पिछला

ⓘ भारत के गाँव




                                               

अमृतपुर (धारी)

अमृतपुर भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। अमृतपुर गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

आंबरडी (धारी)

आंबरडी भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। आंबरडी गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

इंगोराळा (धारी)

इंगोराळा भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसीलों में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। इंगोराळा गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेत-मजदूरी, पशुपालन और रत्नकला-कारीगरी है। यहाँ पर गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पर शेऔर तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

इंटोली

इंटोली भारतीय राज्य राजस्थान के अलवर जिले के राजगढ़ तहसील का एक गाँव है। यह अपने ऐतिहासिक महत्व और वर्तमान में राजनितिक, सामाजिक जागरूकता के लिए जाना जाता हैं साथ ही यहां के लोग अपनी सादगी और जुझारूपन के लिए क्षेत्र में पहचाने जाते हैं।

                                               

कथीरवदर (धारी)

कथीरवदर भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। कथीरवदर गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

कमी (धारी)

कमी भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। कमी गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

करमदड़ी (धारी)

करमदड़ी भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। करमदड़ी गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

करेण (धारी)

करेण भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। करेण गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

कांगसा (धारी)

कांगसा भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। कांगसा गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

काथरोटा (धारी)

काथरोटा भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। काथरोटा गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

कुकलाह (M.P.22), सिवनी तहसील

कुकलाहभारत के राज्य मध्यप्रदेश के अन्तर्गत सिवनी जिले से 19 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 जबलपुर रोड पर श्रीवनी फिल्टर प्लांट से 1 किलोमीटर पूर्व दिशा कलारबाकी रोड पर स्थित हैँ यह ग्राम पँचायत 5 गाँव से मिलकर बनी हैँ कुकलाह, कुकलाह टोला, नारायणगंज, कुर्रामटोला, टोलापिपरिया ऐसे 5 पँचायत से मिलकर यह ग्रामपँचायत बनी हुई हैँ। यह ग्राम पँचायत बंडोल से 2 किलोमीटर की दूरी पर हैँ।

                                               

कुबडा (धारी)

कुबडा भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। कुबडा गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

केराला (धारी)

केराला भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। केराला गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

कोटडा (धारी)

कोटडा भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। कोटडा गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

कोठा पिपरीया (धारी)

कोठा पिपरीया भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। कोठा पिपरीया गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

खंभालिया (धारी)

खंभालिया भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। खंभालिया गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

खिचा (धारी)

खिचा भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। खिचा गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

खीसरी (धारी)

खीसरी भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। खीसरी गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

गढ़ीया चावंड (धारी)

गढ़ीया चावंड भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। गढ़ीया चावंड गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

गढ़ीया(धारी)

गढ़ीया भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। गढ़ीया गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

गरठिया /सिवनी जिला तहसील सिवनी

गरठिया भारत के राज्य मध्यप्रदेश के अन्तर्गत सिवनी जिले से 16 किलोमीटर ग्राम राहीवाड़ा से पश्चिम दिशा में गुरुधाम दिघोरी मार्ग पर स्थित है यह एक ग्राम पँचायत हैं यह ग्राम पँचायत 3 गाँव से मिलकर बनी है गरठिया,छुहाई,गंगई से मिलकर बनी हैं। यह पँचायत बंडोल पुलिस थाना के अतर्गत आती हैं।

                                               

गरमली (धारी)

गरमली भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। गरमली गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

गीगासण (धारी)

गीगासण भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। गीगासण गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

गोपालग्राम (धारी)

गोपालग्राम भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। गोपालग्राम गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

गोविंदपुर (धारी)

गोविंदपुर भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। गोविंदपुर गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

चंदौरी कला

भारत के राज्य मध्यप्रदेश के अन्तर्गत सिवनी जिला से 29 किलोमीटर दूर चंदौरी कला स्थित है इस गाँव का भोगोलिक क्षेत्रफल 898.83 हैक्टेयर हैँ। चंदौरी कला एक आदर्श ग्राम पँचायत हैँ। यह पँचायत चंदौरीकला और चंदौरी खुर्द से मिलकर बनी है यह शासकीय प्राथमिक शाला व शासकीय उप चिकित्सालय व पंचायत कार्यालय है। माचागोरा बाँध की वायी तट नहर इस गाँव में निर्मित बडे नहर पुल के ऊपर से बहती हुई बखारी गयी हैँ। इस पँचायत के आसपास का क्षेत्र बंडोल पुलिस थाना के अन्तर्गत आता है जंगली जानवरो में हिरण अत्याधिक होने के कारण यहाँ आसानी से देखे जा सकते हैँ वन विभाग बंडोल के क्षेत्राधिकार में यह संपूर्ण क्षेत्र आता हैँ।

                                               

चाँचई (धारी)

चाँचई भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। चाँचई गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

छतड़ीया (धारी)

छतड़ीया भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। छतड़ीया गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ है। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

छपारा

छपारा भारत के राज्य मध्यप्रदेश के अन्तर्गत सिवनी जिले से 32 किलोमीटर जबलपुर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रंमाक 7 पर स्थित है यह एक बडी ग्राम पँचायत है यह सिवनी जिले की एक तहसील हैँ वैनगंगा नदी यहाँ से प्रवाहित होती है इसी तहसील के भीमगढ़ में वैनगंगा नदी पर संजय सरोबर बांध बना हैँ। जिसका पीने का पानी सिवनी जिले तक पहुचायाँ जाता हैँ। छपारा का नामकरण 6 पुरवा के कारण छपारा हुआ ।

                                               

छोटा गरमली (धारी)

छोटा गरमली भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। छोटा गरमली गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

जलजीवड़ी (धारी)

जलजीवड़ी भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। जलजीवड़ी गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ हैं। गाँव का सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

जहांगीराबाद

जहांगीराबाद एक कस्बा है जोकि भारत देश के राज्य उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में हैै। यह कस्बा सीतापुर बहराइच स्टेट हाईवे 30B पर पड़ता है यहाँ से पश्चिम दिशा में बिसवां और पूर्व दिशा में  रेउसा बाजाऔर करसा गाँव पड़ता है।

                                               

जामोनिया

जमोनिया एक गाँव है, जो राजगढ़ जिले के ब्यावरा तहसील के मलावर पोस्ट में है। जिसमें ग्राम पंचायत है। इसमें माध्यमिक स्कूल है। इसकी जनसँख्या 2001 में 994 थी। अब 2010 की जनगणना के अनुसार 1024 है। खेती 1100 बीघा में होती है। इसके पास 500-600 मीटर की दूरी पर बंजारी माता का मन्दिर है। यहाँ पर पहाड़ी की चोटी है जिससे हम राजगढ़ जाल्पा माता की पहाड़ी भी देख सकते हैं। जनवरी 2013 में यहाँ प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में ये मलावर से जुड़ गया है। शाला: - माध्यमिक विद्यालय। मार्ग: - मलावर से 3 किलोमीटर उत्तर में।

                                               

डेकवा

डेकवा गाँव सवाई माधोपुर जिले की चौथ का बरवाड़ा पंचायत समिति के अंतर्गत आने वाला मीणा समाज का मुख्य गाँव है। इस गाँव का तहसील मुख्यालय सवाई माधोपुर व विधान सभा क्षेत्र खण्डार लगता है।

                                               

दिघोरी (गुरूधाम), सिवनी

यह शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी की जन्म स्थली हैँ। दिघोरी भारत के राज्य मध्यप्रदेश के अन्तर्गत सिवनी जिले से 16 किलोमीटर ग्राम राहीवाडा से पश्चिम दिशा मे गुरुधाम दिघोरी 8 किलोमीटर पर स्थित है यह एक ग्राम पँचायत हैँ।

                                               

नयागांव, सारण (बिहार)

नयागांव सोनपुर, सारण, बिहार स्थित एक अर्द्ध शहरी क्षेत्र है। यह रसूलपुर मौजा में स्थित है। नयागांव 67 किलोमीटर लंबी हाजीपुर-छपरा फोर लेन सड़क के पास है। फोरलेन सड़क निर्माण का कार्य मधुकॉन प्रोजेक्ट इंडिया कंपनी कर रही है। निर्माण का काम वर्ष 2011 से चल रहा है। नयागांव में कसतूरबा गाँधी बालिका आवासीय विघालय और गोगल सिंह इंटर स्तरीय विद्यालय स्थित है। छपरा-हाजीपुर सडक मार्ग पर दिघवारा- सोनपुर के बीच नयागांव के समीप डुमरी बुजुर्ग गांव मे 550 वर्ष पुराना मां कालरात्रि का प्राचीनतम मंदिर है। भाद्र मास के अमावस्या को विशेष पूजा होती है। सोनपुर अनुमंडल में नये आईटीआई भवन के लिए नयागांव में जमीन ...

                                               

नांगल सोती

नांगल सोती भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित नजीबाबाद ब्लॉक में एक गांव है। नांगल सोती मुरादाबाद डिवीजन से संबंधित है, और जिला मुख्यालय बिजनौर से 35 किमी, नजीबाबाद से 12 किमी और राज्य की राजधानी लखनऊ से 483 किमी दूर स्थित है।

                                               

नारोमुरार

नारोमुरार वारिसलीगंज प्रखण्ड के प्रशाशानिक क्षेत्र के अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग 31 से 10 KM और बिहार राजमार्ग 59 से 8 KM दूर बसा एकमात्र गाँव है जो बिहार के नवादा और नालंदा दोनों जिलों से सुगमता से अभिगम्य है। वस्तुतः नार का शाब्दिक अर्थ पानी और मुरार का शाब्दिक अर्थ कृष्ण, जिनका जन्म गरुड़ पुराण के अनुसार विष्णु के 8वें अवतार के रूप में द्वापर युग में हुआ, अर्थात नारोमुरार का शाब्दिक अर्थ विष्णुगृह - क्षीरसागर है। प्रकृति की गोद में बसा नारोमुरार गाँव, अपने अंदर असीम संस्कृति और परंपरा को समेटे हुए है। यह भारत के उन प्राचीनतम गांवो में से एक है जहाँ 400 वर्ष पूर्व निर्मित मर्यादा पुरुषोत ...

                                               

पादरला

पादरला जोधा राठौङो द्वारा स्थापित एक गाँव है, जो राजस्थान के पाली से 25 कि.मी. दूर स्थित है। इस गाँव को 20वीँ शताब्दी में ठाकुर साहब फतेह सिँह जी द्वारा बसाया गया था। इस गाँव के सुधारने का कार्य मुख्य रूप से कुँवर किशन सिँह जोधा द्वारा किया गया, जिनकी सादगी व समाज सुधार के कार्य की लोग आज भी मिसाल देते हैं। यहां प्रतिष्ठित देवासी जाति निवास करती हैं, जिसका इतिहास अनोखा है, जो निर्भीक,स्वाभिमानी और सादगी में जीवन यापन करने वाले लोग हैं।इस जाति को बसाने का श्रेय रतनाराम जी देवासी को जाता हैं।जो आलभाटी वंश से तालुक रखते है। ये वंश पशुपालन भेड़पालन व खेतीबाड़ी का कार्य करता है।

                                               

प्रधान की बरेजी

प्रधान की बरेजी गाजीपुर जिले की मुहम्मदाबाद तहसील का एक गांव है। सन 2011 में हुई जनगणना के मुताबिक इस गांव में कुल 227 परिवार निवास करते हैं। इस गांव की कुल जनसंख्या 1534 है, जिसमें महिलाओं की आबादी 803 है जबकि पुरुषों की कुल संख्या 732 है

                                               

बंडोल

बंडोल, भारत के राज्य मध्यप्रदेश के अन्तर्गत सिवनी जिला से 16 किलोमीटर उत्तर दिशा की ओर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 जबलपुर रोड पर स्थित हैँ इस गाँव का भोगोलिक क्षेत्रफल 706.95 हेक्टेयर है यह एक बडी ग्राम पंचायत हैँ। इसे बण्डोल या बन्डोल नाम से भी जाना जाता है। बंडोल ग्राम पंचायत में औद्योगिक इकाई के रूप में पशु आहार संयंत्र है जो साँची दुग्ध शीत केन्द्र के साथ यहाँ स्थापित किया गया है। 1 किलोमीटर की दूरी पर श्रीवानी जल शोधन प्लांट यहाँ स्थापित है। बन्डोल का यह संपूर्ण क्षेत्र सर्वाधिक स्टोन क्रेशर होने के कारण ज्यादा जाना जाता है इसकी गिट्टीयाँ आस-पास के जिले खासकर बालाघाट जिले में ज्यादा ...

                                               

बड़ा गरमली (धारी)

बड़ा गरमली भारत देश में गुजरात राज्य के सौराष्ट्र एवं काठियावाड़ प्रान्त में अमरेली ज़िले के ११ तहसील में से एक धारी तहसील का महत्वपूर्ण गाँव है। बड़ा गरमली गाँव के लोगों का मुख्य व्यवसाय खेती, खेतमजदूरी, पशुपालन और रत्नकला कारीगरी है। यहाँ पे गेहूँ, मूंगफली, तल, बाजरा, जीरा, अनाज, सेम, सब्जी, अल्फला इत्यादि की खेती होती है। गाँव में विद्यालय, पंचायत घर जैसी सुविधाएँ है। गाँव से सबसे नज़दीकी शहर अमरेली है। यहाँ पे शेर, तेंदुआ जैसे हिंसक वन्य प्राणी भी पाए जाते हैं।

                                               

बालावाली

बालावाली के निकट गंगा नदी पर लोहे का कैंचीनुमा पुल 1888 ब्रिटिश काल में 27 लाख 94 हजार रुपये की लागत से बनाया गया था। यह लौह रेल पुल रेल यातायात संचालित करने के लिए प्रयोग किया जाता था, पुल के अधिक पुराना हो जाने के कारण वर्ष 2001 में रेलवे ने इस पुल से रेलों का संचालन बंद कर दिया। रेलों के संचालन के लिए एक नया डबल रेल पुल 840 मीटर लम्बाई पुराने लोहे के पुल के निकट ही उत्तर दिशा की ओर रेलवे द्वारा बना दिया गया। अब ट्रेनें नए पुल से चल रही हैं। लगभग 130 वर्षीय रेलवे पुल को वर्ष 2016 से सड़क यातायात के लिए खोल दिया गया। यह रेलवे पुल उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड सीमा का एक भूमि चिह्न भी है, जोकि ...

                                               

बाहुपुरा

बाहुपुरा या कलाँपुर बुज़ुर्ग, तहसील नज़ीबाबाद ज़िला बिजनौर, उत्तर प्रदेश में स्थित एक गाँव है। बाहुपुरा गाँव में 60% से अधिक आबादी कृषि पर आधारित हैं| बहुत कम लोग सरकारी नौकरियों में हैं| अधिकतर लोग खेतीहर मजदूर हैं|

                                     

ⓘ भारत के गाँव

  • न र द श क: 27 30 N 79 24 E 27.5 N 79.4 E 27.5 79.4 अम ठ क हन फ र र ख ब द, फ र र ख ब द, उत तर प रद श स थ त एक ग व ह
  • और स न ब ड क ब द आन ध र प रद श म प रव श करत ह फ र स ल र स ग ज रकर यह नटवलस ग व म सम प त ह त ह र ष ट र य र जम र ग भ रत र ष ट र य र जम र ग
  • न र द श क: 25 06 N 85 54 E 25.10 N 85.90 E 25.10 85.90 कस ब स र यगढ लख सर य, ब ह र स थ त एक ग व ह
  • न र द श क: 27 30 N 79 24 E 27.5 N 79.4 E 27.5 79.4 अगरप र स ल त नप र पट ट फ र र ख ब द, फ र र ख ब द, उत तर प रद श स थ त एक ग व ह
  • भ रत क प र त, प र व म ग ल म भ रत क प र स ड स और इसस भ पहल प र स ड स कस ब भ रत य उपमह द व प म ब र ट श श सन क द र न क प रश सन क प रभ ग
  • न र द श क: 27 53 N 78 04 E 27.89 N 78.06 E 27.89 78.06 र मप र - 1 इगल स, अल गढ उत तर प रद श स थ त एक ग व ह
  • न र द श क: 27 53 N 78 04 E 27.89 N 78.06 E 27.89 78.06 र मप र - 2 इगल स, अल गढ उत तर प रद श स थ त एक ग व ह
  • न र द श क: 27 53 N 78 04 E 27.89 N 78.06 E 27.89 78.06 बसई - 2 इगल स, अल गढ उत तर प रद श स थ त एक ग व ह
  • भ रत क स व ध न क अन स र भ रत म स घ य व यवस थ ह ज स म नय द ल ल म क न द र सरक र तथ व भ न न र ज य व क न द र श स त र ज य क ल ए र ज य सरक र
  • न र द श क: 27 53 N 78 04 E 27.89 N 78.06 E 27.89 78.06 बसई - 1 इगल स, अल गढ उत तर प रद श स थ त एक ग व ह
                                               

अहमदनगर जैतवाड़ा, बिलारी (मुरादाबाद)

अहमदनगर सतारा, भारत की जनगणना के अनुसार, अहमदनगर सतारा गांव, तहसील बिलारी जिला मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश में स्थित है. राज्य कोड: 09 जिला कोड: 135 तहसील कोड: 00720 इस गांव में कुल 428 घर हैं और आबादी 2.881 है, जो 1.532 और 1.349 महिलाएं हैं ।

                                               

अहमदाबाद कसोरा, बिलारी (मुरादाबाद)

अहमदाबाद या भारत की जनगणना के अनुसार अहमदाबाद या गांव, तहसील बिलारी जिला मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश में स्थित है. राज्य कोड: 09 जिला कोड: 135 तहसील कोड: 00720 इस गांव में कुल 174 घर हैं और आबादी है 889, जिनमें से 498 और 391 महिलाएं हैं ।

यूजर्स ने सर्च भी किया:

...

गांव और पंचायत जिला शहडोल भारत.

2, बंडा, बंडा, गाँव की सूची. 10, गढ़ाकोटा, रहली, गाँव की. गांव और पंचायत जिला शेखपूरा, बिहार सरकार भारत. इलेक्ट्रानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा किया गया है। अंतिम अद्यतन तिथि: Feb 17, 2020. सेवा के रूप में सुरक्षित, स्केलेबल और सुगम्या वेबसाइट एक नई विंडो खोलती है राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र एक नई विंडो खोलता. गाँव जिला दक्षिण पश्चिम, दिल्ली सरकार भारत. गांव और पंचायत. गांव और पंचायत. जिले के गांव और ग्राम पंचायतो की सूची PDF 213KB. विकास खंड के अनुसार जिले की ग्राम पंचायत इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा किया गया है। अंतिम अद्यतन तिथि​: Feb 15, 2020. रेहल – एक कार्बन उत्सर्जन मुक्त गाँव भारत Rohtas. भारत गाँवों का देश है। जब भी हम ऐसा सोचते हैं तो हमारे सामने गाँवों की एक छवि बनकर आती है। जहाँ सड़कें कच्ची हैं, पानी आता नहीं, लोग ज़मींदार के खेत में काम करते हैं और ज़मींदार उनका ख़ूब ख़ून चूसता है। बिजली का भी पानी जैसा ही हाल है।.


...