पिछला

ⓘ कान्तो क्षेत्र




कान्तो क्षेत्र
                                     

ⓘ कान्तो क्षेत्र

कान्तो क्षेत्र या कांटो क्षेत्र जापान का सबसे बड़े द्वीप होन्शू का भौगोलिक क्षेत्र हैं। इस क्षेत्र में ग्रेटर टोक्यो क्षेत्र शामिल हैं, और इसमें सात प्रांत शामिल हैं: गुनमा प्रांत, टोचिगी प्रांत, इबाराकी प्रांत, सैतमा प्रांत, टोक्यो प्रांत, चिबा प्रांत, और कानागावा प्रांत। इसकी सीमाओं के भीतर, भूमि क्षेत्र का 45% से अधिक हिस्सा कान्तो मैदान हैं। शेष क्षेत्र पहाड़ियों और पर्वतों के हैं, जो क्षेत्र की सीमाएं बनाती हैं। जापान सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा 1 अक्टूबर, 2010 को एक आधिकारिक जनगणना के अधार पर, यहाँ की जनसंख्या 42.607.376 थी। जोकि जापान की कुल आबादी का लगभग एक तिहाई हिस्सा थी।

                                     

1. इतिहास

सामंत काल में कामकुरा अवधि और फिर ईची अवधि के दौरान, कान्तो आधुनिक विकास का केंद्र बन गया। ग्रेटर टोक्यो क्षेत्और विशेषकर टोक्यो-योकोहामा महानगरीय क्षेत्र के भीतर, कान्तो न केवल जापान की सरकार की सीट हैं, बल्कि देश के सबसे बड़े विश्वविद्यालयों और सांस्कृतिक संस्थानों, सबसे बड़ी आबादी और एक बड़े औद्योगिक क्षेत्र का भी हिस्सा हैं। हालांकि अधिकांश कांतो मैदान आवासीय, वाणिज्यिक या औद्योगिक निर्माण के लिए उपयोग किया गया हैं, फिर भी यहाँ अभी भी खेती की जाती हैं। यहाँ चावल मुख्य फसल हैं, हालांकि टोक्यो और योकोहामा के आसपास के क्षेत्र को महानगरीय बाजार के लिए प्राकृतिक उद्यान उत्पाद पैदा करने कि लिये विकसित किया गया हैं।

                                     

2. शहर

कान्तो क्षेत्र जापान का सबसे उच्च विकसित, शहरीकृत और औद्योगिक हिस्सा हैं। टोक्यो और योकोहामा में प्रकाश और भारी उद्योग केन्द्रित एक एकल औद्योगिक परिसर टोक्यो खाड़ी के पास निर्मित हैं। इस क्षेत्र के अन्य प्रमुख शहरों में कावासाकी कानागावा प्रांत में; सैतामा सैतामा प्रांत में; और चिबा चिबा प्रांत में हैं। 1991 में औसत जनसंख्या घनत्व 1.192 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर तक पहुंच गया था।

                                     

3. उप-विभाजन

उत्तर और दक्षिण

क्षेत्र को सबसे अधिक उप-विभाजित किया जाता हैं तो वो है: "उत्तरी कान्तो" 北関東 किता-कांटो जिसमें इबारकी, टोचिगी, और गुनमा प्रांत शामिल हैं, और "दक्षिणी कान्तो" 南関東 मिनमी-कान्तो, जिसमें सैतामा कभी-कभी उत्तर में वर्गीकृत, चिबा, टोक्यो महानगर कभी-कभी अकेले, और कानागावा प्रांत शामिल हैं।

पूर्व और पश्चिम

यह विभाजन अक्सर उपयोग नहीं होता हैं, लेकिन कभी-कभी इस्तेमाल भी होता हैं:

  • पूर्वी कान्तो 東関東 हाशिशी-कांटो: इबाराकी, टोचिगी और चिबा प्रांत।
  • पश्चिमी कान्तो 西 関 東 निशी-कांटो: गुनमा, सैटामा, टोक्यो, कानागावा और कभी कभी यमानाशी प्रांत।
                                     
  • ह एक स प स - म र ग र जध न क व हद तर ट क य क ष त र क अन य ब न द ओ स ज ड त ह ज स क न त क ष त र और क य श और श क क द व प अन य पर वहन क स धन
  • म र ग र न थ इत य द उन भ वग त म अत यध क ल कप र य ह ज वन क क मल और क त भ व क स थ व चरण करन वल लथ ल क प र य थ अ धक र म खड ह कर र न क
  • ए प वरम ट र ग य ल शन एज स HEERA रख गय ह न त आय ग क स ईओ अम त भ क त और उच चतर श क ष सच व क क शर म क अल व क छ अन य व श षज ञ क एक सम त
  • rfhf jgsf Hf f hgfc क स त र क स र य क स प क ष क त क स प क ष क त कहत ह इसम स र य क क त म न ल ज त ह इस प रक र क अध ययन स हम त र
  • छ ट क श कहत ह प ड त द व क त ठ क र म र ब ब ह व भ स स क त क प रक ड व द व न थ म र प त ज श र स ध क त ठ क र, क ल श पत उच च व द य लय
  • स क क और अन य अवश ष स पत चलत ह क यह क ष त र द सर शत ब द क आसप स क ण द र जव श क अध न थ क न त प रस द न ट य ल न अपन प स तक, आर क ल ज ऑफ
  • म नस म द र बन द क न म स ज न ज त ह बन द क न त कहल न व ल र ध क त र य र म प रत प र य व श व न थ र य न ग द र र य बन द क वर तम न चमन
  • न गन थ म द र सम त क ल म द र नगर क लगभग दस क ल म टर क ष त र म स थ प त ह व र वल प रभ स क ष त र क मध य म सम द र क क न र म द र बन ह ए ह शश भ षण
  • कर ह आ थ यह क ष त र पहल त क ग व श ग नर ज क घर थ त क ग व इय स इस क ष त र क तब तक अध क र म रख ह ए थ जब तक क वह क त क ष त र म ह ज कब ल
  • प र च न स ह त य म इस क ष त र क उल ल ख उत तर खण ड क र प म क य गय ह ह न द और स स क त म उत तर खण ड क अर थ उत तर क ष त र य भ ग ह त ह र ज य

यूजर्स ने सर्च भी किया:

...

State News In Hindi Sirsa News haryana news people troubled by.

शेरगबी क्षेत्र मै मिसानो की भावान खुद उसे बात्ती चित. किशोरी देवी ने ए बड़े मान्दोलन बाजेतव पिाधा। पहिल्या 3 कप में भी अखबारों में राजामौ बलात्मा कान्तो बशोषण. मीजानही त्या मंगेजो लडा व्यबहारमादि इसये. बापा जाताथा इसडे महाग. जापान के क्षेत्र. कान्तो क्षेत्र मुखपृष्ठ. झारखंड के अंदर कई ऐसे क्षेत्र थे, जहां अंग्रेजों के पैर उखड़ जाते थे अंग्रेजों के जमाने में राज्य में स्थानीय स्तर पर उठे दुन्दा मुंडा और कान्तो सरदार ने लोगों का नेतृत्व किया और अंग्रेजों सोदाम गुटु पहाड़ी पर विद्रोहियों के साथ सेना.


...