पिछला

ⓘ भूगोल




                                               

अनुप्रयुक्त भूगोल

अनुप्रयुक्त भूगोल मानव भूगोल की एक प्रमुख अपेक्षाकृत सबसे नई शाखा हैं। इसके अन्तर्गत वर्तमान मानवीय समस्याओं जैसे - अल्प विकास, जन्संख्या का आधिक्य, नगरीय एवं भूमि-उपयोग, मानव-स्वास्थ्य से सम्बन्धित समस्याओं, नगर-नियोजन आदि का अध्ययन अधिकतम मानव कल्याण की नज़र से किया जाता हैं।

                                               

अवस्थिति (भूगोल)

भूगोल में, भौगोलिक अवस्थिति पृथ्वी की सतह पर किसी वस्तु अथवा अवघटना की सटीक स्थिति है। यह जगह या स्थान से भिन्न है क्योंकि, स्थान मानवीय अवबोध द्वारा चिह्नित होता है जबकि अवस्थिति स्थान-निर्धारण की अधिक सटीक और ज्यामितीय विधि है। भौगोलिक निर्देशांक पद्धति का प्रयोग करते हुए यदि पृथ्वी पर किसी बिंदु को मात्र अक्षांस-देशांतर के मानों द्वारा ही बताया जाय तो यह अवस्थिति की जानकारी देना हुआ, वहीं यदि अक्षांश-देशांतर के मानों के साथ कोई भौतिक-सांस्कृतिक लक्षण अथवा पहचान भी बताई जाय तो यह उस बिंदु को "स्थान" के रूप में चिह्नित करना कहलायेगा। अवस्थिति की अवधारणा का विकास और अनुप्रयोग, भूगोल में 50 ...

                                               

ईरान का भूगोल

ईरान भौगोलिक तौपर पश्चिम एशिया में स्थित है। इसकी सीमाएँ कैस्पियन सागर, फारस की खाड़ी और ओमान की खाड़ी से जा लगती हैं। इसके पहाड़ों ने सदियों से देश के राजनीतिक और आर्थिक इतिहास को आकार दिया है। यहाँ के पहाड़ कई विस्तृत घाटियों को घेरते हैं, जिन पर प्रमुख कृषि और शहरी बस्तियाँ बसागई हैं। ये बेसिन 20 वीं सदी तक एक दूसरे से अपेक्षाकृत अलग-थलग रहते थे। फिर पहाड़ों के माध्यम से प्रमुख राजमार्गों और रेलमार्गों का निर्माण करके जनसंख्या केंद्रों को जोड़ा गया। आमतौर पर, प्रत्येक बेसिन में किसी एक प्रमुख शहर का वर्चस्व था। इस शहर के आसपास सैकड़ों गांव होते थे, और इनके और शहर के बीच जटिल आर्थिक संबं ...

                                               

ऐतिहासिक भूगोल

ऐतिहासिक भूगोल किसी स्थान अथवा क्षेत्र की भूतकालीन भौगोलिक दशाओं का या फिर समय के साथ वहाँ के बदलते भूगोल का अध्ययन है। यह अपने अध्ययन क्षेत्र के सभी मानवीय और भौतिक पहलुओं का अध्ययन किसी पिछली काल-अवाधि के सन्दर्भ में करता है या फिर समय के साथ उस क्षेत्र के भौगोलिक दशाओं में परिवर्तन का अध्ययन करता है। बहुत सारे भूगोलवेत्ता किसी स्थान का इस सन्दर्भ में अध्ययन करते हैं कि कैसे वहाँ के लोगों ने अपने पर्यावरण के साथ अंतर्क्रियायें कीं और किस प्रकार इन क्रियाओं के परिणामस्वरूप उस स्थान के भूदृश्यों का उद्भव और विकास हुआ। आज के परिप्रेक्ष्य में भूगोल की इस शाखा का जो रूप दिखाई पड़ता है उसका सर ...

                                               

कमला नदी

कमला नदी नेपाल से उत्पन्न होकर मुख्यतः भारत के बिहार राज्य में बहने वाली एक नदी है। यह नदी मिथिलांचल में गंगा नदी के बाद सर्वाधिक पुण्यदायिनी तथा महत्वपूर्ण उर्वरा-शक्ति युक्त मानी जाती है।

                                               

गिरनार

भारत के गुजरात राज्य के जूनागढ़ जिले स्थित पहाड़ियाँ गिरनार नाम से जानी जाती हैं। यह जैनों का सिद्ध क्षेत्र है यहाँ से नारायण श्री कृष्ण के सबसे बड़े भ्राता तीर्थंकर भगवन देवादिदेव 1008 नेमीनाथ भगवान ने मोक्ष प्राप्त किया जिनके पाँचवी टोंक पर चरण है यह अहमदाबाद से 327 किलोमीटर की दूरी पर जूनागढ़ के १० मील पूर्व भवनाथ में स्थित हैं। यह एक पवित्र स्थान है जो जैन एवं हिंदू घर्माबलंबियों दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ है। हरे-भरे गिर वन के बीच पर्वत-शृंखला धार्मिक गतिविधि के केंद्र के रूप में कार्य करती है। इन पहाड़ियों की औसत ऊँचाई 3.500 फुट है पर चोटियों की संख्या अधिक है। इनमें जैन तीर्थं ...

                                               

ज्वालामुखी विस्फोटों के प्रकार

ज्वालामुखी के विस्फोट के समय लावा, टेफ्रा और विभिन्न गैसें ज्वालामुखी से निकलतीं हैं। ज्वालामुखी विशेषज्ञों ने ज्वालामुखी-विस्फोटों के अनेक प्रकारों का वर्णन किया है। इनका नामकरण प्रायः प्रसिद्ध ज्वालामुखियों के नाम पर किया गया है जिसमें उसी प्रकार का व्यवहार देखने को मिला था। कई प्रकार के ज्वालामुखीय विस्फोट-जिसके दौरान लावा, टेफ्रा, और मिश्रित गैसों को ज्वालामुखीय वेंट या फिशर से निष्कासित कर दिया जाता है-ज्वालामुखीविदों द्वारा प्रतिष्ठित किया गया है। इन्हें अक्सर प्रसिद्ध ज्वालामुखी के नाम पर रखा जाता है जहाँ उस प्रकार का व्यवहार देखा गया है। कुछ ज्वालामुखी गतिविधि की अवधि के दौरान केवल ...

                                               

नेपाल का भूगोल

26° 20 से 30° 10 उत्तरी अक्षांश तथा 80° 15 से 88° 10 पू.दे.। यह स्वतंत्र राष्ट्र मध्य एशिया में हिमालय के पर्वतीय क्षेत्र में स्थित है। इसका क्षेत्रफल 54.563 वर्ग मील है। इसके दक्षिण में भारत के बिहार एवं उत्तर प्रदेश राज्य, पश्चिम में उत्तराखण्ड, पूर्व में पश्चिमी बंगाल राज्य एवं सिक्किम राज्य तथा उत्तर में तिब्बत है। हिमालय की 500 मील लंबी शृंखला इसकी लंबाई में पड़ती है, अत: नेपाल की सीमा के अंदर या सीमा पर कई ऊँची चोटियाँ हैं। इसकी औसत लंबाई पूर्व से पश्चिम 530 मील और उत्तर से दक्षिण इसकी चौड़ाई 156 से 89 मील तक है।

                                               

पर्यावरण

पर्यावरण शब्द का निर्माण दो शब्दों से मिल कर हुआ है। "परि" जो हमारे चारों ओर है"आवरण" जो हमें चारों ओर से घेरे हुए है। पर्यावरण उन सभी भौतिक, रासायनिक एवं जैविक कारकों की समष्टिगत इकाई है जो किसी जीवधारी अथवा पारितंत्रीय आबादी को प्रभावित करते हैं तथा उनके रूप, जीवन और जीविता को तय करते हैं। सामान्य अर्थों में यह हमारे जीवन को प्रभावित करने वाले सभी जैविक और अजैविक तत्वों, तथ्यों, प्रक्रियाओं और घटनाओं के समुच्चय से निर्मित इकाई है। यह हमारे चारों ओर व्याप्त है और हमारे जीवन की प्रत्येक घटना इसी के अन्दर सम्पादित होती है तथा हम मनुष्य अपनी समस्त क्रियाओं से इस पर्यावरण को भी प्रभावित करते ...

                                               

प्लेट विवर्तनिकी

प्लेट विवर्तनिकी एक वैज्ञानिक सिद्धान्त है जो पृथ्वी के स्थलमण्डल में बड़े पैमाने पर होने वाली गतियों की व्याख्या प्रस्तुत करता है। साथ ही महाद्वीपों, महासागरों और पर्वतों के रूप में धरातलीय उच्चावच के निर्माण तथा भूकम्प और ज्वालामुखी जैसी घटनाओं के भौगोलिक वितरण की व्याख्या प्रस्तुत करने का प्रयास करता है। यह सिद्धान्त बीसवीं शताब्दी के प्रथम दशक में अभिकल्पित महाद्वीपीय विस्थापन नामक संकल्पना से विकसित हुआ जब 1960 के दशक में ऐसे नवीन साक्ष्यों की खोज हुई जिनसे महाद्वीपों के स्थिर होने की बजाय गतिशील होने की अवधारणा को बल मिला। इन साक्ष्यों में सबसे महत्वपूर्ण हैं पुराचुम्बकत्व से सम्बन्ध ...

                                               

भूकम्पीय तरंग

भूकम्पीय तरंगें पृथ्वी की व सतह पर चलने वाली ऊर्जा की तरंगें होती हैं, जो भूकम्प, ज्वालामुखी विस्फोट, बड़े भूस्खलन, पृथ्वी के अंदर मैग्मा की हिलावट और कम-आवृत्ति की ध्वनि-ऊर्जा वाले मानवकृत विस्फोटों से उत्पन्न होती हैं।

                                               

भूगोल

भूगोल वह शास्त्र है जिसके द्वारा पृथ्वी के ऊपरी स्वरुप और उसके प्राकृतिक विभागों का ज्ञान होता है। प्राकृतिक विज्ञानों के निष्कर्षों के बीच कार्य-कारण संबंध स्थापित करते हुए पृथ्वीतल की विभिन्नताओं का मानवीय दृष्टिकोण से अध्ययन ही भूगोल का सार तत्व है। पृथ्वी की सतह पर जो स्थान विशेष हैं उनकी समताओं तथा विषमताओं का कारण और उनका स्पष्टीकरण भूगोल का निजी क्षेत्र है। भूगोल शब्द दो शब्दों भू यानि पृथ्वी और गोल से मिलकर बना है। भूगोल एक ओर अन्य श्रृंखलाबद्ध विज्ञानों से प्राप्त ज्ञान का उपयोग उस सीमा तक करता है जहाँ तक वह घटनाओं और विश्लेषणों की समीक्षा तथा उनके संबंधों के यथासंभव समुचित समन्वय ...

                                               

भूगोल का इतिहास

भूगोल का इतिहाइस भूगोल नामक ज्ञान की शाखा में समय के साथ आये बदलावों का लेखा जोखा है। समय के सापेक्ष जो बदलाव भूगोल की विषय वस्तु, इसकी अध्ययन विधियों और इसकी विचारधारात्मक प्रकृति में हुए हैं उनका अध्ययन भूगोल का इतिहास करता है। भूगोल प्राचीन काल से उपयोगी विषय रहा है और आज भी यह अत्यन्त उपयोगी है। भारत, चीन और प्राचीन यूनानी-रोमन सभ्यताओं ने प्राचीन काल से ही दूसरी जगहों के वर्णन और अध्ययन में रूचि ली। मध्य युग में अरबों और ईरानी लोगों ने यात्रा विवरणों और वर्णनों से इसे समृद्ध किया। आधुनिक युग के प्रारंभ के साथ ही भौगोलिक खोजों का युग आया जिसमें पृथ्वी के ज्ञात भागों और उनके निवासियों क ...

                                               

भूगोल की रूपरेखा

ज्ञान के फलक का तात्पर्य एक ऐसे त्रिविमीय विन्यास है जिसे पूर्णरूपेण समझने के लिए हमें तीन दृष्टि बिन्दुओं से निरीक्षण करना चाहिए। इनमें से किसी भी एक बिन्दु वाला निरीक्षण एक पक्षीय ही होगा और वह संपूर्ण को प्रदर्शित नहीं करेगा। एक बिन्दु से हम सदृश वस्तुओं के संबंध देखते हैं। दूसरे से काल के संदर्भ में उसके विकास का और तीसरे से क्षेत्रीय संदर्भ में उनके क्रम और वर्गीकरण का निरीक्षण करते हैं। इस प्रकार प्रथम वर्ग के अंतर्गत वर्गीकृत विज्ञान, द्वितीय वर्ग में ऐतिहासिक विज्ञान, और तृतीय वर्ग में क्षेत्रीय या स्थान-संबंधी विज्ञान आते हैं। वर्गीकृत विज्ञान पदार्थो या तत्वों की व्याख्या करते है ...

                                               

भूगोल शब्दावली

अजैव: कोई भी अजीवित वस्तु; सामान्यतः इसका तात्पर्य प्राणी के पर्यावरण के भौतिक और रासायनिक घटकों से होता है। अपसौर/सूर्योच्च: पृथ्वी के परिक्रमा पथ का वह बिंदु जो सूर्य से सर्वाधिक दूर 152.5मिलियन कि-मी- होता है। अपसौर 3 अथवा 4 जुलाई को घटित होता है। अधिकेंद्र/एपिसेंटर: पृथ्वी की सतह पर वह स्थल-बिंदु जो भूकंप के उद्गम केंद्र से सब से कम दूरी पर स्थित होता है और इसी स्थल-बिंदु पर भूकंपी तरंगों की ऊर्जा का विमोचन होता है। अवरोही पवन: पर्वतीय ढाल से नीचे की ओर बहने वाली पवन। आवास: पारिस्थितिकी के संदर्भ में प्रयुक्त शब्द जिससे किसी पौधे या प्राणि के रहने के स्थान/क्षेत्र का बोध होता है। एल नि ...

                                               

भौगोलिक सूचना तंत्र

भौगोलिक सूचना तंत्र या भौगोलिक सूचना प्रणाली अथवा संक्षेप में जी॰आई॰एस॰) कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को भौगोलिक सूचना के साथ एकीकृत कर इनके लिए आंकड़े एकत्रण, प्रबंधन, विश्लेषण, संरक्षण और निरूपण की व्यवस्था करता है। भूगोलीय निर्देशांक प्रणाली को मुख्यत: तीन तरीकों से देखा जा सकता है। मानचित्र: यह ऐसे मानचित्रों का समूह होता है जो पृथ्वी की सतह सबंधी बातें विस्तार से बताते है। यह डेटाबेस के लिये इंटरफेस का कार्य भी करते हैं और इनके जरिये स्थानिक पृच्छा spatial query की जा सकती है। डेटाबेस: यह डेटाबेस संसार का अनन्य तरीके का डेटाबेस होता है। एक तरह से यह भूज्ञान की सूचना प्रणाली होती है ...

                                               

भौतिक भूगोल

भौतिक भूगोल भूगोल की एक प्रमुख शाखा है जिसमें पृथ्वी के भौतिक स्वरूप का अध्ययन किया जाता हैं। यह धरातल पर अलग जगह पायी जाने वाली भौतिक परिघटनाओं के वितरण की व्याख्या व अध्ययन करता है, साथ ही यह भूविज्ञान, मौसम विज्ञान, जन्तु विज्ञान और रसायनशास्त्र से भी जुड़ा हुआ है। इसकी कई उपशाखाएँ हैं जो विविध भौतिक परिघटनाओं की विवेचना करती हैं।

                                               

मानचित्र

पृथ्वी के सतह के किसी भाग के स्थानों, नगरों, देशों, पर्वत, नदी आदि की स्थिति को पैमाने की सहायता से कागज पर लघु रूप में बनाना मानचित्रण कहलाता हैं। मानचित्र दो शब्दों मान और चित्र से मिल कर बना है जिसका अर्थ किसी माप या मूल्य को चित्र द्वारा प्रदर्शित करना है। जिस प्रकार एक सूक्ष्मदर्शी किसी छोटी वस्तु को बड़ा करके दिखाता है, उसके विपरीत मानचित्र किसी बड़े भूभाग को छोटे रूप में प्रस्तुत करते हैं जिससे एक नजर में भौगोलिक जानकारी और उनके अन्तर्सम्बन्धों की जानकारी मिल सके। मानचित्र को नक्शा भी कहा जाता है। आजकल मानचित्र केवल धरती, या धरती की सतह, या किसी वास्तविक वस्तु तक ही सीमित नहीं हैं। ...

                                               

मानव पारिस्थितिकी

मानव पारिस्थितिकी एक अंतर्विषयक विज्ञान है जो मनुष्य, मानव समाज और मानव निर्मित पर्यावरण के प्राकृतिक पर्यावरण के साथ अन्योन्याश्रय संबंधों का अध्ययन करता है। विज्ञान की इस शाखा का विकास बीसवीं सदी के आरम्भ में एक साथ कई शास्त्रों के चिंतनफ़लक में हुए परिवर्तन का परिणाम है। यह विज्ञान अपनी अध्ययन सामग्री और विधियों तथा सिद्धांतों के लिये जीव विज्ञान, पारिस्थितिकी, समाजशास्त्र, अर्थशास्त्और भूगोल आदि पर आश्रित है। "मानव पारिस्थितिकी" शब्द का पहली बार प्रयोग एलेन स्वैलो रिचर्ड्स Ellen Swallow Richards द्वारा उनके लेख "Sanitation in Daily Life", में हुआ जिसमें उन्होंने इसे "मनुष्य के आसपास के ...

                                               

मानव भूगोल

मानव भूगोल, भूगोल की प्रमुख शाखा हैं जिसके अन्तर्गत मानव की उत्पत्ति से लेकर वर्तमान समय तक उसके पर्यावरण के साथ सम्बन्धों का अध्ययन किया जाता हैं। मानव भूगोल की एक अत्यन्त लोकप्रिय और बहु अनुमोदित परिभाषा है, मानव एवं उसका प्राकृतिक पर्यावरण के साथ समायोजन का अध्ययन। मानव भूगोल में पृथ्वी तल पर मानवीय तथ्यों के स्थानिक वितरणों का अर्थात् विभिन्न प्रदेशों के मानव-वर्गों द्वारा किये गये वातावरण समायोजनों और स्थानिक संगठनों का अध्ययन किया जाता है। मानव भूगोल में मानव-वर्गो और उनके वातावरणों की शक्तियों, प्रभावों तथा प्रतिक्रियाओं के पारस्परिक कार्यात्मक सम्वन्धों का अध्ययन, प्रादेशिक आधापर क ...

                                               

मुख्यभूमि

मुख्यभूमि किसी भौगोलिक क्षेत्र में ऐसा बड़ा भूभाग होता है जो किसी प्राकृतिक बाधा से अपने से छोटे भूभाग से पृथक हो। उदाहरण के लिए भारत की मुख्यभूमि और उसी देश के अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह के द्वीपों के बीच बंगाल की खाड़ी है। "मुख्यभूमि" शब्द अक्सर द्वीपों और प्रायद्वीपों के सन्दर्भ में प्रयोग होता है।

                                               

मौलिक समतल (गोलीय निर्देशांक)

किसी गोलीय निर्देशांक प्रणाली में मौलिक समतल ऐसा एक काल्पनिक समतल होता है जो उस गोले को दो बराबर के गोलार्धों में विभाजित कर दे। फिर उस गोले पर स्थित किसी भी बिन्दु का अक्षांश उस समतल और गोले के केन्द्र से बिन्दु को जोड़ने वाली रेखा के बीच का कोण होता है। पृथ्वी पर यह समतल भूमध्य रेखा द्वारा निर्धारित करा गया है। यदि पृथ्वी के ज्यामितीय केन्द्र से नई दिल्ली शहर के बीच के क्षेत्र तक एक काल्पनिक रेखा खींची जाये तो उसका इस समतल से बना कोण ऐंगल लगभग २८.६१३९° बनेगा और यह समतल से उत्तर में है। इसलिये भूगोलीय निर्देशांक प्रणाली के तहत नई दिल्ली का अक्षांश भी २८.६१३९° उत्तर 28.6139° N माना जाता है।

                                               

विकि.जीआईएस

विकी. जीआईएस या जीआईएस इनसाइक्लोपीडिया भौगोलिक सूचना प्रणाली को समर्पित एक विश्वकोश है। जीआईएस पेशेवरों, छात्रों और जीआईएस में रुचि रखने वाले किसी भी व्यक्ति के लाभ के लिए जीआईएस समुदाय से इस भण्डार में योगदान शामिल है। विकी में जीआईएस अवधारणाओं, नई प्रौद्योगिकियों, उत्पादों, लोगों और संगठनों के बारे में जानकारीपूर्ण लेख शामिल हैं। जीआईएस का कोई भी ज्ञान किसी भी व्यक्ति को खाता बनाने के लिए स्वागत से अधिक है और उस पृष्ठ को नए पेज बनाकर या मौजूदा पृष्ठों को विस्तारित करके उस जानकारी को साझा करना शुरू कर सकता है।

                                               

साइबर भूगोल

साइबर भूगोल इंटरनेट आधारित संक्रियाओं और ब्रोड्बैंड सुविधाओं के वास्तविक स्थानों के सन्दर्भ में मापन और निरूपण से संबंधित विज्ञान है। यह इंटरनेट की आभासी दुनिया में हो रही चीज़ों को वास्तविक दुनिया में लोकेट करके उनके पृथ्वी पर विभिन्न स्थानों के सन्दर्भ में व्याख्या करने का कार्य करता है।

                                               

सिरेनेइका

सिरेनेइका लीबिया के पूर्वी भाग में स्थित एक प्रदेश है। भूमध्यसागर तट पर स्थित इस प्रदेश के पूर्व में मिस्र, पश्चिम में ट्रिपोलीटेनिया एवं दक्षिण में चाड गणतंत्र है। इसमें कूफा मरुद्यान भी सम्मिलित है। तटीय भाग की जलवायु भूमध्यसागरीय है। गर्मी की ऋतु उष्ण एवं शुष्क होती है। भीतरी भागों में वर्षा की मात्रा कम होती है तथा तट से १२५ किमी की दूरी पर मरुस्थलीय दशाएं पायी जाती हैं। तटीय क्षेत्र में बेनगाजी और डेरना के बीच में तथा गेबल-एल-अखदार पठार में जनसंख्या केंद्रित है जहां वार्षिक वर्षा १६ इंच के आसपास हो जाती है। जौ, गेहूं, जैतून एवं अंगूर मुख्य कृषि उपज हैं। कफ्रू एवं जिआलो नामक मरुद्यानों ...

यूजर्स ने सर्च भी किया:

...

टॉलेमी भूगोल.

भूगोल की विभिन्न शाखाएं Branches of Geography Vivace. ऐतिहासिक, भौगोलिक ज्ञान के सच हमारे प्रधानमंत्री जी के मुखारविंद से आए दिन निकलते रहे हैं आनेवाली पीढ़ियां देश के इसी तरह के इतिहास, भूगोल के ज्ञान को अर्जित करेंगी! राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त. ताजा प्रकरण मध्य प्रदेश. यूनानी भूगोल. Page 1 भौतिक भूगोल के मूल सिद्धांत कक्षा 11 के. प्राचीन इतिहास प्रारंभ में प्राचीन इकाई ने सामाजिक संरचनाओं, राजनीतिक प्रक्रियाओं, कृषि संबंधों, शहरीकरण, व्यापार, व्यापारियों और शिल्पकारों, धर्म, समाज, कला और स्थापत्य कला के साथ साथ ऐतिहासिक भूगोल शास्त्र के विकास पर अध्ययन. भूगोल में नियतिवाद. Hindi Indian Geography in Hindi, Geography of India in Hindi. भौगोलिक चिन्तन का क्रम विकास: भारतीय, जर्मन, फ्रांसीसी, ब्रिटिश तथा रूसी भूगोल वेत्ताओं के योगदान, मानव भूगोल के राजनीतिक व्यवस्था ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में एकता एवं विविधता, राज्य पुनर्गठन, प्रादेशिक चेतना एवं राष्ट्रीय.


...