सँभालेंगे।

                                               

कृपाल सिह शेखावत

कृपाल सिंह शेखावत १९२२ -- २००८ भारत के एक प्रसिद्ध हस्तशिल्पी एवं कलाकार थे। वे जयपुर के नील मृदभाण्ड के कलात्मक निर्माण में सिद्धहस्त थे। उन्होने इस कला को पुनर्जीवित किया। कृपाल सिंह ने कला की आैपचारिक शिक्षा जहां शांति निकेतन जैसे विश्वप्रसिद् ...

                                               

केदारदत्त जोशी

पण्डित केदार दत्त जोशी हिन्दी एवं संस्कृत के लेखक, सम्पादक एवं टीकाकार थे। उन्होने खगोल एवं ज्योतिष से सम्बन्धित अनेक संस्कृत ग्रन्थों की हिन्दी टीका लिखी है। वे काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्राच्य विद्या एवं धर्म विज्ञान संकाय में ज्योतिष के प् ...

                                               

चंद्रशेखरसिंह सामंत

चंद्रशेखरसिंह सामन्त ओडिशा निवासी भारतीय ज्योतिषी थे। इन्होने सिद्धान्तदर्पण नामक एक ज्योतिषग्रन्थ की रचना की जो संस्कृत भाषा तथा ओड़िया लिपि में है।

                                               

पंडित कल्याणदत्तशर्मा

पंडित कल्याण दत्त शर्मा का नाम आधुनिक ज्योतिष में वेधशाला निर्माण में प्रमुख रूप से लिया जाता है। जयपुर के महाराजा सवाई जयसिंह के बाद इन्होंने भी चार वेधशालाओं का निर्माण करवाया। 2 वेधशाला परिचय हिन्दी,अंग्रेजी,संस्कृत 1 जयपुर में गलता की पहाड़िय ...

                                               

अंजुम आरा

अंजुम आरा साल 2011 बैच की आईपीएस अधिकारी और वर्तमान में सोलन की आरक्षी अधीक्षक हैं। इससे पूर्व वे शिमला की एएसपी व एसपी साइबर क्राइम रही हैं। आजमगढ़ जिले के कमहरिया गाँव के रहने वाले ग्रामीण अभियंत्रण सेवा विभाग में कनिष्ठ अभियंता के पद पर कार्यर ...

                                               

अशोक कामटे

उनका संबंध पुणे में सांघवी क्षेत्र के रश्कनगर से था और वह १९८९ बैच के भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी थे। उनके परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं। कामटे अपने बैच के सबसे काबिल अधिकारियों में से एक थे और उनमें चुनौतियों से लड़ने का गजब का माद्दा था। उन्हो ...

                                               

देवेंद्र कुमार पाठक

श्री देवेंद्र कुमार पाठक भारतीय पुलि‍स सेवा १९७९ बैच के २३ आसाम मेघालय कैडर के अधि‍कारी हैं और इस पद को संभाने से पहले वे सीमा सुरक्षा बल के वि‍शेष महानि‍देशक के रूप में कार्यरत थे। सीआरपीएफ में अपने कार्यकाल के दौरान उन्हें नक्सल-विरोधी दस्ते "क ...

                                               

पुलिस महानिदेशक

पुलिस महानिदेशक राज्य के पुलिस बल का मुखिया होता है। प्रशासनिक दृष्टि से प्रत्येक राज्य को क्षेत्रीय मंडलों में बाँटा जाता है, जिसे रेंज कहते है। और प्रत्येक पुलिस रेंज, पुलिस महानिरीक्षक के प्रशासनिक नियंत्रण में होती है। एक रेंज में अनेक जिले ह ...

                                               

भारत देसाई

भारत देसाई एक भारतीय खरबपति व्यवसायी हैं। केन्या में जन्मे भारत देसाई ने अपना पेशेवर जीवन टाटा कंसल्टेसी सर्विसेज से शुरू किया था। इसके चार साल बाद ही उन्होंने नौकरी छोड़कर अपनी पत्नी के साथ एक कंपनी सिंटेल शुरू की।

                                               

अंकिता गाबा

अंकिता मुंबई की रहने वाली हैं, उन्होंने विल्सन कॉलेज से बिजनेस मैनेजमेंट में स्नातक किया। २०१० में उन्होंने वेलिंगकर इंस्टीटूट ऑफ़ मैनेजमेंट से एमबीऐ पूरी की।

                                               

कुंवरजी होरमुसजी भाभा

कुंवरजी होरमुसजी भाभा भारत के एक पारसी व्यवसायी थे जो स्वतन्त्र भारत के प्रथम वाणिज्य मन्त्री बनागए थे। २६ अक्टूबर १९४६ को जिस अन्तरिम सरकार ने कार्यभार संभाला, उसमें उनके पास कार्य, खान एवं विद्युत मन्त्रालय का भार भी था।

                                               

सेठ हुकुमचन्द

इन्दौर के सेठ हुकुमचन्द जैन भारतीय उद्योग के अग्रदूतों में से थे। वे लगभग ५० वर्षों तक जैन समाज के प्रमुख नेता थे। सेठ हुकुमचंद ने इन्दौर शहर में टेक्सटाइल उद्योग की स्थापना कर हजारों मजदूरों की रोजी-रोटी की व्यवस्था की थी। इंदौर की वर्तमान रौनक ...

                                               

मा बुफ़ांग

民国军阀派系谈 The Republic of China warlord cliques discussed जनम युद्ध दो, चीन क मुखिया Hutchings, Graham. Modern China. First. Cambridge, MA: Harvard University Press, 2001. ISBN 0-674-01240-2

                                               

खंडायत

खंडायत ओडिशा भारत की एक जाति है। उन की जनसंख्या ओड़िशा की कुल जनसंख्या का 22% है। वे मुख्य रूप से प्राचीन से लेकर मध्यकालीन युग तक ‌ओडिशा राज्य का सत्ताधारी में शामिल थे.

                                               

तेलुगू लोग

तेलुगू लोग तेलुगू भाषा बोलने वाले वह लोग है जो आन्ध्र प्रदेश और तेलंगाना में ही नहीं बल्कि भारत के या विश्व के किसी भी प्रांत में रहते हों उन्हें तेलुगू लोग कहते हैं। भारत में हिन्दी भाषा के बाद सब से ज़्यादा बोली जाने वाली भाषा तेलुगू बोलते है। ...

                                               

तरिगोंडा वेंगामम्बा

तरिगोंडा वेंगामम्बा वेंगामम्बा, जिसे मातृश्री तरिगोंडा वेंगामम्बा के नाम से भी जाना जाता है, 18 वीं शताब्दी में भगवान वेंकटेश्वर के कवि और कट्टर भक्त थे। उसने कई कविताएँ और गीत लिखे।

                                               

इब्राहीम ख़ाँ गार्दी

इब्राहीम ख़ाँ गार्दी" अथवा इब्राहीम ख़ाँ गर्दी 18वीं सदी में भारत के दखाणी मुस्लिम जनरल थे। उसके पूर्वज भील अथवा संबद्ध जनजाति के लोग थे। तोपखाने में एक विशेषज्ञ के रूप में उन्हें मराठा साम्राज्य का पेशवा के लिए काम करने से पहले हैदराबाद के निज़ा ...

                                               

महेशकुमार सरतापे

महेशकुमार सरताप महाराष्ट्र पुलिस में एक अधिकारी हैं। वह वर्तमान में पुणे में परिवहन विभाग में कार्यरत हैं। महेशकुमार विभिन्न विषयों पर लघु फिल्में बनाते हैं। उन्होंने हेल्पिंग हैंड्स, राजू द सेवरे आदि फिल्में बनाई हैं।