पिछला

ⓘ काली आँधी




काली आँधी
                                     

ⓘ काली आँधी

काली आँधी धूल भरी उस आँधी अथवा प्रचंड वायु अथवा अल्पकालिक झंझा को कहते हैं जो वसन्त ऋतु के बाद भारतीय उपमहाद्वीप के सिन्धु-गंगा के मैदान में देखने को मिलती है। ये सामान्यतः अल्पकालिक होती हैं लेकिन दिन के समय में अन्धेरा करने के लिए पर्याप्त होती हैं जिससे नुकसान एवं दुर्घटनाएँ घटित होती हैं। उत्तरी भागों में ये मानसुन के समय और इसके आने का संकेत भी मानी जाती हैं।

                                     
  • उद हरण क ल ए ज ब र ल टर जलस ध स प न एव म र क क भ भ ग क अलग करत ह व अ ध मह स गर क भ मध य स गर स ज ड त ह और इस क ष त र पर स प न, ब र ट न और म र क क
  • भ ग क ब र ट श क म लन स पहल मर ठ ओ क पर ज त क य गय थ 1803 म अ ध और शक त ह न श ह आलम II न औपच र क र प स ब र ट श ईस ट इ ड य क पन क स रक षण
  • ध र व क बह त प स ज पक ष द ख गए ह व ह ह म ब ट ग, उत तर फ ल मर और क ल - ट ग व ल क ट व क, यद यप क छ पक ष य क द ख ज न क सम च र त ड - मर ड
  • अग रद स अग रद स ज क एक पद इस प रक र ह - पहर र म त म ह र स वत म मत म द अ ध नह ज वत अपम रग म रग मह ज न य इ द र प ष प र ष रथ म न य औरन क बल
  • प रस क र - अर ज न प ड त 1976 - फ ल मफ यर सर वश र ष ठ सह यक अभ न त प रस क र - आ ध Salt - and - pepper memories with Sanjeev Kumar ह न द स त न ट इम स. November
  • लम ब त बक ल Toubkal पर वत ह अतल स पर वत क श र ण य भ मध य स गर और अ ध मह स गर क स थ लग तट य क ष त र क सह र र ग स त न स ब टत ह इस पर वत य
  • ज त ह कभ - कभ क ल क अन स र पर वर तन सम भव ह अ ध प स क त त ख य - प रय ग: प ल क क क र य पर स च ल त द क न म ड एम क अ ध प स क त त ख य
  • करत ह वह त ज क आ ख ख लत ह ज स न य क प य र स प र तरह स अ ध ह धर म न द र श कर ह म म ल न म ल रणध र कप र स न दर य ग त ब ल
  • प रत यक ष अवल कन करत थ कहत ह ऋष द र घतमस स र य क अध ययन करन म ह अ ध ह ए, ऋष ग त स मद न चन द रम क गर भ पर ह न व ल पर ण म क ब र म बत य
  • उनक न ज ह उनक प रस द ध कह न ध म भ द गन त क श र आत इस तरह ह त ह आ ध म त तल य क य करत ह - अक सर म इस सव ल क ल कर च न त त रहत ह
  • ग ल ड न ह र न क गहर ई बड जह ज क आव गमन क ल ए भ उपय क त ह और यह आ ध त फ न इत य द स प र णतय स रक ष त ह आय त क ज न व ल वस त ए मक क ल ह
  • श म क ग त, क ल स हब, प जर अआड न टक: ल टत ह आ द न, बड ख ल ड जय - पर जय, स वर ग क झलक, भ वर, अ ज द द एक क स ग रह : अन ध गल म खड

यूजर्स ने सर्च भी किया:

...

CCS Haryana Agricultural University Online catalog.

शहर था शहर नहीं नदी बहती थी अग्नि स्नान. कमलेश्वर काली आँधी डाक बंगला तीसरा आदमी कितने पाकिस्तान. वृन्दावन लाल वर्मा जयशंकर प्रसाद आकासदीप आँधी प्रतिध्वनि. अज्ञेय विपथगा शरणार्थी परम्परा तेरे ये प्रतिरुप. फासीवाद के साहित्यिक सांस्‍कृतिक प्रतिरोध्‍य के. जन्म: 6 जनवरी 1932, मृत्यु: 27 जनवरी 2007 उपन्यास एक सड़क सत्तावन गलियाँ, तीसरा आदमी, डाक बंगला, समुद्र में खोया हुआ आदमी, काली आँधी, आगामी अतीत, सुबह दोपहर शाम, रेगिस्तान, लौटे हुए मुसाफ़िर, वही बात, एक और चंद्रकांता, कितने. कमलेश्वर: ऐसे कलमकार जिनकी कलम जिस विधा को छूती. भारत में इन दिनों हीन भाव की काली आँधी चल रही है। दिल्ली के रामलीला मैदान से पटना के गाँधी मैदान तक या श्रीनगर के.


...