ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 449




                                               

उत्तराखण्ड के लोग

उत्तराखण्ड के लोग उत्तराखण्ड के मूल निवासियों को कहते हैं। उत्तराखण्ड के मूल निवासियों को कुमाऊँनी या गढ़वाली कहा जाता है जो प्रदेश के दो मण्डलों कुमाऊँ और गढ़वाल में रहते हैं। एक अन्य श्रेणी हैं गुज्जर, जो एक प्रकार के चरवाहे हैं और दक्षिणपश्चिम ...

                                               

इब्राहिम आदिल शाह द्वितीय

अली आदिल शाह के पिता इब्राहिम आदिल शाह प्रथम ने सुन्नी सरदारों कुलीन व्यक्तियों, हब्शियों और दक्षिण भारतीयों के बीच ताकत का बंटवारा कर दिया था। हालांकि अली आदिल शाह खुद शियाओं का समर्थन करते थे।

                                               

कनकदास

कनक दास महान सन्त कवि, दार्शनिक, संगीतकार तथा वैष्णव मत के प्रचारक थे। उनकी गणना आचार्य माधव के अनुयायियों में होती है जिनमें मुख्य नाम नरहरि तीर्थ, श्रीपाद तीर्थ, व्यास तीर्थ, वादि राज, पुरन्दर दास, राघवेन्द्र तीर्थ, विजय दास, गोपाल दास आदि हैं। ...

                                               

जेन्सी जेम्स

जेन्सी जेम्स केरल के केन्द्रीय विश्वविद्यालय के प्रथम उप-कुलपति हैं। डॉ जैन्सी जेम्स, को सर्वश्रेष्ठ अकादमी के लिए प्रतिष्ठित प्रोफेसर एम वी पाले पुरस्कार के लिए चुना गया था। इससे पहले वह केरल में महात्मा गांधी विश्वविद्यालय के कुलपति थे। वह केरल ...

                                               

कृष्णदास

कृष्णदास हिन्दी के भक्तिकाल के अष्टछाप के कवि थे। उनका जन्म १४९५ ई. के आसपास गुजरात में चिलोतरा ग्राम के एक कुनबी पाटिल परिवार में हुआ था। बचपन से ही प्रकृत्ति बड़ी सात्विक थी। जब वे १२-१३ वर्ष के थे तो उन्होंने अपने पिता को चोरी करते देखा और उन् ...

                                               

नायकी देवी

वीरांगना नायकी देवी कंदब आज के गोवा के महामंडलेश्वर पर्मांडी की पुत्री थी. इनका विवाह गुजरात के महाराजा अजयपाल से हुआ था. अजयपाल सिद्धराज जयसिंह के पौत्र तथा कुमारपाल के पुत्र थे. अंगरक्षक द्वारा वर्ष ११७६ में अजयपाल की हत्या के बाद राज्य की बागड ...

                                               

हठीसिंह परिवार

हठीसिंह परिवार अहमदाबाद, गुजरात का एक पुराना जैन परिवार है। अहमदाबाद के कई मंदिऔर धर्मार्थ संस्थाओं की स्थापना या निर्माण इस व्यापारिक परिवार ने करवाई है। जवाहरलाल नेहरू की बहन, कृष्णा हठीसिंह, का विवाह इस परिवार में हुआ था।

                                               

वीर नारायण सिंह

वीर नारायण सिंह छत्तीसगढ़ राज्य के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, एक सच्चे देशभक्त व गरीबों के मसीहा थे। जिन्होंने अंग्रेजों से लोहा लिया। शहीद वीर नारायण सिंह बिंझवार ने अंग्रेजों से लड़ाई की ।

                                               

ब्रोकपा

बोकपा, दार्द लोगों का छोटा सा एक उपसमुदाय है जो जम्मू एवं कश्मीर में लेह के १६३ किमी उत्तर-पश्चिम में तथा कारगिल के ६२ किमी उत्तर के क्षेत्र के निवासी हैं।

                                               

झारखंड के लोग

भारत के सबसे समृद्ध संस्कृतियों के संग्रह में से एक राज्य, झारखण्ड है। यह एक स्थापित तथ्य है कि पाषाण युग के उपकरण की खोज हजारीबाग जिले में और कुल्हाड़ी और भाला का सिरा चाईबासा क्षेत्र में पाए जाते हैं| 10000 से 30000 साल पुराने शैल चित्र, सती पह ...

                                               

निर्मल महतो

निर्मल महतो झारखंड मुक्ति मोर्चा के प्रमुख नेता थे। वह ऑल झारखण्ड स्टूडेंट्स यूनियन के संस्थापक थे। वे झारखंड के अलग राज्य के आंदोलन में प्रमुख नेता थे।

                                               

सिद्धू कान्हू

सिद्धू कान्हू संथाल विद्रोह के प्रणेता सिद्धू मुर्मू और कान्हू मुर्मू नामक भाई थे। ३० जून १८५५ को इन दोनों भाइयों ने अपने संथाल जाति के लोगों को साथ लेकर अंग्रेज़ी के विरुद्ध विद्रोह कर दिया था।

                                               

एस. स्वप्ना

मदुरै तमिलनाडु में जन्मी स्वप्ना, 2012 में टीएनपीएससी ग्रुप IV परीक्षा में आवेदन किया था, लेकिन बोर्ड ने अपने आवेदन से इनकाकर दिया क्योंकि वह एक ट्रांसजेन्डर है। इस फैसले के परिणामस्वरूप, स्वपन ने 7 अक्टूबर 2013 को मदुरै जिला कलेक्टरेट के सामने ग ...

                                               

गुरशरण कौर

गुरशरण कौर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की पत्नी हैं। गुरशरण का जन्म सरदार छत्तर सिंह कोहली, और सरदारनी भागवंती कौर के घर सन 1937 में जालंधर में हुआ था। इनके पिता सरदार छत्तर सिंह कोहली बर्मा शैल में एक कर्मचारी थे। इनकी प्राथमिक शिक्षा ...

                                               

अतिशा प्रताप सिंह

अतिशा प्रताप सिंह कुचिपुड़ी नर्तकी हैं। अतिशा ने 15 मई 2017 को रंग प्रवेशम विषयवस्तु पर कुचिपुड़ी नृत्य का मंचन कमानी ऑडिटोरियम, दिल्ली में किया। अतिशा सितंबर 2017 में लंदन फैशन वीक के उद्घाटन और समापन समारोह में एक नृत्य प्रदर्शन करने के लिए निर ...

                                               

पवन सिंह

पवन सिंह एक भारतीय भोजपुरी भाषा के पार्श्व गायक और फिल्म अभिनेता हैं। उनका जन्म आरा, बिहार के जोकहरी में हुआ था। उन्होंने देवरा बड़ा सतावेला, भोजपुरिया राजा जैसी प्रमुख भोजपुरी फिल्मों में अभिनय किया है। संगीत में लगभग 2528 भोजपुरी और हिंदी सिनेम ...

                                               

बिहार के व्यक्तियों की सूची

ठाकुर युगल किशोर सिंह परिखा मिस्त्री श्रीकृष्ण सिन्हा बसावन सिंह सत्येन्द्र नारायण सिन्हा राजेश्वर पसाद सिंह राजकुमार शुक्ल राजेन्द्र प्रसाद वीर कुँवर सिंह मजहरुल हक स्वामी सहजानन्द सरस्वती रमेश चन्द्र झा अनुग्रह नारायण सिंह

                                               

मौलवी खुदाबक़्श खान

मौलवी खुदाबक़्श खान पटना के प्रसिद्ध खुदाबक़्श लाइब्रेरी के संस्थापक थे जिसे इस्तांबुल सार्वजनिक ग्रंथालय के बाद दुनिया के दूसरा सबसे बड़े ग्रंथालय के रूप में देखा जाता है। आज यह राष्ट्रीय महत्व की संस्था मान ली गई है क्योंकि 1969 में संसद के एक ...

                                               

रामनाथ गोयनका

रामनाथ गोयनका भारत के मिडीया दिग्गज एवं पक्के राष्ट्रवादी थे। १९४२ के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के स्वयंभू सिपहसालार थे। इन्दिरा गांधी द्वारा लगाये गये आपातकाल का जमकर विरोध किया था। 2000 में इंडिया टुडे पत्रिका ने उन्ह ...

                                               

श्याम सूंदर सिंह "धीरज"

श्याम सूंदर सिंह "धीरज" वर्तमान में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के बिहार इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष है। श्री धीरज बिहार विधान सभा के पूर्व सदस्य एवं बिहार सरकार के पूर्व मंत्री भी रह चुके है।

                                               

मध्य प्रदेश के लोगों की सूची

यह मध्य प्रदेश, भारत के प्रसिद्ध और उल्लेखनीय लोगों की एक सूची है। इसमें ऐसे व्यक्ति शामिल किये गये है जिन्हें बड़ी संख्या में लोगों जानते हैं और उनकी लोकप्रियता किसी क्षेत्र विशेष पर आधारित हैं। भले ही उनकी प्रसिद्धि संक्षिप्त हो, लेकिन वे उस दौ ...

                                               

अन्शिफ अशरफ

अन्शिफ अशरफ एक अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष, मॉडरेटर, लेखक, उद्यमी और संपादक है। वह पारदीस समूह के संस्थापक और सी.ई.ओ है। अन्शिफ एक सफल उद्यमी है और वह भविष्य का वादा के रूप में ई - व्यापार लिया। वह भारत से पहले एशिया - प्रशांत आर्थिक सहयोग पुरस्कार का ...

                                               

ताजुद्दीन औलिया

1925 तक बाबा लगभग 65 वर्ष के थे तब बाबा के स्वास्थ्य में काफी गिरावट आई, और महाराजा राघोजी राव ने बाबा के इलाज के लिए नागपुर के सर्वश्रेष्ठ चिकित्सकों की सेवाओं का लाभ उठाया, लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ। इसके बाद, महल सभी के लिए खोला गया था। ऐस ...

                                               

पावरा

पावरा एक भारतीय आदिवासी लोग हैं। पावरा लोग भारत के महाराष्ट्र राज्य के नंदुरबार जिले में पाए जाते हैं। वे सतपुड़ा पर्वतमाला के जंगलों में रहते हैं। पावरा लोग भील जनजाति का एक हिस्सा हैं। पावरा लोग अमावस्या के दिन अम्बा, काकड़ और पीपल जैसे वृक्षों ...

                                               

इमरान खान (वेब विकासक)

इमरान खान अलवर, राजस्थान से एक भारतीय शिक्षक और एप विकासक है। वह संस्कृत शिक्षा विभाग में गणित के शिक्षक है, और एक आत्म-शिक्षित कंप्यूटर प्रोग्रामर है। उन्होंने 80 शैक्षिक मोबाइल अनुप्रयोगों और सौ से अधिक वेबसाइट विकसित किये है। वह नवंबर २०१५ में ...

                                               

जैत्रसिंह चौहान

जैत्रसिंह चौहान राजस्थान के एक राजपूत राजा थे। उन्हे रणथम्भौर साम्राज्य का एक महान शासक माना जाता है। रणथम्भौर साम्राज्य में महाराजा जैत्रसिंह का १२४९ ईस्वी के लगभग राज्यारोहण हुआ था। इन्होंने रणथम्भौर साम्राज्य पर ३२ साल तक शासन किया और रणथम्भौर ...

                                               

ठाकुर कुशाल सिंह

ठाकुर कुशाल सिंह चम्पावत १९वी शताब्दी के क्रांतिकारियों में से एक थे। जोधपुर रियासत में आउवा ठिकाने के ठाकुर कुशाल सिंह चॉपावत ने १८५७ के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान जोधपुर राज्य व अंग्रेजो की सम्मिलित सेना को हराया था। आउवा के ठाकुर कुशाल सिंह च ...

                                               

ठाकुर देशराज

ठाकुर देशराज भारत में भरतपुर में जघीना गाँव मे पैदा हुए। आपने किसानों में जागृति लाने के लिये संघर्ष किया। आपने 1934 में जाट-इतिहास पुस्तक लिखी।

                                               

भंवर लाल शर्मा

सरपंच 1962 से 1982 तक प्रधान 1982 से 1985 तक विधायक 1985 से आजतक उपमुख्य सचेतक मार्च 1990 से अक्टूबर 1990 तक केबिनेट मंत्री 1990 से 1992 तक

                                               

भामाशाह

भामाशाह बाल्यकाल से मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप के मित्र, सहयोगी और विश्वासपात्र सलाहकार थे। अपरिग्रह को जीवन का मूलमन्त्र मानकर संग्रहण की प्रवृत्ति से दूर रहने की चेतना जगाने में आप सदैव अग्रणी रहे। मातृ-भूमि के प्रति अगाध प्रेम था और दानवीरत ...

                                               

साक्षी-नाट्य-शिरोमणि

साक्षी-नाट्य-शिरोमणि सत्रहवीं सदी के मध्य में शिवानन्द गोस्वामी को उनकी विद्वत्ता और देवी त्रिपुर सुन्दरी के प्रति उनके अनन्य उपास्य भाव के सम्मानस्वरूप काशी के पंडितों द्वारा शास्त्रार्थ में पराजित होने के पश्चात् उन्हें दी गयी सम्मानसूचक उपाधि है।

                                               

अयोध्या प्रसाद शर्मा

अयोध्या प्रसाद शर्मा, फिजी के एक स्कूल शिक्षक, मजदूर नेता और राजनीतिज्ञ थे। इन्होनें 1937 में फिजी के गन्ना किसानों के पहले संघ, किसान संघ, की शुरुआत की थी, जिसके कारण 1940 में गन्ना किसानों को पहली बार गन्ना आपूर्ति से संबंधित अनुबंध प्राप्त हुआ ...

                                               

आई जे एस बुतालिया

लेफ्टिनेंट कर्नल आई जे एस बुटालिया, महावीर चक्र, का जन्म 12 फरवरी 1911 को हुआ था। श्री इकबाल सिंह के पुत्र लेफ्टिनेंट कर्नल आई जे एस बुटालिया को 31 जनवरी 1937 को डोगरा रेजिमेंट में नियुक्त किया गया था। 1948 मे शहीद होने से पूर्व तक इन्होने ने लगभ ...

                                               

कमान सिंह

लेफ्टिनेंट कर्नल कमान सिंह, एम वी सी भारतीय सेना में एक अधिकारी थे। वह 3 गढ़वाल राइफल्स के अधिकारी थे। उन्हें जम्मू और कश्मीर में भारत-पाक युद्ध के दौरान वीरता के लिए भारत के प्रथम गणतन्त्र दिवस 26 जनवरी 1950 को महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था।

                                               

मन मोहन खन्ना

लेफ्टिनेंट कर्नल मन मोहन खन्ना, एम वी सी भारतीय सेना में एक अधिकारी थे। वह 4 कुमाऊँ के अधिकारी थे। उन्हें जम्मू और कश्मीर में भारत-पाक युद्ध के दौरान वीरता के लिए भारत के प्रथम गणतन्त्र दिवस 26 जनवरी 1950 को महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था।

                                               

यदुनाथ सिंह (महावीर चक्र सम्मानित)

ब्रिगेडियर यदुनाथ सिंह, एम वी सी भारतीय सेना में एक अधिकारी थे। वह 19वीं पैदल ब्रिगेड के कमान अधिकारी थे। उन्हें जम्मू और कश्मीर में भारत-पाक युद्ध 1947 के दौरान वीरता के लिए भारत के प्रथम गणतन्त्र दिवस 26 जनवरी 1950 को महावीर चक्र से सम्मानित कि ...

                                               

सीसपाल सिंह

सीस पाल सिंह जाट रेजिमेंट में एक नायक थे। वे एक पारंपरिक सैन्य परिवार से थे तथा उनके पिता और दादा,दोनों,अलवर राज्य बल के अलवर इन्फैंट्री के सूबेदार के रूप में सेवानिवृत्त हुए। विश्व युद्ध I के बाद से उनके चाचा जाट रेजिमेंट में थे उनके दादा 1851 औ ...

                                               

हनूत सिंह राठौड़

हनूत सिंह राठौड़ भारतीय सेना के भूतपूर्व लेफ्टिनेंट जनरल थे। १९७१ के बंगलादेश मुक्ति संग्राम में उनकी भूमिका के लिये उन्हें महावीर चक्र प्रदान किया गया था। हनूत सिंह की अगुवाई में पूना हॉर्स रेजीमेंट ने वर्ष 1965 तथा 1971 के भारत-पाक युद्ध में पा ...

                                               

हरबंश सिंह विर्क

लेफ्टिनेंट कर्नल हरबंश सिंह विर्क, एम वी सी भारतीय सेना में एक अधिकारी थे। वह 3 पैरा मराठा लाइट इन्फेंट्री के अधिकारी थे। उन्हें जम्मू और कश्मीर में भारत-पाक युद्ध के दौरान वीरता के लिए भारत के प्रथम गणतन्त्र दिवस 26 जनवरी 1950 को महावीर चक्र से ...

                                               

आशीष चौधरी

आशीष चौधरी पूर्व भारतीय मॉडल और अभिनेता हैं जो बॉलीवुड फ़िल्मों में काम करते हैं। उन्हें सर्वप्रथम एक्शन फ़िल्म क़यामत में देखा गया। इसके पश्चात उन्होंने गर्लफ़्रेंड, स्पीड फ़िल्में की।

                                               

जयंता कुमार घोष

जयंता कुमार घोष को वि‍ज्ञान एवं इंजीनि‍यरी के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए 2014 में भारत सरकार ने पद्मश्री से सम्मानित किया। वे पश्‍चि‍म बंगाल राज्य से हैं।

                                               

मानव नेत्र

मानव नेत्र शरीर का वह अंग है जो विभिन्न उद्देश्यों से प्रकाश के प्रति क्रिया करता है। आँख वह इंद्रिय है जिसकी सहायता से देखते हैं। मानव नेत्र लगभग १ करोड़ रंगों में अन्तर कर सकता है। नेत्र शरीर की प्रमुख ज्ञानेंद्रिय हैं जिससे रूप-रंग का दर्शन हो ...

                                               

नेत्रकाचाभ द्रव

नेत्रकाचाभ द्रव एक पारदर्शी, बेरंग, पतला जन जो लेंस और रेटिना के बीच आंख में अंतरिक्ष भरता है। सिलिअरी शरीर के गैर-वर्णक भाग में कोशिकाओं द्वारा उत्पादित होते है, भ्रूण मिसेनच्यमे कोशिकाओं से व्युत्पन्न होते है, जन्म के बाद। नेत्रकाचाभ द्रव रेटिन ...

                                               

नेत्रोद

नेत्रोद एक तरल पदार्थ है, जो आँख के अग्रखंड में भरा रहता है। यह रक्तनालिकाओं से निकल कर लेंस को चारों ओर से आच्छादित रखता हुआ, पुतली द्वारा होकर अग्रखंड में आता है और फिर अग्रखंड के कोण से इसका बहिष्करण रक्त में होता रहता है। नेत्र के अंदर यह एक ...

                                               

पलक

पलक का अर्थ होता है आँख की पुतली के ऊपर का पपोटा जो इसकी सुरक्षा करता है। पलकें सिकुड़कर और खुलकर आँख के खुलने और बंद होने कि स्थितियाँ बनाती हैं। पलकों का झपकना एक वांछित या अनैच्छिक दोनों प्रकार की क्रिया है। पलकों के किनारों पर नन्हे बालों की ...

                                               

प्रकाशग्राही कोशिका

प्रकाशग्राही कोशिका आँखों के दृष्टि पटल में उपस्थित ऐसी कोशिका होती है जो दृश्य प्रकाशपारक्रमण की क्षमता रखता हो। यह अपने ऊपर प्रकाश के फ़ोटोन पड़ने पर उसे अन्य प्रकार के संकेतों में बदल देते हैं, जिनका प्रयोग दृष्टि पटल पर अंकित होने वाली छवियों ...

                                               

शंकु कोशिका

शंकु कोशिकाएँ स्तनधारी प्राणियों की आँखों के दृष्टि पटल में उपस्थित एक प्रकार की प्रकाशग्राही कोशिकाएँ होती हैं। आँखों में एक अन्य प्रकार की प्रकाशग्राही कोशिका भी होती है जिसे शलाका कोशिका कहते हैं। शंकु रंग दृष्टि प्रदान करते हैं और अधिक प्रकाश ...

                                               

शलाका कोशिका

शलाका कोशिकाएँ प्राणियों की आँखों के दृष्टि पटल में उपस्थित एक प्रकार की प्रकाशग्राही कोशिकाएँ होती हैं। आँखों में एक अन्य प्रकार की प्रकाशग्राही कोशिका भी होती है जिसे शंकु कोशिका कहते हैं। शंकुओं की तुलना में शलाकाएँ कम प्रकाश में देखने में अधि ...

                                               

स्वच्छमण्डल

स्वच्छमण्डल या कनीनिया आंखों का वह पारदर्शी भाग होता है जिस पर बाहर का प्रकाश पड़ता है और उसका प्रत्यावर्तन होता है। यह आंख का लगभग दो-तिहाई भाग होता है, जिसमें बाहरी आंख का रंगीन भाग, पुतली और लेंस का प्रकाश देने वाला हिस्सा होते हैं। कॉर्निया म ...

                                               

दाँत

दाँत मुख की श्लेष्मिक कला के रूपांतरित अंकुर या उभार हैं, जो चूने के लवण से संसिक्त होते हैं। दाँत का काम है पकड़ना, काटना, फाड़ना और चबाना। कुछ जानवरों में ये कुतरने, खोदने, सँवारने और लड़ने के काम में भी आते हैं। दांत, आहार को काट-पीसकर गले से ...